Sunday, November 30, 2014

Gulab Kothari - गुलाब कोठारी



Gulab Kothari is an Indian author, journalist and editor-in-chief of Indian daily newspaper Rajasthan Patrika. He is the winner of Moortidevi Award – 2011, the annual literary award presented by Bharatiya Jnanpith, for his book Mein Hi Radha, Mein Hi Krishna. Dr. Kothari is known for his contributions to Vedic Studies prominent among which is Maanas.

Dr. Kothari received D. Litt. in philosophy from Intercultural Open University in 2002. In March 2004, Dr. Kothari was nominated as the chairman and professor of Pandit Madhusudan Ojha chair to promote research on Vedas at the University of Rajasthan. In view of his contributions to Yoga, he was conferred with Doctor of Philosophy in 2008 by OkiDo Global Research Institute, Italy. He is international advisor to the IOUF and OkiDo Global Research Institute Italy. In 2014, Dr. Kothari received Honorary Doctorate of Literature by Amity University. In August 2014, Dr. Kothari was awarded PhD in administration from Universidad Central de Nicaragrua (UCN) and Universidad Azteca (UA).

Manas : patterns of human mind. Rajasthan Patrika, 2004. ISBN 818632600159.
Manas : individual and society. Rajasthan Patrika, 2005. ISBN 818632600164.
Maanas : human body : the gross and the subtle. Rajasthan Patrika, 2006. ISBN 818632600165.
Communication: The Soul of Evolution : the Indian Perspective of Principles and Practice. Rajasthan Patrika, 2002.
Body Mind Intellect: Triggering The Soul Force. Rajasthan Patrika, 2002. ISBN 9788186326015. 
Newspaper management in India. Intercultural Open University, 1995. 
Samachar-Patra Prabandhan. Rajkamal Prakashan Pvt Ltd, 2008.ISBN 9788183611794 
Awards & recognition
Moorthidevi Award (2011) 
Maharana Mewar Foundation's Haldi Ghati Award (2011)
Brahmrishi Ashram Tirupati's Rastriya Gaurav Award (2007) 
IOU Peace Award of the Year (2007)
Nanda Foundation's Moral Ethics Award (2006)
Vishnu Teerth Foundation Award (2004)
Acharya Tulsi Award (2003)
Bhartendu Harishchandra Award (2000)
Govt. of India's National Unity Award (1993)

Shobhana Bhartia - शोभना भरतिया



Shobhana Bhartia (born 1957) is the Chairperson and Editorial Director of the Hindustan Times Group, one of India's newspaper and media houses, which she inherited from her father. She has also recently taken charge as the Pro Chancellor of Birla Institute of Technology and Science, Pilani (founded by her grandfather) and is the current chairperson of Endeavor India. Closely associated with the Congress party, Shobhana served as a nominated member of the Rajya Sabha, the upper chamber of the Indian parliament from 2006 to 2012. Her name is sometimes written Shobhana Bharatiya or Bhartiya, but the preferred spelling is Bhartia.

Bhartia is the daughter of the industrialist KK Birla, industrialist and Congress party loyalist, and the grand-daughter of GD Birla, one of the Birla family patriarchs. The KK Birla family owned 75.36 per cent stake in HT Media, valued at Rs 8.34 billion in 2004. She grew up in Kolkata and had her schooling at Loreto House. She is a graduate of Calcutta University, and is married to Shyam Sunder Bhartia, Chairman of the Rs. 14-billion pharmaceutical firm Jubilant LifeScience Limited (a spinoff from the earlier chemicals venture Vam Organics). Shyam Sunder Bhartia is son of Late Mohan Lal Bhartia. Their son Shamit Bhartia is also a Director at the HT Media group, and also looks after lifestyle businesses such as the Domino's Pizza franchise and also convenience store chain Monday to Sunday in Bangalore. In 2012, Shamit Bhartia married Nayantara Kothari. daughter of Bhadrashyam Kothari, a Chennai-based industrialist, and his wife Nina, daughter of Dhirubhai Ambani.

Media career

When Bhartia joined Hindustan Times in 1986, she did so directly as the chief executive. She was the first woman chief executive of a national newspaper and probably one of the youngest. She is considered to be one of the motive forces behind the transformation of the Hindustan Times "into a bright, young paper."She looks after editorial as well as financial aspects, and is credited with raising Rs. 4 billion through a public equity launch of HT Media in September 2005.

She has received the Global Leader of Tomorrow award from the World Economic Forum (1996). She is also the recipient of the Outstanding Business Woman of the Year, 2001, by PHD Chamber of Commerce & Industry, and National Press India Award, 1992. She has also won the Business Woman award, The Economic Times Awards for Corporate Excellence awards 2007.[citation needed] She was named one of Forbes Asia's 50 Women in the Mix. She has received the Delhi Women of the Decade Achievers Award 2013 from the ASSOCHAM Ladies League in recognition for her Excellence in Nation Building through Media & Leadership.

Political career

Shobhana was one of the first Padma Shri award nominees in 2005. The award was given for journalism. The following year, in February 2006, Shobhana was nominated to the Rajya Sabha, the upper house of parliament, on a recommendation by the ruling United Progressive Alliance headed by Sonia Gandhi. The nomination, reserved for eminent people from the fields of literature, science, art and social service, was challenged in the Supreme Court of India on the grounds that she was a "media baron" and not a journalist, and that she was politically affiliated with the Indian National Congress. However, the court dismissed the appeal at the admission stage itself, saying that the scope of "social service" was broad enough to include her.  She has been quite active in the Rajya Sabha, asking frequent questions and also introducing "The Child Marriage (Abolition) and Miscellaneous Provisions Bill, 2006".

Monday, November 24, 2014

VENUGOPAL DHOOT - वेणुगोपाल धूत


भारत में रंगीन टेलीविजन बनाने का लाइसेंस लेने वाली वीडियोकॉन पहली कंपनी है। इस कंपनी को प्रोमोट करने में वेणुगोपाल धूत ने अहम भूमिका निभाई है। उन्होंने साबित किया है कि उपलब्धियों की आकांक्षा हो तो आकाश भी छोटा पड़ जाता है…

वेणुगोपाल धूत भारत के एक सुप्रसिद्ध व्यवसायी,भारत के 18 वें सबसे धनी व्यक्ति और वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज लिमिटेड के अध्यक्ष हैं। वेणुगोपाल का जन्म 30 सितंबर,1951 को मुंबई में मारवाड़ी माहेश्वरी परिवार में  हुआ। माहेश्वरी समुदाय मुख्यता राजस्थान से संबंधित होता है। इनके पिता नंदलाल धूत भी एक व्यवसायी ही थे,जिन्होंने अपना व्यवसाय गन्ने और रूई उद्योग से शुरू किया था। उन्होंने ही वीडियोकॉन कंपनी की स्थापना की थी। इस कंपनी की सबसे बड़ी उपलब्धि यह रही कि इसे भारत में रंगीन टेलीविजन बनाने का सबसे पहला लाइसेंस मिला। वेणुगोपाल ने कालेज ऑफ इंजीनियरिंग, पुणे से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में बीई की डिग्री हासिल की। यह कालेज देश के पुराने इंजीनियरिंग कालेजों मंे से एक है। इसकी स्थापना 1854 ई.में हुई। कालेज ऑफ इंजीनियरिंग एक स्वायत्त इंजीनियरिंग कालेज है, जो पुणे यूनिवर्सिटी से संबद्ध है। वेणुगोपाल एक व्यवसायी होने के साथ-साथ क्रिकेट के भी बड़े प्रशंसक हैं। इन्होंने कोलकाता मंे वीडियोकॉन स्कूल ऑफ क्रिकेट भी खोला है, जिसमें 10 से 17 साल तक की उम्र के बच्चों को भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सौरभ गांगुली ट्रेनिंग देते हैं। वेणुगोपाल के कार्यक्रमों में एक कार्य पौधारोपण का भी है। उन्होंने पूरे भारत में पौधारोपण की एक मुहिम छेड़ी और इस दौरान लगभग 20 लाख टीक के पौधे लगाए। उन्होंने वीडियोकॉन ग्रुप ऑफ कंपनीज को प्रोमोट किया। 1 सितंबर,2005 से वह कंपनी के अध्यक्ष हैं। वेणुगोपाल इंडो-जापान एसोसिएशन के अध्यक्ष होने के साथ-साथ ओडिशा सरकार के औद्योगिक विकास के सलाहकार भी हैं। वीडियोकॉन कंपनी एयर लाइंस और तेल के क्षेत्र में भी अपने व्यवसाय का विस्तार कर रही है। वीडियोकॉन कंपनी अध्यक्ष वेणुगोपाल धूत को वर्ष 2005-2006 में  भारत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए दिए गए अद्वितीय योगदान के लिए एलसिना मैन ऑफ दि ईयर से नवाजा गया। भारत को वैश्विक अर्थव्यवस्था के साथ सरपट दौड़ाने वालों की फेहरिस्त वेणुगोपाल धूत के बिना अधूरी मानी जाएगी।

