Friday, August 28, 2015

Bold banias conquer nayi duniya

In the street theatre of Indian politics, the mercantile community has always enjoyed playing puppeteer. Away from the arc lights, they have used the muscle of money to ensure that irrespective of who reigns, they control the strings. Now, the kingmakers are turning kings. Two of India's top politicians, Narendra Modi and Arvind Kejriwal, belong to the mercantile community of west and north India. 

Columnist Aakar Patel, who has written extensively on banias, says Modi marks a departure from the past because he is direct in his quest for power. Similarly, Kejriwal's forceful and articulate leadership is markedly different from the community's traditional image of keeping its cards close to its chest. "But Kejriwal is the bigger radical as he also rejects the community's money-driven worldview. In their own ways, the two leaders represent the mercantile community's new confident face,"says Patel. 

It isn't just politics. The bold bania has stepped out to conquer brave new worlds. Four of the top 20 UPSC successful candidates in 2011, including topper Shena Aggarwal, came from this community. So did toppers Arpit Aggarwal (IIT-JEE 2012), Vidit Aggarwal (CAT 2010) and Nikhil Agarwal (2011-13 batch, IIM-A). 

In medical science, they rank among the best. A 2011 article in a national daily rated Vipul Gupta and Deepak Agrawal as two of India's best neurosurgeons. And let's not forget Flipkart's Sachin Bansal, Zomato's Deepinder Goyal and Myntra's Mukesh Bansal — all poster boys of the new economy. 

Author Ashwin Sanghi says that in recent times "the community has become far more open to the idea that individuals can excel outside the world of business". This is not to suggest that banias did not excel beyond core areas in the past. Sanghi talks of Gujarat's Sarabhai clan, as famous for their textile mills as for Vikram Sarabhai, ISRO and IIM-A. "Similarly, Sir Shankar Lal set up DCM but also patronized the arts through the Sir Shankarlal Festival of Music. Even Hindi film hero Bharat Bhushan came from the merchant class. More recently, we have examples of Sanjay Leela Bhansali, Abhishek Singhvi, Lalit Modi, Bimal Jalan and others who made a name for themselves in other areas," he says. 

The banias can be largely categorized as the traditional entrepreneurial and trading classes of north and west India. In the Hindu varna system, most are vaishyas by caste. Some are Jains too. If we include petty traders and small, caste-driven, professional communities, some would be OBCs as well. For instance, Modi's a ghanchi (oil pressers), an OBC. 

That the community has now widened its field of play is evident from Kejriwal's background. He comes from a family of grain merchants in Haryana. In his hometown Siwani, two of his uncles still practise the trade. His father was the first to break out by becoming an engineer. Arvind went several steps further: the engineer has transformed into a tough-talking politician. 

However, social commentator Santosh Desai says Kejriwal's rise needs to be seen beyond the bania lens. "We need to understand that a third kind of India is emerging beyond the India-Bharat binary or the caste-community prism," he says. 

This is also, because as Patel points out, the mercantile community is "generally socially conservative and finds resonance with Hindutva, especially on issues of cow slaughter." 

Desai links the rise of the bania to the changing values of post-liberalization India where money, once regarded as a contaminant, is seen as an energizer. "Money-making has not only earned legitimacy, it is central to most lives. This change in society's attitude has helped in the rise of the bania community," he says. 

Business historian Gita Piramal believes that education, urban-rural migration, satellite TV and economic growth have forced the country to shed its past. "The change in the mercantile community is just a small sub-section in the larger transformation of India," she says. 

Most experts agree that the key to the community's bold new vision lies in its embrace of education. As Patel points out, "Once you blend stable, upper middle class income with five-six generations of decent education, you find a confident community empowered to move away from its conservative roots." 

He illustrates the point with an example. Basant Kumar Birla, grandfather of Kumar Mangalam Birla, was already in office by the time he was 14-15. "Staff members were deputed to teach him cash flow and book-keeping. Now the alumni of top business schools are full of surnames from the mercantile communities," says Patel. Sanghvi says, "Parents are more open to children choosing a path that may be remarkably different to the ones that they chose for themselves." 

Sanghvi says, "Parents are more open to children choosing a path that may be remarkably different to the one they chose for themselves." Desai sums it up, "In the past, the community was sequestered by a conservative, inward-looking view of the world. Now the fear of the outsider is gone." 

It wasn't always like that. In politics, right from the days of the 18th-century Jagat Seths, the banias were primarily backroom boys. 

