Friday, February 3, 2012

SAMRAT HARSHVARDHAN A GREAT VAISHYA-सम्राट हर्षवर्धन

Harsha or Harsha Vardhana orHarshvardhan (Hindi: हर्षवर्धन) (c. 590—647) was an Indianemperor who ruled northern India from 606 to 647 AD. He was the son of Prabhakara Vardhana and younger brother of Rajya Vardhana, a king of Thanesar, Haryana. At the height of his power his kingdom spanned thePunjab, Rajasthan, Gujarat, Bengal, Orissa and the entireIndo-Gangetic plain north of the Narmada River.

After the downfall of the Gupta Empire in the middle of the sixth century CE, North India reverted to small republics and small monarchical states. Harsha, a Buddhist convert, united the small republics from Punjab to central India, and they, at an assembly, crowned Harsha king in April 606 AD when he was merely 16 years old.

They were descended from a certain Pushyabhuti who founded and ruled the kingdom of Sthanvisvara or modern Thanesar, an ancient Hindu pilgrimage centre and one of the 51 Shaktipeeth's, now a small town in the vicinity of the newly created Kurukshetra in the state of Haryana north of Delhi. The name Pushpabhuti is the key to Harsha's origins and the relevant reference point is an inscription dated 181 AD and found at Gunda in the state of Gujarat. That inscription mentions a general of Rudrasimha I or Rudrasingh by the name Rudrabhuti. Rudradaman I, an ancestor of Rudrasimha I had conquered the Yaudheya, who were the original masters of Haryana.

Ancestry

Xuanzang, the famous Chinese Buddhist monk, scholar, traveler, and translator who described the interaction between China and India in the early Tang period, stated that Harsha was of Vaishya caste.

After the downfall of the Gupta Empire in the middle of the sixth century CE, North India was split into several independent kingdoms. The Hunas had established their supremacy over the Punjab. The northern and western regions of India passed into the hands of a dozen or more feudatory states.

Prabhakara Vardhana, the ruler of Sthanvisvara, who belonged to the Pushyabhuti family, extended his control over neighboring states. Prabhakar Vardhan was the first king of the Vardhana dynasty with his capital at Thaneswar.

After Prabhakar Vardhan’s death in 606 CE, his eldest son, Rajya Vardhana, ascended the throne. Harsha Vardhana was Rajya Vardhana’s younger brother.

This period of kings from the same line has been referred to as the Vardhana dynasty in many publications,

Ascension

Rajya Vardhana’s and Harsha’s sister Rajyasri had been married to the Maukhari king, Grahavarman. This king, some years later, had been defeated and killed by king Devagupta of Malwa and after his death Rajyasri had been cast into prison by the victor. Harsha's brother, Rajya Vardhana, then the king at Thanesar, could not stand this affront on his family, marched against Devagupta and defeated him. But it so happened at this moment that Shashanka, king of Gauda in Eastern Bengal, entered Magadha as a friend of Rajyavardhana, but in secret alliance with the Malwa king. Accordingly, Sasanka treacherously murdered Rajyavardhana.

On hearing about the murder of his brother, Harsha resolved at once to march against the treacherous king of Gauda and killed Deva Gupta in a battle. Harsha ascended the throne at the age of 16.

Wars and reign

Though quite a young man when he came to power, Harsha proved himself a great conqueror and an able administrator. After his accession, Harsha united the two kingdoms of Thanesar and Kannauj and transferred his capital from Thanesar to Kannauj.

Harsha set out to punish his rival, Shashanka, the lord of Gauda (Bengal). He formed an alliance with Bhaskaravarman, king of Kamarupa and marched on Shashanka. Although he defeated his rival, the result was indecisive as Shashanka continued to rule much of his kingdom and it was only after his death that Harsha was able to oust Shashanka's son, Manava and bring Bihar, Kanauj and northern Bengal under his rule (Bhaskaravarman was able to conquer the remainder of the Shashanka's kingdom). He conquered Dhruvasena of Gujarat and gave his own daughter in marriage to him. He also conquered Ganjam (whose king was a vassal of Shashanka), a part of the modern Orissa State.

Harsha's ambition of extending his power to the Deccan and Southern India were stopped by the great Chalukya Empreror of South India Pulakeshi II, the Chalukya king of Vatapi in Northern Karnataka along the banks of river Narmada. Pulakeshi defeated Harsha's army on the banks of the river Narmada in 620 AD. A truce was agreed upon and the river Narmada was marked as the southern boundary of Harsha's kingdom.