कुमार मंगलम बिड़ला


कुमार मंगलम बिड़ला (जन्म 14 जून 1967) एक भारतीय उद्योगपति और आदित्य बिड़ला ग्रुप के अध्यक्ष हैं, भारत में जिनकी कंपनियों में शामिल हैं ग्रासिम, हिंडाल्को, अल्ट्राटेक सीमेंट, आदित्य बिरला नुवो, आइडिया सेल्युलर, आदित्य बिरला रिटेल और कनाडा में आदित्य बिरला मिनिक्स और बिरला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड साइंस (बिट्स पिलानी) के वे कुलाधिपति हैं। कुमार मंगलम बिरला विभिन्न नियामक और व्यावसायिक बोर्डों पर कई महत्वपूर्ण और जिम्मेदार पदों पर प्रतिष्ठित रहे हैं और अभी भी हैं।

कुमार मंगलम बिड़ला का जन्म राजस्थान राज्य के प्रतिष्ठित  मारवाड़ी व्यवसायी बिड़ला परिवार में हुआ था। चार्टर्ड एकाउंटेंट कुमार मंगलम बिड़ला ने लंदन बिजनेस स्कूल से एमबीए (MBA) की डिग्री हासिल की, जहां के वे एक मानद सदस्य भी हैं। श्री बिरला और उनकी पत्नी, श्रीमती नीरजा कस्लीवाल के तीन बच्चें हैं, अनन्याश्री, आर्यमन विक्रम और अद्वैतेषा.
पुरस्कार और सम्मान

इन दस वर्षों में जबसे वे आदित्य बिड़ला समूह के मुख्य संचालक हैं, उन्होंने उद्योग में अपने योगदान के लिए और प्रबंधन के व्यवसायीकरण के लिए पहचान प्राप्त की है। एक सांकेतिक सूची निम्नानुसार है:

2006 
जून 2006 में, मोंटे कार्लो मोनाको के अर्न्स्ट एण्ड यंग उद्यमी पुरस्कार में भारत का प्रतिनिधित्व किया, जहां उन्हें अर्न्स्ट एण्ड यंग वर्ष के विश्व उद्यमी अकादमी के एक सदस्य के रूप में शामिल किया गया था। 

2005 
"वर्ष के अर्न्स्ट एण्ड यंग उद्यमी के पुरस्कार से सम्मानित किया गया - भारत" 
बिजनेस टूडे द्वारा "सीईओ श्रेणी में सर्वश्रेष्ठ युवा प्रदर्शन" के लिए नामित किया गया 
पीएचडी चैंबर ऑफ़ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री - उद्योग रत्न 

2004 
वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम (डावोस) के द्वारा उन्हें यंग ग्लोबल लीडर्स में से एक के रूप में चुना गया। इस हैसियत से कुमार मंगलम बिरला अगले पांच वर्षों में "उम्मीद, प्रगति और सकारात्मक परिवर्तन" के भविष्य के लिए प्रवेशक के रूप में अपने ज्ञान, विशेषज्ञता और ऊर्जा को साझा करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। 
दुनिया भर से इकट्ठा हुए 8000 उम्मीदवारों में से चुना गया, जिनमें से फिर 600 को चुना गया और अंततः 237 नामों को सूचीबद्ध किया गया, 28 ग्लोबल मीडिया लीडर्स के नामांकन समिति द्वारा यंग ग्लोबल लीडर्स को चुना गया था। 

भारतीय कारोबार के लिए अपने अनुकरणीय योगदान के सम्मान में, बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय ने बिड़ला को डी. लिट (होनोरिस कौजा) डिग्री से सम्मानित किया। 

भारतीय व्यापार में अपनी उद्यमी उत्कृष्टता और अनुकरणीय योगदान के अभिवादन के लिए, ऑल इंडिया मैनेजमेंट एसोसिएशन ने उन्हें अपनी "मानद फैलोशिप" प्रदान की. 

2003 
कॉर्पोरेट उत्कृष्टता के लिए इकोनॉमिक टाइम्स अवार्ड्स द्वारा "द बिजनेस लीडर ऑफ द इयर" का पुरस्कार दिया गया। 

इकोनोमिक्स टाइम्स के "द बिज़नेस लीडर ऑफ़ द इअर" पुरस्कार के तुरंत बाद उन्हें बिजनेस इंडिया के "बिज़नेस मैन ऑफ़ द इअर - 2003" चुना गया। यह वास्तव में ऐतिहासिक है, क्योंकि किसी अध्यक्ष/सीईओ को आज तक एक ही साल में दोनों प्रतिष्ठित पुरस्कार नहीं मिला है। 

द नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इंडस्ट्रीअल इंजीनियरिंग (NITIE) - "द लक्ष्य - बिजनेस विज़नरी पुरस्कार" 
भारत-अमेरिकी सोसायटी के "यंग अचिवर पुरस्कार" 

"उत्कृष्टता के लिए 2003 विपणन और प्रबंधन संस्थान पुरस्कार". 

2002 
क्विमप्रो फाउंडेशन के "क्विमप्रो प्लेटिनम स्टैंडर्ड पुरस्कार" 
सीएनबीसी/आईएनएसईएडी प्रायोजित "एशियाई बिजनेस लीडर पुरस्कार 2002" के लिए पहले पांच एशियाई व्यापार लीडर में स्थान 

2001 
मुंबई प्रदेश युवा कांग्रेस द्वारा "व्यावसायिक उत्कृष्टता और देश के लिए उनके योगदान के लिए" राजीव गांधी पुरस्कार 

द नैशनल एचआरडी नेटवर्क (पुणे) - "द आउटस्टैंडिंग बिजनेस मैन ऑफ द इयर" 

"व्यावसायिक उत्कृष्टता और उद्योग में उनके योगदान" के लिए द जायंट्स इंटरनेशनल पुरस्कार 

द इंस्टीट्यूट ऑफ डाइरेक्टर्स का "बिजनेस लीडरशीप के लिए गोल्डेन पिकोक नेशनल पुरस्कार" 

रोटरी क्लब का "अवार्ड फॉर वोकेशनल एक्सीलेंस" 

2000 
बॉम्बे मैनेजमेंट एसोसिएशन ने बिरला को "द मैनेजमेंट मैन ऑफ द इयर 1999-2000" के रूप में सम्मानित किया 

1999 
लायंस क्लब इंटरनेशनल के "द अचिवर ऑफ द मिलेनियम" 

अहमदाबाद के रोटरी क्लब द्वारा "द लेजेंड ऑफ़ द कॉर्पोरेट वर्ल्ड" 

1998 
कुमार मंगलम बिरला एकमात्र ऐसे उद्योगपति थे जिन्हें वित्त मंत्रालय द्वारा भारत के प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड के शासी बोर्ड (सेबी) पर एक सार्वजनिक पद के उम्मीदवार के रूप में नियुक्त किया गया था। उन्होंने सेबी के कोर्पोरेट नियमन पर 17 सदस्यीय समिति के अध्यक्ष के रूप में अपना योगदान दिया जिसका गठन 1999 के मध्य में हुआ था और इनसाइडर ट्रेडिंग पर सेबी समिति के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया 
निगमित प्रशासन (कॉर्पोरेट गवर्नेन्स) पर कुमार मंगलम बिरला की रिपोर्ट भारत में निगमित प्रशासन प्रथाओं की आधारशिला बन गई 

रोटरी क्लब के "अवार्ड फॉर वोकेशनल एक्सीलेंस" के प्राप्तकर्ता 

मीडिया ने भी कुमार मंगलम बिड़ला का काफी गुणगान किया है। 1997 से आज तक, एनडीटीवी, स्टार प्लस "इंडिया बिजनेस वीक" ने उन्हें "द बिजनेसमैन ऑफ द इयर" के रूप में पदांकित करते हैं। ग्लोबल फाइनेंस ने उन्हें कॉरपोरेट फाइनेंस के 10 सुपर स्टार में उद्धृत किया है। बिजनेस वर्ल्ड ने उन्हें भारत के शीर्ष 10 सर्वाधिक प्रशंसित और सम्मान प्राप्त सीईओ के बीच और आने वाली सहस्राब्दी के शीर्ष सीईओ के रूप में दर्जा दिया है और हिंदुस्तान टाइम्स ने उन्हें "द बिजनेस मैन ऑफ द इयर" के रूप में भी नामित किया है।

शिक्षा के लिए सर्जनात्मक योजनाएं

बिट्स पिलानी विश्वविद्यालय के कुलपति बनने के बाद, उन्होंने बिट्स को दुनिया के शीर्ष विश्वविद्यालयों में से एक बनाने के लिए मिशन 2012 और विजन 2020 तैयार किया है। भारत की पहली इनोवेशन फेस्ट - क्वार्क (QUARK) 2010 की शुरूआत के लिए बिट्स परिसर का पहली बार मुआयना करने के लिए वे गोवा परिसर गए थे। क्वार्क, भारत का शीर्ष तकनीकी उत्सव है जिसका आयोजन हर साल किया जाता है, जिसमें भारत भर के कॉलेजों के छात्र भाग लेने के लिए आते हैं।

ANIL AGRAWAL - अनिल अग्रवाल


ज़मीन से आसमान तक जाने के तो हजारों किस्से हैं लेकिन यह किस्सा उसमें खास है। भारत का एक कारोबारी जो आज सारी दुनिया में हलचल मचा रहा है, दरअसल लोहे के कबाड़ बेचता था। उसने कॉलेज का मुंह तक नहीं देखा था।