Business historian and journalist Harish Damodaran says, "Apart from Gandhi (and Ram Manohar Lohia, though he was more an OBC in spirit!), we didn't have too many banias in politics. They preferred to be backroom funders (Birla, Bajaj, Dalmia). The politicians were largely brahmins (Nehru, Morarji Desai, G B Pant) or kayasthas (Rajendra Prasad, JP, Lal Bahadur Shastri, Subhash Chandra Bose)." 

He adds, "State-level politicians like Chandra Bhanu Gupta in UP and Banarasi Dass Gupta in Haryana got marginalized by Jat leaders like Charan Singh, Devi Lal and Bansi Lal. Post-Mandal, the community became more politically irrelevant. Post-Mandal, the community became more politically irrelevant." At the most they were trusted as treasurers in a top political party; such as Sitaram Kesari in Congress. 

SAABHAAR: Avijit Ghosh,TNN




Friday, August 21, 2015

जींद के विपुल गर्ग ने किया ऑल इंडिया प्री मेडिकल में किया टॉप


जींद शहर के एक हौनहार विपुल गर्ग ने केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की एआइपीएमटी की परीक्षा में देश भर में प्रथम स्थान प्राप्त कर न केवल जींद शहर बल्कि अपने प्रदेश का नाम भी ऊचां किया है उसने 12 वीं परीक्षा में 90 फीसदी अंक हासिल किए थे। जैसे ही यह समाचार मिला तो विपुल गर्ग के यहां बधाई देने वालों की कतार लगनी आरंभ हो गई और सभी इस हौनहार छात्र की तारिफ कर रहे थे विपुल के पिता पेशे से व्यवशायी हैं परिवार के लोग भी उसकी इस उपलब्धि पर खुशी से फुले नही समा रहें है विपुल ने बताया कि वह मेहनत और लग्र से कार्य करेगा और आगे भी अपने शहर व प्रदेश का नाम ऐसे ही ऊचां करने का प्रयास करेगा। अपनी सफलता पर विपुल ने कहा कि परीक्षा के बाद मैं खुश था कि मेरे पेपर अच्छे हो गए थे लेकिन टॉप करने के बारे में कभी नहीं सोचा था। उसने कहा कि मुझे अब बहुत खुशी है कि मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज नई दिल्ली में एडमिशन मिल सकेगा। यह एक स्वप्न था मेरे और मेरे परिवार के लिए जो सच हो गया। विपुल ने बताया कि 3 मई को हुई परीक्षा में उसके पेपर अच्छे रहे थे ले किन सुप्रीम कोर्ट ने इसे रद्द कर दिया था। इसके बाद उसे तैयारी का एक और मौका मिल गया। रिटेस्टे होने से और अच्छा परफार्म कर सका।सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ;सीबीएसई की ओर से गत 25 जुलाई को देशभर में पुन: ऑल इंडिया प्री मेडिकल टेस्ट की परीक्षा हुई थी। इसके लिए कुल 6लाख 32हजार 625 उम्मीदवार पंजीकृत हुए थे जिसमें 4लाख22हजार859 उम्मीदवारों ने परीक्षा देने के लिए प्रवेश पत्र डाउनलोड किया। देश विदेश के कुल 50 शहरों के कुल 1065 सेंटरों पर यह परीक्षा हुई। सीबीएसई ने परीक्षा के सफल संचालन के लिए कड़े सुरक्षा इंतजाम किए थे। दिल्ली में करीब 80 परीक्षा सेंटरों पर परीक्षार्थियों ने ये प्रवेश परीक्षा दी थी

Monday, August 3, 2015

IRA SINGHAL - इरा सिंघल "IAS TOPPER"



मैं हूं इरा सिंघल। मैंने आईएएस टॉप किया है। आज लोग मुझे जानते हैं, लेकिन एक समय मुझे अपनी पहचान के लिए संघर्ष करना पड़ा। मैंने जीवन में कई उतार-चढ़ाव देखे हैं। बचपन में ही मेरी रीढ़ की हड्डी सिकुड़ने लगी। मेडिकल में इसे रेअरेस्ट माना जाता है। डॉक्टर्स ने इसे स्कोलियोसिस बताया। मुझे उस उम्र में इस बीमारी का पता भी नहीं था। पर मेरी ज़िंदगी में संघर्ष यहीं से शुरू हो गया। ऑपरेशन कराने में जान का खतरा था, तो माता-पिता ने जाेखिम नहीं लिया। मेरी ज़िंदगी अपनी राह पर थी, तो यह स्थिति भी साथ थी।