Harsha was an energetic ruler who travelled frequently in order to keep himself accessible to his subjects. In the latter half of his reign, he spent most of his time in camp, travelling from place to place. He was a man of considerable literary interests and talents and despite his administrative duties, he managed to write plays i.e. Ratnavali, Priyadarshika and Nagananda, of which, the first two are comedies in the classical style and the third has a serious religious theme. He maintained a magnificent court where philosophers, poets, dramatists and painters flourished. Bana, the author of Harsha-Charita and Kadambari, was the court poet of Harsha. Maurya, the author of Mayurashataka, and Bhartrihari, the author of Vakyapadiya and a grammarian, also lived at the court of Harsha. Harsha was the chief patron of the University of Nalanda where about 10,000 students from all parts of India and abroad studied.

Patron of Buddhism and literature

Harsha's father, Prabhākara was, apparently a sun-worshipper and of Bargujar clan, his brother followed Hinayana Buddhism while, according to Bana, Harsha himself was a Mahayana Buddhist. Harsha was a tolerant ruler and supported all Indic (or Hindu) faiths – Buddhism, Vedism and Jainism. Early in his life, he seems to have been a follower of Sun Worship, becoming a patron of Shaivism and Buddhism later on.

His sister Rajyashri's conversion to Buddhism presumably had a positive effect on his support to the religion. His approach to religion is evident in his celebrated play Nagananda. The play's theme is based on the Jataka tale of the BodhisattvaJimutavahana, but Harsha introduces the Goddess Gauri, Shiva's consort, as the saviour of Jimutavahana, a feature not found in the Jataka. The great Indian mathematician Brahmagupta also lived in the Empire of Harshavardhana.

According to the Chinese Pilgrim Xuanzang, who visited his kingdom in 636 CE, Harsha built numerous stupas in the name of Buddha. Xuanzang entered a grand competition organized by Harsha and won the theological debate. Harsha also became a patron of art and literature. He made numerous endowments to the University at Nalanda. Two seals of Harsha have been found in Nalanda in the course of the excavations. All these favours and donations of the great emperor were crowned by the construction of a lofty wall enclosing all the buildings of the university to defend the institution from any other possible attack. In 643 he held a Buddhist convocation at Kannauj which was reputedly attended by 20 kings and thousands of pilgrims.

In 641, following Xuanzang's visit, Harsha sent a mission to China which established the first diplomatic relations between China and India. The Chinese responded by sending an embassy consisting of Li Yibiao and Wang Xuanze, who probably traveled through Tibet and whose journey is commemorated in inscriptions at Rajagriha – modern Rajgir, and Bodhgaya.

Harsha was a noted author on his own merit. He wrote three Sanskrit plays –Nagananda, Ratnavali and Priyadarsika. His reign is comparatively well documented, thanks to his court poet Bana and Xuanzang. Bana composed an account of Harsha's rise to power in Harsha Charitha, the first historical poetic work in Sanskrit language. Xuanzang wrote a full description of his travels in India.

Harsha's participation in the cultured life of his court was more direct than that of most kings, and it is in his personal contribution to Sanskrit literature that he clearly overshadows them. To him are assigned three plays: Priyadarsika, Ratnavali, and the Nagananda. In addition, he is credited with two significant poems on Buddhist themes - the Ashtamahasricaityastotra (Praise to Eight Grand Caityas [Buddhist assembly halls]) and Suprabhatastotra (Laud to Morning) - and a tract on grammatical gender, the Linganusasanam. Harsha's authorship has been disputed on several occasions, but no decisive contrary arguments have been proposed.

The Priyadarsika appears to be the earliest of Harsha's plays. It and the Ratnavali deal with the amorous adventures of the king Vatsa, his queen Vasavadatta, and newcomers to the royal harem. Both plays borrow from the earlier works of Bhasa and Kalidasa (especially the latter's Malavikagnimitra) and are based ultimately on material in the collection Brhatkatha. These plays lack thematic novelty but sustain interest through brisk dialogue. Both are frequently cited by later writers on dramatic theory and technique.