जी हां, आज वही शख्स बिज़नेस की दुनिया में नए-नए मुकाम बनाता जा रहा है। उसने कई ऐसे काम किए हैं और उद्योग लगाए हैं जिससे उसकी कुल दौलत 6.4 अरब डॉलर से भी ज्यादा है। जी हां, आपने सही समझा, ये हैं वेदांत समूह के चेयरमैन अनिल अग्रवाल। आज वेदांत समूह बहुराष्ट्रीय कंपनी केयर्न के भारत में 40 शेयर खरीदने की तैयारी में है। इस सौदे के बाद वेदांत समूह भारत ही नहीं दुनिया के सबसे बड़े समूहों में शामिल हो जाएगा।

अनिल अग्रवाल के पास अपने विमान हैं, दुनिया के कई शहरों में ऑफिस हैं लेकिन एक समय था कि उनके पास एक साइकिल खरीदने के पैसे भी नहीं थे। उनके पिता ने जब उन्हें साइकिल खरीदकर दी तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा। आज भी वह उस साइकिल को भूलते नहीं है। उन्होंने एक सामाचार पत्र को दिए एक इंटरव्यू में कहा था कि साइकिल पाना मेरी जिंदगी का सबसे खुशनुमा दिन था।

पटना के रहने वाले अनिल अग्रवाल के पिता लोहे के ग्रिल वगैरह बनाया करते थे। उन्होंने स्कूल की पढ़ाई बमुश्किल पूरी की। लेकिन कॉलेज का मुंह तक नहीं देखा। पिता के पद चिन्हों पर चलते हुए अनिल अग्रवाल लोहे के कबाड़ खरीदने-बेचने के लिए 1976 में मुंबई चले गए थे जहां से उनकी जिंदगी में बदलाव आ गया। वहां उन्होंने तांबा, जस्ता, अल्युमिनियम और लौह अयस्क का विशाल साम्राज्य खड़ा कर दिया।

1976 में उन्होंने स्टर्लाइट इंडस्ट्रीज की स्थापना की और उसके बाद लगातार आगे बढ़ते गए। बाद में वह इंग्लैंड चले गए और वहां अपनी कंपनी वेदांत की शुरूआत की। इस कंपनी के वे एक्जीक्युटिव चेयरमैन हैं। वेदांत समूह के अलावा वह बाल्को, एचजेडएल और वेदांत अल्युमीना के भी डायरेक्टर हैं। वेदांत रिसोर्सेज लंदन स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध होने वाली प्रथम भारतीय मैन्युफैक्चरिंग कंपनी है। इसका सालाना राजस्व 8 अरब डॉलर का है। उनका काम काज यूरोप, अफ्रीका और एशिया में है और वे अपने प्राइवेट जेट में इन जगहों पर आते-जाते हैं।

साभार : दैनिक भास्कर

Sunday, November 23, 2014

SUNEEL MITTAL - सुनील मित्तल


देश में आर्थिक उदारीकरण ने अनेक उद्यमियों को अपनी प्रतिभा को दिखाने का मौका दिया। उनमें सुनील भारती मित्तल खास हैं। देश की मोबाइल सेवा देने वाली सबसे बड़ी कंपनी भारती एयरटेल के प्रमुख सुनील भारती मित्तल ज्ञानी किस्म के इंसान हैं। वे जब किसी सवाल पर अपनी राय रखते हैं तो उसे सुना जाता है। अनसुना नहीं किया जा सकता। वे सच्चे उद्यमी हैं- पहली पीढ़ी के उद्यमी। एक बार उन्होंने कहा था कि मैंने जीवन के शुरुआती दौर में ही व्यापार के संसार में जाने का मन बना लिया था। जब पढ़ाई में मन लगता नहीं था तो दो ही विकल्प बचते थे। एक राजनीति में जाने का और दूसरा व्यापार करने का। लुधियाना शहर में व्यापार करने का अच्छा माहौल था। मैंने भी 18 साल की उम्र में व्यापार करना शुरू किया। सबसे पहले ब्रजमोहन मुंजाल साहब की हीरो साइकिल कंपनी के लिए साइकिल के पार्ट्स बनाने शुरू किए। भारती के लिए वर्ष 1982 विशेष था। वे कहते हैं उस समय में जापान से आयातित पोर्टेबल जेनरेटरों की बिक्री का मेरा भरा-पूरा व्यवसाय था। इससे मुझे विपणन और विज्ञापन जैसी गतिविधियों में शामिल होने का अवसर मिला। चीजें बिल्कुल सही तरीके से चल रही थीं, लेकिन सरकार ने जेनरेटर के आयात पर रोक लगा दी, क्योंकि दो भारतीय कंपनियों को देश में ही जेनरेटर बनाने का लाइसेंस दे दिया गया था। तब मैंने तय किया कि आगे जब भी इस तरह का अवसर आएगा, मैं उसे लपकने के लिए तैयार रहूंगा। क्रांतिकारी परिवर्तन 1992 में आया, जब सरकार पहली बार मोबाइल फोन सेवा के लिए लाइसेंस बांट रही थी। उस अवसर को मैंने लपक लिया।

सुनील भारती मित्तल को विश्व के सबसे पुराने व्यापारिक संगठनों में से एक इंटरनेशनल चैंबर ऑफ कॉमर्स (आईसीसी) का भी उपाध्यक्ष चुना जा चुका है। वे भारतीय उद्योग संगठन (सीआईआई) के साल 2008 में अध्यक्ष थे।

वे धीरू भाई अंबानी और जेआरडी टाटा को अपना आदर्श मानते हैं। वे कहते हैं कि ये सभी जमीन से जुड़े हुए ही थे, क्योंकि ये नीचे से उठे। मैंने 30-35 घंटे की रेलवे यात्रा बैठकर की है। ट्रकों में गोदी से माल उठाकर उसे बाजार में लाकर बेचा है। कुछ साल पहले भारती एयरटेल ने अफ्रीका में भी अपनी दस्तक दे दी है। अफ्रीका के एक दर्जन से ज्यादा देशों में भी भारती एयरटेल बड़ी मोबाइल सेवा देने वाली कंपनी के रूप में उभरी है। भारती एयरटेल अपना विदेशी कारोबार अपनी सहायक कंपनी भारती एयरटेल इंटरनेशनल (नीदरलैंड) बी वी (बीएआईएन) के जरिए चलाती है। स्टील की छड़ों को गर्म करके साइकिल के हिस्से बनाए जाते थे। आपके लिए सफलता की परिभाषा क्या है? भारती कहते हैं कि हर आदमी के लिए सफलता के पैमाने बदलते रहते हैं। आज जो सफलता है वह कल आपके लिए एक सामान्य घटना होती है। पहले मेरे लिए सफलता के पैमाने कुछ और थे आज कुछ और हैं। बीस हजार रुपए से मैंने व्यवसाय शुरू किया था आज मैं 20 बिलियन का लक्ष्य बना सकता हूँ लेकिन इस सबके बीच मुझे लगता है कि सफलता वह है कि जब आप शाम को अपना काम पूरा कर लें तो आपको लगे कि कुछ किया। 

वे कहते हैं कि सफलता आसानी से नहीं मिलती, क्योंकि आसान सफलता जैसी कोई चीज नहीं होती। लेकिन मेरा एक मूल मंत्र है सफलता के लिए जो मैं स्कूल कॉलेज के युवाओं कोे बताता हूं। मैं उनसे कहता हूं कि अगर मौका मिले तो जो आप जिंदगी में करना चाहते हैं वही करिए। अगर ऐसा नहीं हो पाता तो कोई औसत जिंदगी तो जी सकता है लेकिन बड़ी सफलता नहीं पा सकता। बड़ी सफलता तो तभी मिलेगी जब डॉक्टर की चाहत रखने वाला डॉक्टर बने, इंजीनियर बनने की चाह रखने वाला इंजीनियर बने और व्यवसायी बनने की चाहत रखने वाला आदमी व्यवसायी बने। मेरे लिए प्रत्येक सोमवार की सुबह बहुत खूबसूरत होती है। मैं अपनी कुर्सी पर बैठकर अपना काम शुरू करता हूं। सुनील भारती मित्तल में यह भारती क्या है? वे बताते हैं कि भारती हमारे परिवार के लिए एक उपनाम बनाया गया था। दरअसल मेरे पिता जी ने उस जमाने में अपनी मर्जी से जाति से बाहर प्रेम विवाह किया था। उन्होंने ही तय किया कि उनके बच्चों के नाम के पीछे मित्तल नहीं भारती लगेगा। हमारे विद्यालय के प्रमाणपत्र, पहले के पासपोर्ट में भारती ही लिखा था। और जान लेते हैं भारती की सफलता के सूत्र।