स्कूल में एडमिशन का समय आया, तो बहुत मुश्किलें आईं। मुझे यह तक कहा गया कि मैं नाक में बोलती हूं। बड़ी मिन्नतों के बाद अलग से टेस्ट लिया। पांचवीं तक मैं हमेशा फर्स्ट आई, क्योंकि मां पढ़ाई पर ध्यान देती थी। बाद में पापा को बिज़नेस में घाटा होने पर ऐसे हालात हो गए कि मेरी पढ़ाई भी प्रभावित होने लगी। पापा ने 1993 में एक बिज़नेस शुरू किया, जिसमें बड़ा नुकसान हुआ। 1997 तक तो आर्थिक हालात बेहद खराब हो गए। हम किराए के घर में रहे। पैसों की इतनी कमी थी कि घर में एक टेबल फैन खरीदने के भी पैसे नहीं थे। बाद में मकान मालिक ने हमें पंखा दिया।

इरा कहती हैं, ‘अब दुनिया मेरे जैसों को अलग तरीके से देखने लगेगी।’ मेरी हमेशा से इच्छा कुछ अलग करने की ही रही है। 1995 में दिल्ली आने से पूर्व हमारा परिवार मेरठ में रहता था। जहां मैंने सोफिला गर्ल्स स्कूल से पहली से छठी तक की पढ़ाई की। वहां से दिल्ली आने के बाद दिल्ली के लोरेटो कॉन्वेंट स्कूल से 10वीं पास की फिर धौला कुआं स्थित आर्मी पब्लिक स्कूल से अपनी 12वीं की पढ़ाई पूरी की। वर्ष 2006 में एनएसआईटी द्वारका से पढ़ाई की। वर्ष 2006 से 2008 तक डीयू के एफएमएस से फाइनेंस और मार्केटिंग में एमबीए किया। फिर कैडबरी इंडिया में कस्टमर डेवलपमेंट मैनेजर की पोस्ट पर दो साल तक काम किया।

बचपन में मुझे डॉक्टर बनने का शौक था। पढ़ाई में भी अच्छी थी, लेकिन पापा ने समझाया कि पढ़ाई तो कर लोगी लेकिन खड़े होकर घंटो सर्जरी कैसे करोगी। मन मारकर मैंने डीयू के नेताजी सुभाष इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग कॉलेज में दाखिला लिया। यहां बीटेक कंप्यूटर साइंस में दाखिला मिला। परीक्षा होने से कुछ दिन पहले पढ़ाई करती थी। अच्छे नंबरों से पास हुई। कॉलेज के दिनों में मैंने थियेटर ग्रुप भी ज्वाइन किया, क्योंकि शारीरिक दिक्कतों ने कभी मेरा हौसला नहीं तोड़ा। मन में हमेशा यह कोशिश रहती की दूसरों के समकक्ष आने के लिए मुझे थोड़ी ज्यादा कोशिश करनी है। यही ज्यादा कोशिश मुझे यहां तक ले आई। मैंने भूगोल को मुख्य विषय के रूप में चुना, मन लगाकर पढ़ाई की। वर्ष 2010 के पहले ही प्रयास में सफलता मिली। मेरा मन विदेश सेवा में जाने का था, लेकिन मेडिकल शर्तों की वजह से मुझे पोस्टिंग नहीं दी गई। लगातार तीन बार सिविल सेवा की परीक्षा मैंने उत्तीर्ण की। परीक्षा पास करने के बाद भी पोस्टिंग न मिलना यकीनन कठिन रहा। मैंने हार नहीं मानी। अपने हक के लिए कोर्ट गई, इसमें पापा ने बहुत फाइट लड़ी। हर कदम पर वे मेरे साथ रहे।

2011 में मैंने परीक्षा पास कर ली थी, लेकिन इसके जश्न पर तब पानी फिर गया, जब सरकार ने मुझे नियुक्ति देने से इंकार कर दिया। इतना ही नहीं, मेरी उम्मीदवारी ही खत्म कर दी गई, क्योंकि उनका मानना था कि मैं इस काम के लिए शारीरिक रूप से अक्षम हूं। एक कारण यह दिया गया कि 62 फीसदी विकलांगता ने मेरी दोनों बाहों को प्रभावित किया है, जिसके कारण मैं किसी चीज़ को न खींच सकती हूं, न धकेल सकती हूं और न उठा सकती हूं। बड़ी अजीब बात थी कि सरकार को लगता था कि भारतीय राजस्व सेवा के दायित्व को निभाने के लिए इन शारीरिक क्षमताओं की जरूरत है। मैंने सोच लिया कि मैं यह मूर्खतापूर्ण नियम अपने पर लागू नहीं होने दूंगी। अपनी लड़ाई मैं केंद्रीय प्रशासनिक न्यायाधिकरण तक लाई।