Harsha's Nagananda is his most important play. It is, in fact, a singular creation in Sanskrit drama. This five-act drama draws again on the Brhatkatha for the substance of its first three acts. In them, the hero, Jimutavahana, Prince of the Vidyadharas, meets and marries the Siddha princess Malayavati. To that point, the romance of the fairy prince and princess is quite conventional.

The mood of the play changes sharply in the fourth act. Jimutavahana discovers mounds of skeletons which evidence the daily sacrifice of serpents to the celestial bird Garuda. The hero resolves to offer his own body so that the serpents may be spared (a type of resolution very familiar in Buddhist literature). At the drama's conclusion it is the non-Buddhist goddess Gauri, however, who restores the bodhisattva, Jimutavahana, to life. In this attractive and moving drama, Harsha combined Buddhist and "Hindu" themes adroitly and uniquely, and through it one sees clearly his artistic and political genius.

Aftermath

Harsha died in the year 647 AD. He ruled for 41 years. After Harsha's death, apparently without any heirs, his empire died with him. The kingdom disintegrated rapidly into small states. The succeeding period is very obscure and badly documented, but it marks the culmination of a process that had begun with the invasion of the Huns in the last years of the Gupta Empire.

Neither Bana's nor Xuanzang's account gives any details of this period. A few tantalising glimpses are offered in some ancient Chinese and Tibetan Books. The one in the Tibetan book The White Annals tells that Harsha had sent an envoy to the Chinese Emperor, who in turn sent a Chinese one(named in the Chinese sources as Wang Xuance) with a convoy of thirty horsemen. When they reached India they found that Harsha was dead and his minister Arjuna had usurped the throne. Arjuna is said to have been persecuting the Buddhists and attacked the envoy who had to flee to Tibet. The Tibetan king decided to avenge the insult to the Chinese emperor and sent the envoy back with an army that finally managed to defeat and take Arjuna and his family as prisoners, and sent them back as prisoners to the Chinese emperor. Historians have not yet managed to unravel what the facts were from these meagre accounts. Harsha had two sons named Vagyavardhan and Kalyanvardhan. They were killed by Arunashwa, a chief minister in harsha's court. Harshavardhan's wife was durgavati was taken prisoner.


साभार : विकिपीडिया

Thursday, February 2, 2012

चन्द्रगुप्त विक्रमादित्य ( A GREAT VAISHYA SAMRAAT)

चन्द्रगुप्त विक्रमादित्य (राज 380-413) गुप्त राजवंश का राजा।



चन्द्रगुप्त द्वितीय महानजिनको संस्कृत मेंविक्रमादित्य या चन्द्रगुप्त विक्रमादित्य के नाम से जाना जाता है; गुप्त वंश के एक महान शक्तिशाली सम्राट थे। उनका राज्य 375-413/15 ई तक चला जिसमें गुप्त राजवंश ने अपना शिखर प्राप्त किया । गुप्त साम्राज्य का वह समय भारत का स्वर्णिम युग भी कहा जाता है। चन्द्रगुप्त द्वितीय महान अपने पूर्व राजा समुद्रगुप्त महान के पुत्र थे। उसने आक्रामक विस्तार की नीति एवं लाभदयक पारिग्रहण नीति का अनुसार करके सफलता प्राप्त की ।








चन्द्रगुप्त विक्रमादित्य की मुद्रा 

चंद्रगुप्त द्वितीय विक्रमादित्य (375 ई - लगभग 414 ई.) समुद्रगुप्त के एरण अभिलेख से स्पष्ट है कि उनके बहुत से पुत्र पौत्र थे, किंतु अपने अंतिम समय में उन्होंने चंद्रगुप्त को अपना उत्तराधिकारी नियुक्त किया। चंद्रगुप्त द्वितीय एवं परवर्ती गुप्तसम्राटों के अभिलेखों से भी यही ध्वनित होता है कि समुद्रगुप्त की मृत्यु के उपरांत चंद्रगुप्त द्वितीय ही गुप्तसम्राट् हुए। किंतु इसके विपरीत, अंशरूप में उपलब्ध 'देवीचंद्रगुप्तम्‌' एवं कतिपय अन्य साहित्यिक तथा पुरातात्विक अभिलेख संबंधी प्रमाणों के आधार पर कुछ विद्वान्‌ रामगुप्त को समुद्रगुप्त का उत्तराधिकारी प्रमाणित करते हैं। रामगुप्त की अयोग्यता का लाभ उठाकर चंद्रगुप्त ने उसके राज्य एवं रानी दोनों का हरण कर लिया। रामगुप्त की एतिहासिकता संदिग्ध है। भिलसा आदि से प्राप्त ताम्र सिक्कों का रामगुप्त उस प्रदेश का कोई स्थानीय शासक ही रहा होगा।