भारती यह भी मानते हैं कि बड़े सपने देखने चाहिए। हर चीज की शुरुआत एक छोटे से कदम से होती है, लेकिन लंबी छलांग लगाने के लिए आपको बड़े सपने देखने होंगे। मैंने पंजाब विश्वविद्यालय से स्नातक किया। स्नातक के बाद 1970 के दशक में मैंने 20,000 रुपए का कर्ज लिया और अपने दोस्तों के साथ मिलकर एक छोटा-सा साइकिल व्यवसाय शुरू किया। 1979 आते-आते मुझे यह महसूस हुआ कि यह व्यवसाय ज्यादा बड़ा नहीं हो सकता। मैं लुधियाना से बाहर निकला और दूसरी चीजें करने की कोशिश की, ताकि लोग मुझे पहचान सकें। भारती अंत में नए उद्यमियों को सलाह देते हैं कि वे खुद पर भरोसा करें, उन्हें सफलता मिलेगी। 

साभार: पाञ्चजन्य 

ANIL AMBANI- अनिल अंबानी



अनिल अंबानी (४ जून, १९५९ को जन्मे) एक भारतीय व्यवसायी हैं। ६ अक्टूबर २००७ को उनके पास ४२ अरब अमरीकी डालर मूल्य की संपत्ति है, जिसके अनुसार वे विश्व के ६ठे सबसे धनी व्यक्ति हैं। प्रतिशत के आधार पर वे विश्व के सबसे तेज गति से प्रगति करने वाले बहु-अरब-डॉलर वाले समृद्धशाली व्यक्ति हैं क्योंकि उनकी संपत्ति १ वर्ष में तीन गुनी हो गई. अनिल अंबानी रिलायंस कैपिटल और रिलायंस कम्युनिकेशंस के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक और रिलायंस एनर्जी तथा पूर्व में रिलायंस इंडस्ट्रीज़ लिमिटेड के उप अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक थे। रिलायंस इंडस्ट्रीज में उनकी व्यक्तिगत हिस्सेदारी ६६% है।

अनिल के स्वर्गीय पिता धीरूभाई अंबानी द्वारा स्थापित रिलायंस समूह भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक घराना है। उनकी माता कोकिलाबेन अंबानी है। उनका विवाह टीना मुनीम अंबानी से हुआ है जो १९८० के दशक के प्रारम्भिक समय की एक प्रसिद्ध भारतीय अभिनेत्री थी और जिनसे उन्हें दो पुत्र, जय अनमोल तथा जय अंशुल हुए। अनिल अंबानी समूह की चार फर्मों -- रिलायंस कम्युनिकेशंस (RCOM), रिलायंस कैपिटल (RCL), रिलायंस एनर्जी (REL) और रिलायंस नेचुरल रेसौरसेस लिमिटेड (RNRL) में निवेशकों की कुल संपत्ति १,४२,३८४ करोड़ रुपए तक पहुँच गई है, जबकि प्रवर्तकों की कुल अनुमानित धारिता करीब ८७,००० करोड़ रुपये हैं। अनिल की ज्यादातर संपत्ति RCOM में इनके ६५% अंशों से बनी है, जिसका बाजार मूल्य १,०३,००० करोड़ रुपये हैं। उनके पास RCL में ५० प्रतिशत से अधिक (बाजार मूल्य २४,००० करोड़ रुपये), REL में ३५ प्रतिशत (बाजार मूल्य १२,७०० करोड़ रुपये) और RNRL में करीब ५४ प्रतिशत है, जिसका बाजार मूल्य करीब २,६०० करोड़ रुपए है। अंबानी ने मुंबई विश्वविद्यालय से विज्ञान स्नातक की उपाधि प्राप्त की है तथा पेन्सिलवेनिया विश्वविद्यालय के व्हार्टन स्कूल से एमबीए की उपाधि प्राप्त की। इन दिनों वे व्हार्टन बोर्ड ऑफ़ ओवरसीअर्स के सदस्य हैं।

अंबानी सहायक प्रमुख कार्यकारी अधिकारी के रूप में १९८३ में रिलायंस में शामिल हुए और भारतीय पूंजी बाजार में अनेक वित्तीय सुधार लाने का श्रेय उन्हें जाता है। उदाहरण के लिए, वैश्विक अमानती प्राप्तियां, विनिमय तथा बांड के अंतरराष्ट्रीय सार्वजनिक निर्गम के साथ उन्होंने विदेशी पूंजी बाजारों में भारत की और से पहली घुसपेठ की. उन्होंने १९९१ के बाद, रिलायंस को विदेशी वित्तीय बाजारों से लगभग २ अरब अमरीकी डॉलर जुटाने के प्रयासों में निर्देशित किया; जनवरी १९९७ में १०० वर्षीया एक यंकी बांड निर्गम के साथ जो एक उच्चतम बिन्दु था, जिसके बाद लोग उन्हें एक वित्तीय जादूगर समझने लगे. उन्होंने रिलायंस समूह को भारत की अग्रणी वस्त्र, पेट्रोलियम, पेट्रोरसायन, बिजली और दूरसंचार कंपनी के रूप में इसकी वर्तमान स्थिति तक प्रशस्त किया। अनिल उत्तर प्रदेश विकास परिषद (यह परिषद अब रद्द कर दिया गया है) के सदस्य थे। वे DA- IICT गांधीनगर के बोर्ड ऑफ़ गवर्नर के अध्यक्ष हैं और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, कानपुर के बोर्ड ऑफ़ गवर्नर के सदस्य भी हैं। वे इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट, अहमदाबाद के बोर्ड ऑफ़ गवर्नर के सदस्य हैं। वे केन्द्रीय सलाहकार समिति, केन्द्रीय विद्युत विनियामक आयोग के एक सदस्य भी हैं। जून २००४ में, समाजवादी पार्टी के सहयोग से अनिल भारतीय संसद में, राज्य सभा- ऊपरी सदन के एक स्वतंत्र सदस्य के रूप में चुने गए। मार्च २००६ में, उन्होंने इस्तीफा दे दिया। हाल ही में अपने भाई मुकेश अंबानी के बाद खरबपतियों की पुस्तक में उनका भी नाम दर्ज हुआ है। उनकी १५ साल के लंबे कैरियर में अनिल का नाम उनकी वर्तमान पत्नी सहित अनेक तारिकाओं के साथ जोड़ा गया है। वे फिल्म सितारे अमिताभ बच्चन के एक करीबी दोस्त हैं। मनोरंजन उद्योग में उनकी प्रमुख उपलब्धियों में एक है, फ़िल्म निर्माण एवं वितरण में सलंग्न मल्टीप्लेक्स कंपनी एडलैब्स (Adlabs) का अधिग्रहण, जो मुंबई के इकलौते गुंबद थियेटर के मालिक है। ३ अगस्त २००८ को, अंबानी इंग्लिश प्रीमियर लीग टीम, यूनाईटेड न्यूकासेलके अधिग्रहण के २३० मिलियन पाउंड के एक सौदे में एक प्रमुख प्रतियोगी के रूप में उभरे।


टाइम्स ऑफ इंडिया TNS चुनाव  द्वारा वर्ष २००६ के लिए बिज्नेस्मन ऑफ़ दी इयर चुने गए।
२००४ के लिए प्रतिष्ठित प्लेत्ट्स ग्लोबल एनर्जी अवार्ड्स हेतु सीईओ ऑफ़ दी इयर घोषित किए गए।
सितंबर २००३ में 'एमटीवी यूथ आइकोन ऑफ़ दी इयर' चुने गए।
बॉम्बे मैनेजमेंट एसोसिएशन द्वारा अक्टूबर २००२ में 'दशक के उद्यमी पुरस्कार' से सम्मानित.
रिलायंस को इसके अनेक व्यवसाय क्षेत्रों में विश्व स्तर पर अग्रणी रूप में स्थापित करने में इनके योगदान के लिए दिसम्बर २००१ में व्हार्टन इंडिया इकनॉमिक फोरम (Wharton India Economic Forum) (WIEF) द्वारा पहले भारतीय व्हार्टन अलुमिनी अवार्ड से पुरस्कृत.
भारत की प्रमुख व्यापार पत्रिका बिजनेस इंडिया द्वारा दिसम्बर १९९७ में 'बिज्नेस्स्मन ऑफ़ दी इयर १९९७ ' पुरस्कार से सम्मानित.