वहां 18 महीने तक संघर्ष चला और मेरे पक्ष में फैसला आया। बेंच के सदस्यों ने भी इस बात पर आश्चर्य व्यक्त किया कि क्या वाकई किसी आईआरएस ऑफिसर को किसी रेड के दौरान ऐसे भारी पैकेट उठाने की जरूरत पड़ती है। मेरी मेडिकल जांच में मैंने उन्हें बता दिया कि 10 किलो तक का वजन तो मैं उठा सकती हूं। जिस दिन मैंने यूपीएससी की परीक्षा पास की, केंद्रीय कार्मिक प्रशासन विभाग से फोन आया कि मंत्री महोदय मुझसे मिलना चाहते हैं। मजे की बात यह है कि ये वही विभाग है, जिसने मुझे आईआरएस की परीक्षा पास करने के बाद ठुकरा दिया था। वर्ष 2014 में आईआरएस सेवा में ज्वाइनिंग मिली, इस दौरान एक दोस्त से मुलाकात हुई, जिसने कहा कि मैं चौथी बार आईएएस के लिए परीक्षा दूं। मैंने उसकी सलाह मानी और दो महीने तक उसके साथ ग्रुप डिस्कशन और पढ़ाई की। जिससे न केवल मेरा चयन हुआ, बल्कि मैं परीक्षा में टॉप कर सकी।

मेरी शारीरिक सीमाएं कभी मुझे अपने सपनों को साकार करने में बाधा नहीं लगी। सच तो यह है कि जब हम अपनी सीमाएं और मर्यादाएं तोड़ते हैं, तो ही सीमित दायरे से बाहर आते हैं और कामयाबी के लायक बनते हैं। हर संघर्ष आपको कुछ न कुछ सीखाता है। संघर्ष में हार की संभावना तो रहती है, लेकिन जीवन में आपको लड़ते चले जाना पड़ता है। किसी न किसी तरह का संघर्ष हर व्यक्ति को करना पड़ता है और इससे बचना तो मेरे ख्याल से जिंदगी को ठुकराने जैसा ही है।

मेरे माता-पिता फाइनेंशियल एवं इंशुरेन्स कंसलटेन्सी के व्यवसाय में हैं। उन्होंने कभी मुझे विकलांग मानकर मेरे साथ व्यवहार नहीं किया। बचपन से ही उन्होंने मुझे यह सिखाया है कि परिस्थितियों को एक शारीरिक रूप से सामान्य व्यक्ति की तरह कैसे देखना चाहिए। मेरा संघर्ष इसलिए नहीं था कि मैं शारीरिक रूप से अक्षम थी, बल्कि संघर्ष इसलिए था कि मैं महिला हूं। जैसे हर महिला को भेदभाव और एक पिछड़ी सोच का सामना करना पड़ता है, वैसा ही मुझे भी करना पड़ा। आईएएस अफसर की भूमिका में भी मैं महिला, बच्चों और शारीरिक रूप से विकलांग लोगों के लिए काम करना चाहूंगी। यह सफलता पाकर मुझे बहुत आश्चर्य हुआ। मैं हर किसी से यह कहना चाहती हूं कि अपनी बेटी को पढ़ने और काम करने दीजिए। उन्हें दुनिया में जाने दीजिए और अपनी ज़िंदगी खुद बनाने का मौका दीजिए।

साभार: दैनिक भास्कर

Saturday, August 1, 2015

पुरातन वैज्ञानिक ब्रह्मगुप्त - BRAHAMGUPT



साभार: भारतीय वैज्ञानिक-K.M.L. SHRIVASTAVA

जांगडा पोरवाल समाज - JANGDA PORWAL SAMAJ

गौरी शंकर हीराचंद ओझा (इण्डियन एक्टीक्वेरी, जिल्द 40 पृष्ठ क्र.28) के अनुसार आज से लगभग 1000 वर्ष पूर्व बीकानेर तथा जोधपुरा राज्य (प्राग्वाट प्रदेश) के उत्तरी भाग जिसमें नागौर आदि परगने हैं, जांगल प्रदेश कहलाता था।