चंद्रगुप्त द्वितीय की तिथि का निर्धारण उनके अभिलेखों आदि के आधार पर किया जाता है। चंद्रगुप्त का, गुप्तसंवत्‌ 61 (380 ई.) में उत्कीर्ण मथुरा स्तंभलेख, उनके राज्य के पाँचवें वर्ष में लिखाया गया था। फलत: उनका राज्यारोहण गुप्तसंवत्‌ 61-5= 56= 375 ई. में हुआ। चंद्रगुप्त द्वितीय की अंतिम ज्ञात तिथि उनकी रजतमुद्राओं पर प्राप्त हाती है- गुप्तसंवत्‌ 90+ 0= 409- 410 ई.। इससे अनुमान कर सकते हैं कि चंद्रगुप्त संभवत: उपरिलिखित वर्ष तक शासन कर रहे थे। इसके विपरीत कुमारगुप्त प्रथम की प्रथम ज्ञात तिथि गुप्तसंवत्‌ 96= 415 ई., उनके बिलसँड़ अभिलेख से प्राप्त होती है। इस आधर पर, ऐसा अनुमान किया जाता है कि, चंद्रगुप्त द्वितीय के शासनकाल का समापन 413-14 ई. में हुआ होगा।


चंद्रगुप्त द्वितीय के विभिन्न लेखों से ज्ञात देवगुप्त एवं देवराज-अन्य नाम प्रतीत होते हैं। अभिलेखों एवं मुद्रालेखों से उनकी विभिन्न उपाधियों- महाराजाधिराज, परमभागवत, सिंहविक्रम, नरेंद्रचंद्र, नरेंद्रसिंह, विक्रमांक एव विक्रमादित्य आदि- का ज्ञान होता है।

उनका सर्वप्रथम सैनिक अभियान सौराष्ट्र के शक क्षत्रपों के विरुद्ध हुआ। संघर्ष प्रक्रिया एवं अन्य संबद्ध विषयों का विस्तृत ज्ञान उपलब्ध नहीं होता। चंद्रगुप्त के सांधिविग्रहिक वीरसेन शाब के उदयगिरि (भिलसा के समीप) गुहालेख से, उनका समस्त पृथ्वी जतीने के उद्देश्य से वहाँ तक आना स्पष्ट है। इसी स्थान से प्राप्त चंद्रगुप्त के सामंत शासक सनकानीक महाराज के गुप्तसंवत्‌ 82 (= 401-2 ई.) के लेख तथा आम्रकार्दव नाम के सैन्याधिकारी के साँची गुप्तसंवत्‌ 93 (= 412-13 ई.) के शिलालेख से मालव प्रदेश में उनकी दीर्घ-उपस्थिति प्रत्यक्ष होती है। संभवत: चंद्रगुप्त द्वितीय ने शक रुद्रसिंह तृतीय के विरुद्ध युद्धसंचालन तथा विजयोपरांत सौराष्ट्र के शासन को यहीं से व्यवस्थित किया हो। चंद्रगुप्त की शकविजय का अनुमान उनकी रजतमुद्राओं से भी होता है। सौराष्ट्र की शकमुद्रा परंपरा के अनुकरण में प्रचलित इन मुद्राओं से भी होता है। सौराष्ट्र की शकमुद्रा परंपरा के अनुकरण में प्रचलित इन मुद्राओं पर चंद्रगुप्त द्वितीय का चित्र, नाम, विरुद एवं मुद्राप्रचलन की तिथि लिखित है। शक मुद्राओं से ज्ञात अंतिम तिथि 388 ई. प्रतीत होती है। इसके विपरीत इन सिक्कों से ज्ञात चंद्रगुप्त की प्रथम तिथि गुप्तसंवत्‌ 90+ 0 है। फलत: अनुमान किया जा सकता है कि चंद्रगुप्त की सैराष्ट्रविजय प्राय: 20 वर्षों के सुदीर्घ युद्ध के पश्चात्‌ 409 ई. के बाद ही कभी पूर्णरूपेण सफल हुई होगी। सम्राट् चंद्रगुप्त की शकविजय उन्हें साहित्यिक अनुश्रुतियों के शकारि विक्रमादित्य एव रामगुप्त की कथाओं से संबद्ध कर सकती है।