अंबानी का विवाह पूर्व बॉलीवुड अभिनेत्री टीना मुनीम (Tina Munim) से हुआ है। उनके दो पुत्र हैं जो परिवार के स्वामित्व के धीरूभाई अंबानी इंटरनेशनल स्कूल (Dhirubhai Ambani International School) में न होकर वर्तमान में कैथेड्रल एंड जॉन कन्नन स्कूल (Cathedral and John Connon School) मुंबई और लंदन के पास सेवेनोआक्स स्कूल (Sevenoaks School) में अध्ययनरत है।


एक बार अंबानी का वजन ११५ किलोग्राम था, परन्तु एक बार वजन के लिए बोर्डरूम बैठक में मजाक बनने के बाद उन्होंने वजन कम किया और अब स्वयं को "फिटनेस सनकी" के रूप में प्रचारित करते हैं।
अनिल के करीबी मित्रों में अनेक प्रमुख भारतीय सामाजिक हस्तियों, फिल्मी सितारें तथा व्यापारियों के अतिरिक्त बॉलीवुड के सुपर स्टार अमिताभ बच्चन और राजनीतिज्ञ अमर सिंह (Amar Singh) शामिल हैं।
२००६ में, उनकी समूह की कंपनी NIS Sparta के वरिष्ठ लोग भारती जैसे बड़े आन्दोलन में सम्मलित हुए

साभार: विकिपीडिया 

Thursday, November 20, 2014

SHYAMLAL GUPTA 'PARSHAD' - -श्यामलाल गुप्त 'पार्षद'




श्यामलाल गुप्त ‘पार्षद’ (अंग्रेज़ी: Shyamlal Gupta 'Parshad', जन्म: 16 सितम्बर 1893 - मृत्य: 10 अगस्त 1977) भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के एक सेनानी, पत्रकार, समाजसेवी एवं अध्यापक थे। श्यामलाल गुप्त ‘पार्षद', भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम के दौरान उत्प्रेरक झण्डा गीत 'विजयी विश्व तिरंगा प्यारा' के रचयिता थे।

जीवन परिचय

श्यामलाल गुप्त का जन्म 16 सितम्बर 1893 को कानपुर ज़िले के नरवल कस्बे में साधारण व्यवसायी विश्वेश्वर गुप्त के घर पर हुआ था। ये अपने पांच भाइयों में सबसे छोटे थे। इन्होंने मिडिल की परीक्षा के बाद विशारद की उपाधि हासिल की। जिसके पश्चात ज़िला परिषद तथा नगरपालिका में अध्यापक की नौकरी प्रारंभ की परन्तु दोनों जगहों पर तीन साल का बॉन्ड (अनुबंध) भरने की नौबत आने पर नौकरी से त्यागपत्र दे दिया। वर्ष 1921 में गणेश शंकर विद्यार्थी के संपर्क में आये तथा राष्ट्रीय स्वतंत्रता आन्दोलन में सहभागिता की। आपने एक व्यंग्य रचना लिखी जिसके लिये तत्कालीन अंग्रेज़ी सरकार ने आपके उपर 500 रुपये का जुर्माना लगाया। आपने वर्ष 1924 में झंडागान की रचना की जिसे 1925 में कानपुर में कांग्रेस के सम्मेलन में पहली बार झंडारोहण के समय इस गीत को सार्वजनिक रूप से सामूहिक रूप से गाया गया। यह झंडागीत इस प्रकार है-


विजयी विश्व तिरंगा प्यारा
झंडा उंचा रहे हमारा
सदा शक्ति बरसाने वाला
वीरों को हर्षाने वाला
शांति सुधा सरसाने वाला
मातृभूमि का तन मन सारा
झंडा उंचा रहे हमारा 

कार्यक्षेत्र

वे बचपन से ही प्रतिभासंपन्न थे। प्रकृति ने उन्हें कविता करने की क्षमता सहज रूप में प्रदान की थी। जब वे पाँचवी कक्षा में थे तब उन्होंने यह कविता लिखी:-


परोपकारी पुरुष मुहिम में पावन पद पाते देखे,
उनके सुंदर नाम स्वर्ण से सदा लिखे जाते देखे।

प्रथम श्रेणी में मिडिल पास होने के बाद उन्होंने पिता के कारोबार में सहयोग देना आरंभ कर दिया। साथ ही किसी प्रकार पढ़ाई भी जारी रखी और हिंदी साहित्य सम्मेलन की विशारद परीक्षा भी उत्तीर्ण कर ली। 15 वर्ष की अवस्था से ही वे हरिगीतिका, सवैया, घनाक्षरी आदि छंदों में सुंदर रचना करने लग गए थे। पार्षदजी की साहित्यिक प्रतिभा और देशभक्ति की भावना ने उन्हें पत्रकारिता की ओर उन्मुख कर दिया। उन्होंने 'सचिव' नामक मासिक पत्र का प्रकाशन संपादन आरंभ कर दिया। सचिव के प्रत्येक अंक के मुखपृष्ठ पर पार्षदजी की निम्न पंक्तियाँ प्रमुखता से प्रकाशित होती थीं -


राम राज्य की शक्ति शांति सुखमय स्वतंत्रता लाने को
लिया 'सचिव' ने जन्म देश की परतंत्रता मिटाने को

झंडागीत की रचना

सन 1923 में फ़तेहपुर ज़िला काँग्रेस का अधिवेशन हुआ। सभापति के रूप में पधारे मोतीलाल नेहरू को अधिवेशन के दूसरे दिन ही आवश्यक कार्य से बंबई जाना पड़ा। उनके स्थान पर सभापतित्व संभालने वाले गणेश शंकर विद्यार्थी को अंग्रेज़ सरकार के विरोध में भाषण देने के कारण जेल जाना पड़ा। काँग्रेस ने उस समय तक झंडा तो 'तिरंगा झंडा' तय कर लिया था पर जन-मन को प्रेरित कर सकने वाला कोई झंडागीत नहीं था। श्री गणेश शंकर विद्यार्थी पार्षद जी की देशभक्ति और काव्य-प्रतिभा दोनों से ही प्रभावित थे, उन्होंने पार्षदजी से झंडागीत की रचना करने को कहा। काव्य-रचना ऐसी चीज़ तो है नहीं कि जब चाहा हो गई। पार्षदजी परेशान, समय सीमा में कैसे लिखा जाए? काग़़ज-कलम लेकर लिखने बैठ गए। रात को नौ बजे कुछ शब्द काग़ज़ पर उतरने शुरू हो गए। कुछ समय बाद एक गीत तैयार हो गया जो इस प्रकार था - राष्ट्र गगन की दिव्य ज्योति राष्ट्रीय पताका नमो नमो। रचना बन गई थी, अच्छी भी थी, पर पार्षदजी को लगा बात बनी नहीं। लगा, गीत सामान्य जन-समुदाय के लिए उपयुक्त नहीं था। थककर वह लेट गए। पर व्यग्रता के कारण नींद नहीं आई। जागते-सोते, करवटें बदलते-बदलते रात दो बजे लगा- जैसे रचना उमड़ रही है। वह उठकर लिखने बैठ गए। कलम चल पड़ी। स्वयं पार्षदजी के अनुसार, "गीत लिखते समय मुझे यही महसूस होता था कि भारत माता स्वयं बैठकर मुझे एक-एक शब्द लिखा रही है।" इस तरह उनकी कलम से निकला ‘‘विजयी विश्व तिरंगा प्यारा, झंडा ऊंचा रहे हमारा।’’ इस गीत को लेकर पार्षद जी अगले दिन सुबह ही विद्यार्थी जी के पास पहुंच गए। गणेश शंकर विद्यार्थी को यह गीत बहुत पसंद आया और उन्होंने पार्षद जी की जमकर तारीफ की। इसके बाद यह गीत महात्मा गांधी के पास भेजा गया जिन्होंने इसे छोटा करने की सलाह दी। सन1938 में कांग्रेस के हरिपुरा अधिवेशन में अध्यक्ष के रूप में नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने इसे झंडा गीत के रूप में स्वीकार किया और उनके साथ मौजूद पांच हजार से अधिक लोगों ने इसे पूरे जज्बे के साथ गाया। पार्षद जी के बारे में अपने उद्गार व्यक्त करते हुए नेहरू जी ने कहा था- 'भले ही लोग पार्षदजी को नहीं जानते होंगे परंतु समूचा देश राष्ट्रीय ध्वज पर लिखे उनके गीत से परिचित है।'

स्वतंत्रता संग्राम में योगदान

अमर शहीद गणेश शंकर विद्यार्थी और साहित्यकार प्रताप नारायण मिश्र के सानिध्य में आने पर श्यामलाल जी ने अध्यापन, पुस्तकालयाध्यक्ष और पत्रकारिता के विविध जनसेवा कार्य किए। पार्षद जी 1916 से 1947 तक पूर्णत: समर्पित कर्मठ स्वतंत्रता संग्राम सेनानी रहे। गणेशजी की प्रेरणा से आपने फ़तेहपुर को अपना कार्यक्षेत्र बनाया और बाद में अपनी लगन और निष्ठा के आधार पर सन 1920 में वे फ़तेहपुर ज़िला काँग्रेस के अध्यक्ष बने। इस दौरान 'नमक आंदोलन' तथा 'भारत छोड़ो आंदोलन' का प्रमुख संचालन किया तथा ज़िला परिषद कानपुर में भी वे 13 वर्षों तक रहे। असहयोग आंदोलन में भाग लेने के कारण पार्षदजी को रानी यशोधर के महल से 21 अगस्त 1921 को गिरफ़्तार किया गया। ज़िला कलेक्टर द्वारा उन्हें दुर्दांत क्रांतिकारी घोषित करके केंद्रीय कारागार आगरा भेज दिया गया। 1930 में नमक आंदोलन के सिलसिले में पुन: गिरफ़्तार हुए और कानपुर जेल में रखे गए। पार्षदजी सतत स्वतंत्रता सेनानी रहे और 1932 में तथा 1942 में फरार रहे। 1944 में आप पुन: गिरफ़्तार हुए और जेल भेज दिए गए। इस तरह आठ बार में कुल छ: वर्षों तक राजनैतिक बंदी रहे। स्वाधीनता आंदोलन में भाग लेने के दौरान वे चोटी के राष्ट्रीय नेताओं- मोतीलाल नेहरू, महादेव देसाई, रामनरेश त्रिपाठी और अन्य नेताओं के संपर्क में आए।