जांगल प्रदेश में पोरवालों का बहुत अधिक वर्चस्व था। समय-समय पर उन्होंने अपने शौर्य गुण के आधार पर जंग में भाग लेकर अपनी वीरता का प्रदर्शन किया था और मरते दम तक भी युद्ध भूमि में डटे रहते थे। अपने इसी गुण के कारण ये जांगडा पोरवाल (जंग में डटे रहने वाले पोरवाल) कहलाये। नौवीं और दसवीं शताब्दी में इस क्षेत्र पर हुए विदेशी आक्रमणों से, अकाल, अनावृष्टि और प्लेग जैसी महामारियों के फैलने के कारण अपने बचाव के लिये एवं आजीविका हेतू जांगल प्रदेश से पलायन करना प्रारंभ कर दिया। अनेक पोरवाल अयोध्या और दिल्ली की ओर प्रस्थान कर गये। दिल्ली में रहनेवाले पोरवाल “पुरवाल”कहलाये जबकि अयोध्या के आस-पास रहने वाले “पुरवार”कहलाये। इसी प्रकार सैकड़ों परिवार वर्तमान मध्यप्रदेश के दक्षिण-प्रश्चिम क्षेत्र (मालवांचल) में आकर बस गये। यहां ये पोरवाल व्यवसाय /व्यापार और कृषि के आधार पर अलग-अलग समूहों में रहने लगे। इन समूह विशेष को एक समूह नाम (गौत्र) दिया जाने लगा। और ये जांगल प्रदेश से आने वाले जांगडा पोरवाल कहलाये। वर्तमान में इनकी कुल जनसंख्या 3 लाख 46 हजार (लगभग) है।

राजा टोडरमल पोरवाल - RAJA TODARMAL


टोडरमल का जन्म चैत्र सुदी नवमी बुधवार संवत् 1658 वि. (सन् 1601, मार्च 18) को बूँदी के एक पोरवाल वैश्य परिवार मे हुआ था। बाल्यकाल से वह हष्टपुष्ट, गौरवर्ण युक्त बालक अत्यन्त प्रतिभाशाली प्रतीत होता था। धर्म के प्रती उसका अनुराग प्रारंभ से ही था। मस्तक पर वह वैष्णव तिलक लगया करता था।

युवावस्था में टोडरमल ने अपने पिता के लेन-देन के कार्य एवं व्यवसाय में सहयोग देते हुए अपने बुद्धि चातुर्य एवं व्यावसायिक कुशलता का परिचय दिया । प्रतिभा सम्पन्न पुत्र को पिता ने बूँदी राज्य की सेवा में लगा दिया । अपनी योग्यता और परिश्रम से थोड़े ही दिनों में टोडरमल ने बूँदी राज्य के एक ईमानदार , परिश्रमी और कुशल कर्मचारी के रुप में तरक्की करते हुए अच्छा यश अर्जित कर लिया।

उस समय मुगल सम्राट जहाँगीर शासन कर रहा था। टोडरमल की योग्यता और प्रतिभा को देखकर मुगल शासन के अधिकारियों ने उसे पटवारी के पद पर नियुक्त कर दिया। थोड़े ही काल में टोडरमल की बुद्धिमत्ता , कार्यकुशलता, पराक्रम और ईमानदारी की प्रसिद्धि चारों ओर फैल गई और वह तेजी से उन्नति करने लगा।

सम्राट जहाँगीर की मृत्यु के बाद उसका पुत्र शाहजहाँ मुगल साम्राज्य का स्वामी बना। 1639 ई. में शाहजहाँ ने टोडरमल के श्रेष्ठ गुणों और उसकी स्वामी भक्ति से प्रभावित होकर उसे राय की उपाधि प्रदान की तथा सरकार सरहिंद की दीवानी, अमीरी और फौजदारी के कार्य पर उसे नियुक्त कर दिया। टोडरमल ने सरहिंद में अपनी प्रशासनिक कुशलता का अच्छा परिचय दिया जिसके कारण अगले ही वर्ष उसे लखी जंगल की फौजदारी भी प्रदान कर दी गई । अपने शासन के पन्द्रहवें वर्ष में शाहजहाँ ने राय टोडरमल पोरवाल को पुन: पुरस्कृत किया तथा खिलअत, घोड़ा और हाथी सहर्ष प्रदान किये । 16 वें वर्ष में राय टोडरमल एक हजारी का मनसबदार बन गया। मनसब के अनुरुप से जागीर भी प्राप्त हुई। 19वें वर्ष में उसके मनसब में पाँच सदी 200 सवारों की वृद्धि कर दी गई । 20वें वर्ष में उसके मनसब में पुन: वृद्धि हुई तथा उसे ताल्लुका सरकार दिपालपुर परगना जालन्धर और सुल्तानपुर का क्षेत्र मनसब की जागीर में प्राप्त हुए । उसने अपने मनसब के जागीरी क्षेत्र का अच्छा प्रबन्ध किया जिससे राजस्व प्राप्ति में काफी अभिवृद्धि हो गई ।