चंद्रगुप्त के सेनाध्यक्ष आम्रकार्दव, अपने सांची अभिलेख में स्वयं को, अनेक समरावाप्तविजययशसूपताक: कहते हैं। इन अनेक समरों के उल्लेख से यह भी अनुमान किया जा सकता है कि चंद्रगुप्त ने शकयुद्ध के अतिरिक्त अन्य युद्ध भी किए होंगे। किंतु वर्तमान स्थिति में उनका विवेचन अप्रमाणित है। दिल्ली में कुतुबमीनार के पार्श्व में स्थित लौहस्तंभ पर किन्हीं (सम्राट्) चंद्र की विजयप्रशस्ति उत्कीर्ण है। चंद्र की पहचान प्राचीन भारत के विभिन्न सम्राटों से की जाती रही है (देखिए चंद्र)। किंतु प्राय: विद्वान्‌ उनकी पहचान चंद्रगुप्त द्वितीय से करते हैं। यदि इस सिद्धांत को सही माना जाय तो कहना न होगा कि द्वितीय चंद्रगुप्त ने वंग प्रदेश में संगठित रूप से आए हुए शत्रुओं को पराजित किया एवं (युद्ध द्वारा) सिंधु के सात मुखों को पार कर वाह्लीकों को जीता। वंग को पहचान साधारणतया पूर्वी बंगाल (प्राचीन सम्राट) तथा बाह्लीक की बल्ख (वैक्ट्रिया) से की जाती हैं, यद्यपि कुछ आश्चर्य नहीं जो वाह्लीकों की निवास पश्चिमी पाकिस्तान में ही कहीं रहा हो। सम्राट् चंद्रगुप्त द्वितीय के साथ चंद्र के अभिज्ञान को मानने में कठिनाइयाँ भी हैं। चंद्रगुप्त द्वितीय ने अपना राज्य पिता द्वारा उत्तराधिकार में प्राप्त किया था, किंतु लौहस्तंभ के चंद्र ने अपने स्वभजार्जित विस्तृत साम्राज्य का उल्लेख किया है।

साहित्य में बहुचर्चित सम्राट् विक्रमादित्य की पहचान भी संदिग्ध है। ऐसा प्रतीत होता है कि विक्रमादित्य संबंधी कथाशृंखंला की पृष्ठभूमि में अनेक शक्तिशाली सम्राटों की यशोगाथाएँ हैं। किंतु विभिन्न दृष्टियों से देखने पर, विशेषत: अपनी शकविजय के संदर्भ में, चंद्रगुप्त द्वितीय ही विक्रमादित्य कथापरंपरा के वास्तविक नायक प्रतीत होते हैं। चंद्रगुप्त को विक्रमादित्य उपाधि उनकी स्वर्णमुद्राओं पर प्राप्त होती है।


साम्राज्य

चंद्रगुप्त का साम्राज्य सुविस्तृत था। इसमें पूर्व में बंगाल से लेकर उत्तर में संभवत: बल्ख तथा उत्तर-पश्चिम में अरब सागर तक के समस्त प्रदेश सम्मिलित थे। इस विस्तृत साम्राज्य को स्थिरता प्रदान करने की दृष्टि से चंद्रगुप्त ने अनेक शक्तिशाली एवं ऐश्वर्योन्मुखी राजपरिवारों से विवाहसंबंध स्थापित किए। स्वयं उनकी द्वितीय रानी कुबेरनागा 'नागकुलसंभूता' थी। कुबेरनागा से उत्पन्न प्रभावतीगुप्त वाकाटकनरेश रुद्रसेन द्वितीय को ब्याहीं थी। नागों एवं वाकाटकों की भौगोलिक स्थिति से सिद्ध है कि उनसे गुप्तसाम्राज्य को पर्याप्त बल एवं सहायता मिली होगी। कुंतल प्रदेश के कदंब नरेश शांतिवर्मन के तालगुंड अभिलेख से विदित है कि राजा काकुस्थ (त्स्थ) वर्मन की पुत्रियाँ गुप्त एवं अन्य राजाओं को ब्याहीं थीं। कुमारी का विवाह चंद्रगुप्त द्वितीय या उनके किसी पुत्र से हुआ होगा।