समाज सेवा

राजनीतिक कार्यों के अलावा पार्षदजी सामाजिक कार्यों में भी अग्रणी रहे। उन्होंने दोसर वैश्य इंटर कालेज एवं अनाथालय, बालिका विद्यालय, गणेश सेवाश्रम, गणेश विद्यापीठ, दोसर वैश्य महासभा, वैश्य पत्र समिति आदि की स्थापना एवं संचालन किया। इसके साथ ही स्त्री शिक्षा व दहेज विरोध में आपने सक्रिय योगदान किया। आपने विधवा विवाह को सामाजिक मान्यता दिलाने में सक्रिय योगदान किया। पार्षदजी ने वैश्य पत्रिका का जीवन भर संपादन किया। रामचरितमानस उनका प्रिय ग्रंथ था। वे श्रेष्ठ 'मानस मर्मज्ञ' तथा प्रख्यात रामायणी भी थे। रामायण पर उनके प्रवचन की प्रसिद्ध दूर-दूर तक थी। भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद जी को उन्होंने संपूर्ण रामकथा राष्ट्रपति भवन में सुनाई थी। नरवल, कानपुर और फतेहपुर में उन्होंने रामलीला आयोजित की। भारत भूमि से उनका प्रेम आज़ादी के बाद उत्पन्न हुयी परिस्थितियों में उन्होंने एक नये गीत की रचना 1972 में की जिसे 12 मार्च को लखनऊ के कात्यायिनी कार्यक्रम में सुनाया।


देख गतिविधि देश की मैं
मौन मन से रो रहा हूं
आज चिंतित हो रहा हूं
बोलना जिनको न आता था,
वही अब बोलते है
रस नहीं वह देश के,
उत्थान में विष घोलते हैं
सम्मान और पुरस्कार

1973 में उन्हें 'पद्म श्री' से अलंकृत किया गया। उनकी मृत्यु के बाद कानपुर और नरवल में उनके अनेकों स्मारक बने। नरवल में उनके द्वारा स्थापित बालिका विद्यालय का नाम 'पद्मश्री श्यामलाल गुप्त 'पार्षद' राजकीय बालिका इंटर कालेज किया गया। फूलबाग, कानपुर में 'पद्मश्री' श्यामलाल गुप्त 'पार्षद' पुस्तकालय की स्थापना हुई। 10 अगस्त 1994 को फूलबाग में उनकी आदमकद प्रतिमा स्थापित की गई। इसका अनावरण उनके 99वें जन्मदिवस पर किया गया। झंडागीत के रचयिता, ऐसे राष्ट्रकवि को पाकर देश की जनता धन्य है।

निधन

10 अगस्त 1977 की रात को इस समाजसेवी, राष्ट्रकवि का निधन हो गया। वे 81 वर्ष के थे। स्वतंत्र भारत ने उन्हें सम्मान दिया और 1952 में लाल क़िले से उन्होंने अपना प्रसिद्ध 'झंडा गीत' गाया। 1972 में लाल क़िले में उनका अभिनंदन किया गया।

साभार: भारत डिस्कवरी 

DESHBANDHU GUPTA - देशबंधु गुप्त




देशबंधु गुप्त (जन्म- 14 जुलाई, 1900, पानीपत, हरियाणा; मृत्यु- 1951) प्रसिद्ध राष्ट्र भक्त, स्वतंत्रता सेनानी और पत्रकार थे। अपने विद्यार्थी जीवन में ही देशबंधु गुप्त राष्ट्रीय आन्दोलन में कूद पड़े थे। उनसे प्रभावित होकर ही लाला लाजपत राय ने उन्हें अपने साथ ले लिया था। गुप्त जी में संगठन करने की बड़ी क्षमता थी। वर्ष 1942 में 'भारत छोड़ो आन्दोलन' के दौरान इन्हें गिरफ़्तार किया गया और फिर 1945 में ही ये जेल से बाहर आ सके। एक पत्रकार के रूप में भी देशबंधु गुप्त जाने जाते थे। स्वामी श्रद्धानन्द ने इन्हें राष्ट्रीय पत्र 'तेज' का सम्पादक नियुक्त किया था। 1948 में 'अखिल भारतीय समाचार पत्र सम्पादक सम्मेलन' के अध्यक्ष भी आप चुने गए थे। गुप्त जी हमेशा 'जाति प्रथा' का विरोध करते रहे।

जन्म

देशबंधु गुप्त जी का जन्म 14 जुलाई, 1900 ई. को पानीपत, हरियाणा के एक व्यवसायी परिवार में हुआ था। उनके पिता लाला शादीलाल पक्के आर्य समाजी थे। इनके घर में वैदिक रीति-रिवाजों का पूरी तरह से पालन होता था। इसका पूरा प्रभाव देशबंधु गुप्त के जीवन पर पड़ा।

शिक्षा

देशबंधु गुप्त की आरम्भिक शिक्षा उन दिनों व्यवसायी लिखा-पढ़ी में प्रचलित महाजनी लिपि में हुई। फिर वे नगरपालिका के स्कूल और अंबाला के 'आर्य वैदिक हाईस्कूल' में भर्ती हुए। देशबंधु गुप्त ने उच्च शिक्षा के लिए दिल्ली के 'हिन्दू कॉलेज' में प्रवेश लिया। यह उनके जीवन में एक निर्णायक मोड़ था।

आन्दोलन तथा गिरफ़्तारी

जब गुप्त जी उच्च शिक्षा प्राप्त कर रहे थे, तब उसी अवधि में कई इतिहास प्रसिद्ध घटनाएं घटीं। महात्मा गाँधी के नेतृत्व में रॉलेट एक्ट के विरोध में पहला व्यापक आन्दोलन चला। जलियाँवाला बाग़ में भीषण हत्याकांड हुआ और भारत की प्रबुद्ध जनता ने एक स्वर से ब्रिटिश राजकुमार की भारत-यात्रा का विरोध किया। विद्यार्थी जीवन में ही देशबंधु गुप्त राष्ट्रीय आन्दोलन में कूद पड़े और गिरफ़्तार कर लिये गए।

लालाजी का साथ

लाला लाजपत राय गुप्त जी की प्रतिभा से काफ़ी प्रभावित हुए। ये उनकी प्रतिभा ही थी, जिससे प्रभावित होकर लाला जी ने उन्हें अपने साथ ले लिया। देशबंधु गुप्त को आर्य समाज के प्रसिद्ध नेता तथा देशभक्त स्वामी श्रद्धानन्द के साथ जेल में रहने का भी अवसर मिला। महात्मा गाँधी के प्रेरक व्यक्तित्व से भी वे प्रभावित हुए। इस प्रकार उनके विचारों में प्राचीनता और आधुनिकता के संयुक्त दर्शन होते थे।

संगठन क्षमता

देशबंधु गुप्त में संगठन की बड़ी क्षमता थी। ब्रिटेन के राजकुमार की भारत यात्रा के समय सरकारी अधिकारियों ने उनके स्वागत के लिए दिल्ली में दलितों की एक सभा का आयोजन किया था। अपनी चतुरता से देशबंधु ने मंच पर कब्ज़ा करके सभा को भंग कर दिया। तभी से उनकी गणना दिल्ली के प्रमुख कांग्रेस जनों में होने लगी। इसके बाद जितने भी राष्ट्रीय आन्दोलन हुए, उन सब में उन्होंने सक्रिय भाग लिया और जेल की सज़ाएं भोगीं। 1942 के 'भारत छोड़ो आन्दोलन' के दौरान भी वे गिरफ़्तार हुए और फिर 1945 में ही जेल से बाहर आ सके।

पत्रकार

एक पत्रकार के रूप में भी देशबंधु गुप्त प्रसिद्ध थे। उनकी पत्रकारिता का लाला लाजपत राय के साथ आरंभ हुआ। लालाजी 'वंदेमातरम्' नामक पत्र के लिए बोल कर देशबंधु को लेख लिखवाया करते थे। तभी से उनकी भी इस क्षेत्र में रुचि बढ़ी। वर्ष 1923 में स्वामी श्रद्धानन्द ने अपने राष्ट्रीय पत्र 'तेज' का उन्हें संपादक बना दिया था। आगे चलकर पत्रकार जगत में उन्होंने इतनी प्रसिद्धि पाई कि 1948 में 'अखिल भारतीय समाचार पत्र संपादक सम्मेलन' के अध्यक्ष चुन लिए गए।

जाति प्रथा के विरोधी

देशबंधु गुप्त जीवन-भर राष्ट्रीय और सामाजिक गतिविधियों से जुड़े रहे। वे आर्य समाज के अनुयायी और सांप्रदायिकता की भावना से दूर थे, परंतु हिन्दुओं को दबाकर अन्य धर्मावलंबियों को आगे बढ़ाना उन्हें स्वीकार नहीं था। वे जाति-प्रथा के प्रबल विरोध थे।

निधन

दुर्भाग्य से वर्ष 1951 में एक विमान दुर्घटना में देशबंधु गुप्त का देहांत हो गया। यदि यह विमान दुर्घटना न घटी होती तो वही दिल्ली के प्रथम मुख्यमंत्री बने होते।