राय टोडरमल निरन्तर उन्नति करते हुए बादशाह शाहजहाँ का योग्य अधिकारी तथा अतिविश्वस्त मनसबदार बन चुका था । 21वें वर्ष में उसे राजा की उपाधि और 2 हजारी 2हजार सवार दो अस्पा, तीन अस्पा की मनसब में वृद्धि प्रदान की गई । राजा की पदवी और उच्च मनसब प्राप्त होने से राजा टोडरमल पोरवाल अब मुगल सेवा में प्रथम श्रेणी का अधिकारी बन गया था। 23वें वर्ष में राजा टोडरमल को डंका प्राप्त हुआ।

सन् 1655 में राजा टोडरमल गया। जहाँ उसका एक परममित्र बालसखा धन्नाशाह पोरवाल रहता था। धन्नाशाह एक प्रतिष्ठित व्यापारी था। आतिथ्य सेवा में वह सदैव अग्रणी रहता था। बूँदी पधारने वाले राजा एवं मुगल साम्राज्य के उच्च अधिकारी उसका आतिथ्य अवश्य ग्रहण करते थे। बूँदी नरेश धन्नाशाह की हवेली पधारते थे इससे उसके मानसम्मान में काफी वृद्धि हो चुकी थी। उसकी रत्ना नामक एक अत्यन्त रुपवती, गुणसम्पन्न सुशील कन्या थी। यही उसकी इकलौती संतान थी। विवाह योग्य हो जाने से धन्नाशाह ने अपने समान ही एक धनाढ्य पोरवाल श्रेष्ठि के पुत्र से उसकी सगाई कर दी।

भाग्य ने पलटा खाया और सगाई के थोड़े ही दिन पश्चात् धन्नाशाह की अकाल मृत्यु हो गई । दुर्भाग्य से धन्नाशाह की मृत्यु के बाद लक्ष्मी उसके घर से रुठ गई जिससे एक सुसम्पन्न, धनाढ्य प्रतिष्ठित परिवार विपन्नावस्था को प्राप्त हो गया। धन्नाशाह की विधवा के लिए यह अत्यन्त दु:खमय था। गरीबी की स्थिति और युवा पुत्री के विवाह की चिन्ता उसे रात दिन सताया करती थी । ऐसे ही समय अपने पति के बालसखा राजा टोडरमल पोरवाल के बूँदी आगमन का समाचार पाकर उसे प्रसन्नता का अनुभव हुआ।

एक व्यक्ति के साथ धन्नाशाह की विधवा ने एक थाली मे पानी का कलश रखकर राजा टोडरमल के स्वागत हेतू भिजवाया। अपने धनाढ्य मित्र की ओर से इस प्रकार के स्वागत से वह आश्चर्यचकित रह गया। पूछताछ करने पर टोडरमल को अपने मित्र धन्नाशाह की मृत्यु उसके परिवार के दुर्भाग्य और विपन्नता की बात ज्ञात हुई, इससे उसे अत्यन्त दु:ख हुआ । वह धन्नाशाह की हवेली गया और मित्र की विधवा से मिला। धन्नाशाह की विधवा ने अपनी करुण गाथा और पुत्री रत्ना के विवाह की चिन्ता से राजा टोडरमल को अवगत कराया।

अपने परममित्र सम्मानित धनाढ्य श्रेष्ठि धन्नाशाह की विधवा से सारी बातें सुनकर उसे अत्यन्त दु:ख हुआ। उसने उसी समय धन्नाशाह की पुत्री रत्ना का विवाह काफी धूमधाम से करने का निश्चय व्यक्त किया तथा तत्काल समुचित प्रबन्ध कर रत्ना के ससुराल शादी की तैयारी करने की सूचना भिजवा दी। मुगल साम्राज्य के उच्च सम्मानित मनसबदार राजा टोडरमल द्वारा अपने मित्र धन्नाशाह की पुत्री का विवाह करने की सूचना पाकर रत्ना के ससुराल वाले अत्यन्त प्रसन्न हुए ।