साम्राज्य को शासन की सुविधा के लिये विभिन्न इकाइयों में विभाजित किया गया था। सम्राट् स्वयं राज्य का सर्वोच्च अधिकारी था। उसकी सहायता के लिये मंत्रिपरिषद् होती थी। राजा के बाद दूसरा उच्च अधिकारी युवराज होता था। मंत्री मंत्रिपरिषद् का मुख्य अधिकारी एवं अध्यक्ष था। चंद्रगुप्त द्वितीय के मंत्री शिखरस्वामी थे। इन्हें करमदांड अभिलेख में कुमारामात्य भी कहा है। इस संबंध में यह ज्ञातव्य है कि गुप्तकाल में युवराजों के साहाय्य के लिये स्वतंत्र परिषद् हुआ करती थी। वीरसेन शाब को 'अन्वयप्राप्तसचिव' कहा है। ये चंद्रगुप्त के सांधिविग्रहिक थे। किंतु सेनाध्यक्ष संभवत: आम्रकार्दव थे। चंद्रगुप्त के समय के शासकीय विभागों के अध्यक्षों में (1) कुमारामात्याधिकरण (2) बलाधिकरण (3) रणभांडाधिकरण (4) दंडपाशाधिकरण (5) विनयशूर (6) महाप्रतीहार (7) तलवर (?) (8) महादंडनायक (9) विनयस्थितिस्थापक (10) भटाश्वपति और (11) उपरिक आदि मुख्य हैं।

शासन की सबसे बड़ी इकाई प्रांत था। प्रांतों के मुख्य अधिकारी उपरिक कहे जाते थे। तीरभुक्ति-उपरिक-अधिकरण के राज्यपाल महाराज गोविंदगुप्त थे। उनकी राजधानी वैशाली थी। शासन की प्रांतीय इकाई देश या भुक्ति कहलाती थी। प्रांतों का विभाजन अनेक प्रदेशों या विषयों में हुआ था। वैशाली के सर्वोच्च शासकीय अधिकारी का विभाग वैशाली-अधिष्ठान-अधिकरण कहलाता था। नगरां एवं ग्रामों के शासन के लिय अलग परिषद् होती थी। ग्रामशासन के लिये ग्रामिक, महत्तर एवं भोजक उत्तरदायी होते थे।

चंद्रगुप्त की राजधानी पाटलिपुत्र थी। किंतु परवर्ती कुंतलनरेशों के अभिलेखों में उसे पाटलिपुरवराधीश्वर एवं उज्जयिनीपुरवराधीश्वर दोनों कहा है। बहुत संभव है, कि शक रुद्रसिंह की पराजय के बाद चंद्रगुप्त ने हपने राज्य की दूसरी राजधानी उज्जयिनी बनाई हो। साहित्यग्रंथों में विक्रमादित्य को भी इन दोनों ही नगरों से संबद्ध किया गया है। उज्जयिनी विजय के बाद ही कभी मालव संवत्‌ विक्रमादित्य के नाम से संबद्ध होकर विक्रम-संवत्‌ नाम से अभिहित होने लगा होगा। यों यह संवत्‌ 58 ई.पू. से ही आरंभ हो गया प्रतीत होता है

चंद्रगुप्त के राज्यकाल में चीनी यात्री फाह्यान ने भारत का भ्रमण किया। फाह्यान (400-411 ई.) ने तत्कालीन सामाजिक एवं धार्मिक स्थिति तथा व्यवस्था का अत्यंत सजीव उल्लेख किया है। मध्यदेश का वर्णन करते हुए फाह्यान ने लिखा है कि लोग राजा की भूमि जोतते हैं और लगान के रूप में उपज का कुछ अंश राजा को देते हैं। और जब चाहते हैं तब उसकी भूमि को छोड़ देते हैं और जहाँ मन में आता है जाकर रहते हैं। राजा न प्राणदंड देता है और न शारीरिक दंड। अपराध की गुरुता या लघुता की दृष्टि में रखते हुए अर्थदंड दिया जाता है। बार बार राजद्रोह करनेवाले अपराधों का दाहिना हाथ काट लिया जाता है। राज्याधिकारियों को नियत वेतन मिलता है। नीच चांडालों के अतिरिक्त न तो कोई जीवहिंसा करता है, न मदिरापान करता और न लहसुन प्यास खाता है। पाटलिपुत्र में फाह्यान ने अशोक के समय के भव्य प्रासाद देखे। वे अत्यंत सुंदर थे और ऐसा लगता था जैसे मानवनिर्मित न हों। पाटलिपुत्र मध्यदेश का सबसे बड़ा नगर था। लोग धनी और उदार थे। अच्छे धार्मिक कार्य करने में एक दूसरे से स्पर्धा करते थे। देश में चोर डाकुओं का कोई भय नहीं था।