साभार: भारत डिस्कवरी 

DR. BHAGWAN DAS - डॉ. भगवान् दास




डॉ. भगवान दास (जन्म- 12 जनवरी, 1869 वाराणसी - मृत्यु- 18 सितम्बर 1958) को विभिन्न भाषाओं के प्रकांड पंडित, स्वतंत्रता सेनानी, समाज सेवी और शिक्षा शास्त्री के रूप में, देश की भाषा, संस्कृति को सुदृढ़ बनने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले, स्वतंत्र और शिक्षित भारत के मुख्य संस्थापकों में गिना जाता है।

जन्म

डॉ. भगवान दास का जन्म 12 जनवरी, 1869 को उत्तर प्रदेश के वाराणसी शहर में  एक प्रतिष्ठित वैश्य परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम साह माधव दास था। वे वाराणसी के सर्वाधिक प्रतिष्ठित और धनी व्यक्तियों में गिने जाते थे। धन और प्रतिष्ठा से डॉ. भगवान दास का संबंध उनके पूर्वजों के समय से ही था। कहा जाता है कि डॉ. भगवान दास के पूर्वज बड़े ही दानी और देशभक्त थे। इन सभी गुणों के साथ साथ वह कुशल व्यापारी भी थे। उन्होंने अंग्रेज़ों के साथ मिलकर अथाह सम्पत्ति एकत्र कर ली थी। धनी और प्रतिष्ठित पतिवार में जन्म लेने के बाद भी डॉ. भगवान दास बचपन से ही भारतीय सभ्यता और संस्कृति के सांचे में ढले थे।

शिक्षा

उनकी प्रारम्भिक शिक्षा वाराणसी में ही हुई। उस समय अंग्रेज़ी, शिक्षा, भाषा और संस्कृति का बहुत प्रसार था किंतु डॉ. भगवान दास ने अंग्रेज़ी के साथ साथ हिन्दी,अरबी, उर्दू, संस्कृत, फ़ारसी, भाषाओं का भी गहन अध्ययन किया। शेख सादी द्वारा रची गयीं 'बोस्तां' और 'गुलिस्तां' इन्हें बहुत ही प्रिय थीं। बचपन से ही डॉ. भगवान दास बहुत ही कुशाग्र बुद्धि थे। वे पढ़ने लिखने में बहुत तेज़ थे। डॉ. भगवान दास ने 12 वर्ष की आयु में ही हाई स्कूल की परीक्षा उत्तीर्ण कर ली थी। इसके पश्चात वाराणसी के ही 'क्वींस कॉलेज' से इण्टरमीडिएट और बी.ए. की परीक्षा संस्कृत, दर्शन शास्त्र, मनोविज्ञान और अंग्रेज़ी विषयों के साथ प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण की। इसके बाद आगे की शिक्षा प्राप्त करने के लिए उन्हें कोलकाता भेजा गया। वहाँ से उन्होंने दर्शन शास्त्र में एम.ए. किया। सन् 1887 में उन्होंने 18 वर्ष की अवस्था में ही पाश्चात्य दर्शन में एम. ए. की उपाधि प्राप्त कर ली थी। एम.ए. की परीक्षा उत्तीर्ण करके पिता के कहने से उन्होंने अनिच्छा पूर्वक डिप्टी कलेक्टर के पद पर सरकारी नौकरी की। नौकरी करते हुए भी उनका ध्यान अध्ययन और लेखन कार्य में ही लगा रहा।

कार्यक्षेत्र

23 -24 वर्ष की आयु में ही उन्होंने 'साइंस ऑफ पीस' और 'साइंस ऑफ इमोशन' नामक पुस्तकों की रचना कर ली थी। लगभग 8 -10 वर्ष तक उन्होंने सरकारी नौकरी की और पिता की मृत्यु होने पर नौकरी छोड़ दी। इस समय एक ओर देश की स्वतंत्रता के लिए आन्दोलन हो रहे थे, वहीं दूसरी ओर अंग्रेज़ों के शासन के कारण भारतीय भाषा, सभ्यता और संस्कृति नष्ट भ्रष्ट हो रही थी और उसे बचाने के गंभीर प्रयास किये जा रहे थे। प्रसिद्ध समाज सेविका एनी बेसेंट ऐसे ही प्रयासों के अंतर्गत वाराणसी में कॉलेज की स्थापना करना चाह रही थीं। वह ऐसा कॉलेज स्थापित करना चाहतीं थीं जो अंग्रेज़ी प्रभाव से पूर्णतया मुक्त हो। जैसे ही डॉ. भगवान दास को इसका पता चला उन्होंने तन मन धन से इस महान उद्देश्य पूरा करने का प्रयत्न किया। उन्हीं के सार्थक प्रयासों के फलस्वरूप वाराणसी में 'सैंट्रल हिन्दू कॉलेज' की स्थापना की जा सकी। इसके बाद पं. मदनमोहन मालवीय ने वाराणसी में 'हिन्दू विश्वविद्यालय' स्थापित करने का विचार किया, तब डॉ. भगवान दास ने उनके साथ मिलकर 'काशी हिन्दू विद्यापीठ' की स्थापना में महत्त्वपूर्ण योगदान दिया और पूर्व में स्थापित 'सैंट्रल हिन्दू कॉलेज' का उसमें विलय कर दिया। डॉ. भगवान दास काशी विद्यापीठ के संस्थापक सदस्य ही नहीं, उसके प्रथम कुलपति भी बने।

लेखन

डॉ. भगवान दास ने हिन्दी और संस्कृत भाषा में 30 से भी अधिक पुस्तकों पर लेखन किया। सन् 1953 में भारतीय दर्शन पर उनकी अंतिम पुस्तक प्रकाशित हुई।

स्वतंत्रता में भाग

डॉ. भगवान दास ने देश के प्रति अपने कर्त्तव्यों को भी उसी भाव से निभाया। 1921 के 'सविनय अवज्ञा आन्दोलन' में भाग लेने पर वह गिरफ्तार होकर जेल गये। इसके बाद 'असहयोग आन्दोलन' में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाकर प्रमुख कांग्रेसी नेता के रूप में उभरे। शिक्षा शास्त्री तो वह थे ही, स्वतंत्रता सेनानी के रूप में भी उभर कर सामने आये। असहयोग आन्दोलन के समय डॉ. भगवान दास काशी विश्वविद्यालय के कुलपति थे। उसी समय देश के भावी नेता श्री लालबहादुर शास्त्री भी वहां पर शिक्षा प्राप्त कर रहे थे। इस समय वह कांग्रेस और गांधी जी से पूर्णत: जुड़ गये थे। 1922 में वाराणसी के म्यूनिसिपल कॉर्पोरेशन के चुनावों में कांग्रेस को भारी विजय दिलायी और म्यूनिसिपल कमेटी के अध्यक्ष चुने गये। इस पद पर रहते हुए उन्होंने अनेक सुधार कार्य कराये। साथ ही वह अध्ययन और अध्यापन कार्य से भी जुड़े रहे, विशेष रूप से हिन्दी भाषा के उत्थान और विकास में उनका योगदान विशेष रूप से उल्लेखनीय है। हिन्दी साहित्य सम्मेलन के अध्यक्ष के रूप में उन्होंने महत्त्वपूर्ण कार्य किये। इन महत्त्वपूर्ण कार्यों के कारण उन्हें अनेक विश्वविद्यालयों से डॉक्टरेट की मानद उपाधियों से अलंकृत किया गया। सन् 1935 के कौंसिल के चुनाव में वे कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में विधानसभा के सदस्य निर्वाचित हुए। कालांतर में वे सक्रिय राजनीति से दूर रहने लगे और भारतीय दर्शन और धर्म अध्ययन और लेखन कार्य में व्यस्त रहने लगे। इन विषयों में उनकी विद्वत्ता, प्रकांडता और ज्ञान से महान भारतीय दार्शनिक श्री सर्वपल्ली राधाकृष्णन भी बहुत प्रभावित थे और डॉ. भगवान दास उनके लिए आदर्श व्यक्तित्व बने।

योगदान

डॉ. भगवान दास का योगदान जितना भारतीय शिक्षा व्यवस्था को सुदृढ़ और विकसित करने में मानाजाता है, उतना ही योगदान देश के स्वतंत्रता आन्दोलन में महत्त्वपूर्ण माना जाता है, और जितना योगदान देश के स्वतंत्रता आन्दोलन में महत्त्वपूर्ण माना जाता है, उतना ही योगदान भारतीय दर्शन और धर्मशास्त्र को विश्वस्तर पर प्रतिष्ठित करने में माना जाता है। 'वसुदैव कुटंबकम' अर्थात 'सारा विश्व एक ही परिवार है' की भावना रखने वाले डॉ. भगवान दास ने सम्पूर्ण विश्व के दर्शन और धर्म को प्राचीन और सामयिक परिस्थितियों के अनुरूप एक नया दृष्टिकोण प्रदान किया।