राजा टोडरमल ने एक माह पूर्व शान शौकत के साथ गणपतिपूजन करवा कर (चाक बंधवाकर) रत्ना के विवाहोत्सव का शुभारंभ कर दिया। निश्चित तिथि को रत्ना का विवाह शाही ठाटबाट से सम्पन्न हुआ। इस घटना से राजा टोडरमल की उदारता, सहृदयता और मित्रस्नेह की सारी पोरवाल जाति में प्रशंसा की गई और उसकी कीर्ति इतनी फैली की पोरवाल समाज की स्त्रियाँ आज भी उनकी प्रशंसा के गीत गाती है और पोरवाल समाज का एक वर्ग उन्हें अपना प्रातः स्मरणीय पूर्वज मानकर मांगलिक अवसरों पर सम्मान सहित उनका स्मरण करता है तथा उन्हें पूजता है। इस प्रकार राजा टोडरमल का यश अजर-अमर हो गया। हाड़ौती (कोटा-बूँदी क्षेत्र) तथा मालवा क्षेत्र में जहाँ भी पोरवाल वास करते है, वहाँ टोडरमल की कीर्ति के गीत गाये जाते हैं तथा उनका आदरसहित स्मरण किया जाता है। उनके प्रति श्रद्धा इतनी अधिक रही है कि पोरवाल व्यापारी की रोकड़ न मिलने पर टोडरमल का नाम लिखा पर्चा रोकड़ में रख देने से प्रातःकाल रोकड़ मिल जाने की मान्यता प्रचलित हो गई है।

सम्राट शाहजहाँ का उत्तराधिकारी दाराशिकोह वेदान्त दर्शन से अत्यन्त प्रभावित उदार विचारों का व्यक्ति था। सन् 1658 से बादशाह शाहजहाँ के गम्भीर रुप से अस्वस्थ हो जाने की अफवाह सुनकर उसके बेटे मुराद और शुजा ने विद्रोह कर दिया। 16 अप्रैल 1658 ई. शुक्रवार को धरमाट (फतियाबाद) के मैदान में औरंगज़ेब की सेनाओं ने शाही सेना को करारी शिकस्त दी। सामूगढ़ के मैदान में पुनः दाराशिकोह के नेतृत्व में शाही सेना को औरंगज़ेब और मुराद की संयुक्त सेना से पराजय का सामना करना पड़ा। दारा युद्ध में पराजित होकर भागा। औरंगज़ेब ने आगरा पर अधिकार कर पिता को किले में कैद किया और फिर आगे बढ़ा। रास्ते में मुराद को समाप्त कर औरंगज़ेब ने पंजाब की ओर भागे दाराशिकोह का पीछा किया।

राजा टोडरमल की प्रारम्भ से ही दाराशिकोह के प्रति सहानुभूति थी। पराजित दारा के प्रति उसकी सहानुभूति में कोई अन्तर नहीं आया। अतः जब दारा लखी जंगल से गुजरा तो राजा टोडरमल ने जो लखी जंगल का फौजदार था, अपने कई मौजें में गड़े धन से 20 लाख रुपये गुप्त रुप से सहायतार्थ प्रदान किये थे।

इसी कारण पंजाब की ओर दारा का पीछा करने के बाद लाहौर से दिल्ली की तरफ लौटते हुए औरंगज़ेब ने अनेक सरदारों और मनसबदारों को खिलअते प्रदान की थी। तब लखी जंगल के फौजदार राजा टोडरमल को भी खिलअत प्राप्त हुई थी।

इटावा का फौजदार रहते हुए राजा टोडरमल ने अपनी पोरवाल जाति को उस क्षेत्र में बसाने तथा उन्हें व्यापार- व्यवसाय की अभिवृद्धि के लिये समुचित सुविधाएँ प्रदान करने में महत्वपूर्ण सहयोग प्रदान किया था। सम्भवतः इस कारण भी जांगड़ा पोरवाल समाज में इसके प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने के उद्देश्य से एक श्रद्धेय पूर्वज के रुप में राजा टोडरमल की पूजा की जाती है ।