चंद्रगुप्त के काल की आर्थिक संपन्नता उसकी प्रचुर स्वर्णमुद्राओं से पुष्ट होती है। इसके अतिरिक्त उसने रजत एवं ताम्र मुद्राओं का प्रचलन भी किया। रजत एवं ताम्र मुद्राओं का प्रचलन संभवत: स्थानीय था, किंतु उसकी स्वर्णमुद्राएँ सार्वभौम प्रचनल के लिये थीं।


साभार : विकी पेडिया 







समुद्रगुप्त (A GREAT VAISHYA SAMRAAT)


समुद्रगुप्त (राज 335-380) गुप्त राजवंश का राजा।


समुद्र्गुप्त भारत का महान शासक था जिसने अपने जीवन काल मे कभी भी पराजय का स्वाद नही चखा। अतः उसके बारे मे स्मिथ ने सही कहा है कि समुद्रगुप्त "भारत का नेपोलियन" था।

परिचय

समुद्रगुप्त (328-378 ई.) गुप्तवंशीय महाराजाधिराज चंद्रगुप्त प्रथम की पट्टमहिषी लिच्छिवि कुमारी श्रीकुमरी देवी का पुत्र। चंद्रगुप्त ने अपने अनेक पुत्रों में से इसे ही अपना उत्तराधिकारी चुना और अपने जीवनकाल में ही समुद्रगुप्त को शासनभार सौंप दिया था। प्रजाजनों को इससे विशेष हर्ष हुआ था किंतु समुद्रगुप्त के अन्य भाई इससे रुष्ट हो गए थे और उन्होंने आरंभ में मृत्युयुद्ध छेड़ दिया था। भाइयों का नेता 'काच' था। काच के नाम के कुछ सोने के सिक्के भी मिले है। गृहकलह को शांत करने में समुद्रगुप्त को एक वर्ष का समय लगा। इसके पश्चात्‌ उसने दिग्विजययात्रा की। इसका वर्णन प्रयाग में अशोक मौर्य के स्तंभ पर विशद रूप में खुदा हुआ है। पहले इसने आर्यावर्त के तीन राजाओं-अहिच्छव का राजा अच्युत, पद्मावती का भारशिववंशी राजा नागसेन और राज कोटकुलज-को विजित कर अपने अधीन किया और बड़े समारोह के साथ पुष्पपुर में प्रवेश किया। इसके बद उसने दक्षिण की यात्रा की और क्रम से कोशल, महाकांतर, भौराल पिष्टपुर का महेंद्रगिरि (मद्रास प्रांत का वर्तमान पीठापुराम्‌), कौट्टूर, ऐरंडपल्ल, कांची, अवमुक्त, वेंगी, पाल्लक, देवराष्ट्र और कोस्थलपुर (वर्तमान कुट्टलूरा), बारह राज्यों पर विजय प्राप्त की।