व्यक्तित्व

अपने जीवनकाल में ही अपार धन और सम्मान पाने के बाद भी डॉ. भगवान दास का जीवन भारतीय संस्कृति और महर्षियों की परम्परा का ही प्रतिनिधित्व करता है। वह गृहस्थ थे, फिर भी वह संयासियों की भांति साधारण खान पान और वेशभूषा में रहते थे। वह आजीवन प्रत्येक स्तर पर प्राचीन भारतीय संस्कृति के पुरोधा बने। सन् 1947 में जब देश स्वतंत्र हुआ, तब डॉ. भगवान दास की देशसेवा और विद्वत्ता को देखते हुए उनसे सरकार में महत्त्वपूर्ण पद संभालने का अनुरोध किया गया, किंतु प्रबल गाँधीवादी विचारों के डॉ. भगवान दास ने विनयपूर्वक अस्वीकार कर दर्शन, धर्म और शिक्षा के क्षेत्र को ही प्राथमिकता दी और वह आजीवन इसी क्षेत्र में सक्रिय रहे।

पुरस्कार

सन 1955 में भारत सरकार की ओर से तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद ने उन्हें भारत रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया।

निधन

भारत रत्न मिलने के कुछ वर्षों बाद 18 सितम्बर 1958 में लगभग 90 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया। आज भले ही डॉ. भगवान दास हमारे बीच नहीं हैं, किंतु भारतीय दर्शन, धर्म और शिक्षा पर किया गया कार्य सदैव हमारे साथ रहेगा।

भारत डिस्कवरी प्रस्तुति

Tuesday, November 18, 2014

GOTAM ADANI - गौतम अडानी - दुनिया में धूम मचा रहा है उनका हौसला


देश के पहली पीढ़ी के उद्यमियों की बात हो और गौतम अडानी का जिक्र ना हो, यह तो नामुमकिन है। उन्होंने कारोबार की दुनिया में नई इबारत लिखी है। गौतम अडानी ने अमदाबाद में अपने पिता के कारोबार से न जुड़कर मुंबई में अपनी किस्मत आजमाने का फैसला किया। पहले उन्होंने महिंद्रा बंधु के साथ काम करने का फैसला किया। इसके बाद उन्होंने खुद का डायमंड ब्रोकरेज का व्यवसाय शुरू किया। गौतम यहीं नहीं रुके, पहले उन्होंने अपने भाई महासुख अडानी के साथ काम किया और वर्ष 1988 में अपनी खुद की कंपनी अडानी एक्सपोर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड की स्थापना की। आज अडानी ग्रुप पोर्ट, पावर और कोल इंडस्ट्री में सक्रिय है। अमदाबाद के गौतम अडानी के पुराने मित्र बताते हैं कि 1980 के दौर में वे अपने ग्रे कलर के बजाज सुपर स्कूटर पर अपने बचपन के दोस्त मलय महादेविया के साथ कैसे घूमा करते थे। मूल रूप से पेशे से डेंटिस्ट रहे मलय अब अडानी ग्रुप के साथ अडानी पोर्ट में निदेशक की हैसियत से जुड़े हुए हैं। अडानी की बात करनी है तो हमें 1990 के दशक के आखिरी दौर में जाना होगा। अडानी एक्सपोर्ट कंपनी के एक कर्मचारी ने शुगर ट्रेडिंग के सिलसिले में एक गलत फैसला लिया जिसके कारण कंपनी को 20 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ। खुद को नौकरी से निकाले जाने के डर से इस कर्मी ने पहले ही अपनी गलती के लिए माफी मांग ली और अपने इस्तीफे का पत्र भी दे दिया। उस वक्त करीब 30 की उम्र के रहे गौतम अडानी ने इस कर्मी के त्यागपत्र को फाड़ दिया और उससे मुस्कुराते हुए कहा- मुझे पता है कि आपको इस घटना से जो सीख मिली है उससे आप भविष्य में ऐसी गलती फिर कभी नहीं करेंगे। ऐसे में मैं आपके अगले समवाय को आपकी इस सीख का फायदा क्यों उठाने दूं, जबकि इसके लिए घाटा तो मैंने उठाया है। एक ताजा रपट के मुताबिक, गौतम अडानी देश के सबसे अमीर भारतीयों के क्लब में शामिल हो गए हैं। रपट के मुताबिक गौतम अडानी की संपत्ति में 152 फीसद की बढ़ोत्तरी हुई है, जिसके बाद अडानी ने सारे रिकार्ड तोड़ते हुए देश के दस सबसे अमीर लोगों के क्लब में अपना स्थान पक्का कर लिया है। बिल गेट्स की तरह कालेज बीच में छोड़ देने वाले गौतम अडानी ने मारुति-800 से अपना सफर शुरू किया था जो अब बीएमडब्ल्यू गाडि़यों के बेड़े और एक फरारी पर पहुंच चुका है। इसके अलावा उनके पास 3 हेलिकाप्टरों के साथ-साथ 3 बोम्बार्डियर और बीचक्राफ्ट विमान भी हैं जिनकी सीटों की क्षमता 8, 37 और 50 है।

अडानी ने हालांकि नरेन्द्र मोदी से अपनी नजदीकियों को कभी छिपाने की कोशिश नहीं की, तब भी नहीं जब वर्ष 2004 में राजग सरकार सत्ता से बाहर हो गई थी। लेकिन, सच्चाई यह है कि वह उन पर ज्यादा निर्भर नहीं रहे। यहां तक कि हरियाणा, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और राजस्थान में अपने बिजली कारोबार को बढ़ाने और ओडिशा में बंदरगाहों के लिए निविदाओं के वास्ते अडानी ने संप्रग सरकार में भी अपने कई दोस्त बनाए हैं। वैसे उनके मित्रों में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ और राकांपा नेता शरद पवार भी हैं। पिछले लोकसभा चुनाव के दौरान आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल उन पर नरेन्द्र मोदी के साथ करीबी संबंधों के आरोप लगाते रहे। जवाब में गौतम अडानी ने स्वीकार किया कि हमारे विमानों का इस्तेमाल करने वालों को अडानी ग्रुप विमान उन्हें मुफ्त में उपलब्ध नहीं कराता, बल्कि पार्टी और राज्य सरकार इसका किराया देती रही है। गौतम अडानी ने अपने ऊपर लग रहे आरोपों पर सफाई देते हुए कहा कि गुजरात सरकार ने उन्हें अलग से कोई फायदा नहीं पहुंचाया है और नरेंद्र मोदी से उनके निजी नहीं, बल्कि सिर्फ पेशेवर रिश्ते हैं। उन्होंने गुजरात में बेहद सस्ती दर पर जमीन मिलने की बात को भी खारिज करते हुए कहा कि जब उन्होंने मूंदड़ा की जमीन ली थी, तब वह बिल्कुल बंजर और बेकार थी। अडानी का यह भी दावा है कि उन्हें चिमन भाई पटेल और केशुभाई पटेल की सरकारों के समय जितनी सस्ती जमीन मिली उतनी इस दौर में नहीं मिली। बहरहाल,गौतम अडानी की काबिलियत सिर्फ देश की सीमाओं तक सीमित नहीं है। उन्होंने आस्ट्रेलिया के शीर्ष राजनीतिक हलकों में भी लोगों से अपने बेहतरीन रिश्ते बनाए हैं, जहां अडानी ग्रुप का कोयला खदान और ब्रिस्बेन के पास एक पोर्ट में कुल 6 अरब डॉलर के निवेश की योजना है। गौतम पूरी तरह से पारिवारिक इंसान हैं। गौतम के 7 भाई-बहन हैं। उनकी पत्नी का नाम प्रीति है। गौतम और प्रीति के दो बेटे करन और जीत अडानी हैं। उम्मीद करनी चाहिए कि वे आगे भी कारोबार की दुनिया में अपने लिए नई बुलंदियों को छूते रहेंगे। 

साभार: पाञ्चजन्य 

saabhaar 

Wednesday, November 5, 2014

Alok Kejriwal - आलोक केजरीवाल





Alok Kejriwal (25 December 1968), CEO & Co-founder Games2win, is an Indian entrepreneur and founder of the Contests2win Group of companies. Games2win is a global top 20 online games business that entertains over 20 million unique users a month. Its top games include Parking Frenzy (also ranked #1 on the US iTunes Appstore.), Supermom, Turbo Cricket, Best Friends Forever, Fab Tattoo Artist, etc.

Born and brought up in Mumbai, Alok Kejriwal is from a Marwari family with a business background. He studied at Campion School where he won many prizes in elocution & debates. He holds a Masters degree in Commerce from Sydenham College of Commerce and Economics, Mumbai.

At 21, he joined father Anand Kejriwal’s socks manufacturing company, Hindustan Hosiery Industries. After 10 years as Socks Entrepreneur, he resigned to start his own Online venture in 1998 called Contests2Win which handled SMS contests for various TV shows. It quickly grabbed the VAS Business of Indian Idol. In 2001, he then set up a mobile venture Mobile2win in China to offer mobile competitions and promotions by starting a television to mobile interactive platform.Mobile2win was brought into India in 2003. The company was acquired by Walt Disney in China in and Norwest Venture Partners in India in 2006. Media2win, an interactive digital agency was founded in 2004. Games2win is his fourth company which he co-founded in 2007.

Kejriwal lives in Mumbai with his wife Chhavi Kejriwal and two daughters. He blogs at therodinhoods.com – a community of entrepreneurs he founded in 2010. He is increasingly getting to be known as Rodinhood, which is derived from names of Auguste Rodin and famous English outlaw Robinhood.

SAABHAAR : WIKIPEDIA