जिस समय समुद्रगुप्त दक्षिण विजययात्रा पर थी उस समय उत्तर के अनेक राजाओं ने अपने को स्वतंत्र घोषित कर विद्रोह कर दिया। लौटने पर समुद्रगुप्त ने उत्तर के जिन राजाओं का समूल उच्छेद कर दिया उनके नाम हैं : रुद्रदेव, मतिल, नागदत्त, चंद्रवर्मा, गणपति नाग, नागसेन, अच्युत नंदी और बलवर्मा। इनकी विजय के पश्चात्‌ समुद्रगुप्त ने पुन: पुष्पपुर (पाटलिपुत्र) में प्रवेश किया। इस बार इन सभी राजाओं के राज्यों को उसने साम्राज्य में सम्मिलित कर लिया। आटविक राजाओं को इसने अपना परिचारक और अनुवर्ती बना लिया था। इसके पश्चात्‌ इसकी महती शक्ति के सम्मुख किसी ने सिर उठाने का साहस नहीं किया। सीमाप्रांत के सभी नृपतियों तथा यौधेय, मानलव आदि गणराज्यों ने भी स्वेच्छा से इसकी अधीनता स्वीकार कर ली। समहत (दक्षिणपूर्वी बंगाल), कामरूप, नेपाल, देवाक (आसाम का नागा प्रदेश) और कर्तृपुर (कुमायूँ और गढ़वाल के, पर्वतप्रदेश) इसकी अधीनता स्वीकार कर इसे कर देने लगे। मालव, अर्जुनायन, यीधेय, माद्रक, आभीर, प्रार्जुन, सनकानीक, काक और खर्परिक नामक गणराज्यों ने उसकी अधीनता स्वीकार कर ली। दक्षिण और पश्चिम के अनेक राजाओं ने इसका आधिपत्य स्वीकार कर लिया था और वे बराबर उपहार भेजकर इसे संतुष्ट रखने की चेष्टा करते रहते थे, इनमें देवपुत्र शाहि शाहानुशाहि, शप, मुरुंड और सैहलक (सिंहल के राजा) प्रमुख है। ये नृपति आत्मनिवेदन, कन्योपायन, दान और गरुड़ध्वजांकित आज्ञापत्रों के ग्रहण द्वारा समुद्रगुप्त की कृपा चाहते रहते थे। समुद्रगुप्त का साम्राज्य पश्चिम में गांधार से लेकर पूर्व में आसाम तक तथा उत्तर में हिमालय के कीर्तिपुर जनपद से लेकर दक्षिण में सिंहल तक फैला हुआ था। प्रयाग की प्रशस्ति में समुद्रगुप्त के सांधिविग्रहिक महादंडनायक हरिपेण ने लिखा है, 'पृथ्वी भर में कोई उसका प्रतिरथ नहीं था। सारी धरित्री को उसने अपने बाहुबल से बाँध रखा था।

इसने अनेक नष्टप्राय जनपदों का पुनरुद्धार भी किया था, जिससे इसकी कीर्ति सर्वत्र फैल गई थी। सारे भारतवर्ष में अबाध शासन स्थापित कर लेने के पश्चात्‌ इसने अनेक अश्वमेध यज्ञ किए और ब्राह्मणों दीनों, अनाथों को अपार दान दिया। शिलालेखों में इसे 'चिरोत्सन्न अश्वमेधाहर्त्ता' और 'अनेकाश्वमेधयाजी' कहा गया है। हरिषेण ने इसका चरित्रवर्णन करते हुए लिखा है-

उसका मन सत्संगसुख का व्यसनी था। उसके जीवन में सरस्वती और लक्ष्मी का अविरोध था। वह वैदिक धर्म का अनुगामी था। उसके काव्य से कवियों के बुद्धिवैभव का विकास होता था। ऐसा कोई भी सद्गुण नहीं है जो उसमें न रहा हो। सैकड़ों देशों पर विजय प्राप्त करने की उसकी क्षमता अपूर्व थी। स्वभुजबल ही उसका सर्वोत्तम सखा था। परशु, बाण, शकु, आदि अस्त्रों के घाव उसके शरीर की शोभा बढ़ाते थे। उसकी नीति थी साधुता का उदय हो तथा असाधुता कर नाश हो। उसका हृदय इतना मृदुल था कि प्रणतिमात्र से पिघल जाता था। उसने लाखों गायों का दान किया था। अपनी कुशाग्र बुद्धि और संगीत कला के ज्ञान तथा प्रयोग से उसने ऐसें उत्कृष्ट काव्य का सर्जन किया था कि लोग 'कविराज' कहकर उसका सम्मान करते थे।'

समुद्रगुप्त के सात प्रकार के सिक्के मिल चुके हैं, जिनसे उसकी शूरता, शुद्धकुशलता तथा संगीतज्ञता का पूर्ण आभास मिलता है। इसने सिंहल के राजा मेघवर्ण को बोधगया में बौद्धविहार बनाने की अनुमति देकर अपनी महती उदारता का परिचय दिया था। यह भारतवर्ष का प्रथ आसेतुहिमाचल का सम्राट् था। इसकी अनेक रानियों में पट्टमहिषी दत्त देवी थी, जिनसे सम्राट् चंद्रगुप्त द्वितीय विक्रमादित्य ने जन्म दिया था।

साभार : विकिपीडिया