राजा टोडरमल अपने अंतिम समय में अपने जन्मस्थल बूँदी में अपना शेष जीवन परोपकार और ईश्वर पूजन में व्यतीत करने लगे तथा समाज के सैकड़ों परिवार इटावा क्षेत्र त्यागकर बून्दी कोटा क्षेत्र में आ बसे। यहीं से ये परिवार बाद में धीरे-धीरे मालवा क्षेत्र में चले आए।

राजा टोडरमल की मृत्यु कहाँ और किस तिथि को हुई थी इस सम्बन्ध में निश्चित कुछ भी ज्ञात नहीं है । किन्तु अनुमान होता है कि सन् 1666 ई. में पोरवाल समाज के इस परोपकारी प्रातः स्मरणीय महापुरूष की मृत्यु बूँदी में ही हुई होगी । कोटा बूँदी क्षेत्र में आज भी न केवल पोरवाल समाज अपितु अन्य समाजों मे भी राजा टोडरमलजी के गीत बड़ी श्रद्धा के साथ गाये जाते हैं।

साभार : jangda porwal samaj history http://jangdaporwalsamaj.org/

श्रेष्ठी पाड़ाशाह और पारस पत्थर

श्रेष्ठी पाड़ाशाह और पारस पत्थर

पाड़ाशाह नाम के धर्मात्मा श्रेष्ठी (व्यापारी) गृहपति गहोई जाति के वैश्य रत्न थे जो चेंदी जनपद (वर्तमान चंदेरी ) के थुबौन ग्राम (वर्तमान अतिशय क्षेत्र थुबौन जी ) के रहने वाले कहे जाते थे । बचपन से ही पाड़ाशाह को जैन धर्म में सच्ची आस्था थी । वह स्वभाव से सरल होकर सत्य, अहिंसा एवं रतनात्रय धर्म के पक्के श्रद्धालु भक्त थे । बचपन से ही उन्हें जैन धर्म के ज्ञान की देवोपुनीत प्रतिभा की देन थी । पुण्य कर्मो के प्रभाव से उन्हें धनी होने का सौभाग्य प्राप्त था। बाल्यावस्था से ही इस पुण्य जीव के भाव जगह जगह जिन मंदिर बनवाना, प्रतिष्ठा करना तथा धर्म की प्रभावना करते रहने का था ।
पाड़ाशाह अधिकतर पाड़ो की पीठ पर सामान क्रय विक्रय का व्यापार किया करते थे। वह एक कुशल व्यापारी थे । संभवतः इसीलिए इनका नाम पाड़ाशाह पड़ा हो, पूर्व नाम कुछ और हो।
paras
एक दिन जब वह अपने पाड़ो सहित ग्राम बजरंगढ़ की ओर जा रहे थे की रास्ते में पठार पर उनके पाड़ो में से एक पाड़ा गुम हो गया। वह चिन्तित हुवे अपने गुमशुदा पाड़े की खोज करने लगे। परेशान होकर जब वह निराश होकर लौट रहे थे तो उन्हें गुमशुदा पाड़ा दिखा और उसके गले की लोहे की जंजीर सोने (स्वर्ण) की हो गयी थी, वही उन्हें खोज करने पर पारस पत्थर मिला। पारस पत्थर पाकर उनकी धर्म प्रभावना प्रबल हो उठी। उन्हें उसी रात्रि को ऐसा सपना आया कि वो इस पारस पत्थर द्वारा इसी ग्राम में जिनालय का निर्माण कराये और ऐसा ही हुआ पाड़ाशाह ने मुख्य मंदिर का निर्माण कराया और तभी से इस पठार के रास्ते का नाम पाड़ा-खोह के नाम से प्रसिद्ध हो गया। उन्होंने मंदिर और मूर्तियाँ निर्मित कराकर उन्हें प्रतिष्ठित कराने का संकल्प किया और सर्वप्रथम उन्होंने बजरंगढ़ में ही पाड़ा-खोह नामक स्थान से 2 किलोमीटर दूर दक्षिण में भगवान शांतिनाथ के भव्य जिनालय का निर्माण कराया और उसमे इन तीनों तीर्थंकरों की विशाल प्रतिमायें फाल्गुन सुदी 6 विक्रम सम्वत 1236 को प्रतिष्ठित करायी । यह क्षेत्र पाड़ाशाह की उदारता, धर्मनिष्ठा एवं जैन संस्कृति का ज्वलंत प्रमाण है ।
पाड़ाशाह ने अपने जीवन काल में इस क्षेत्र के अलावा भी कई विशाल मंदिरों का निर्माण कराया जिनमे मनोज्ञ मनभावन मूर्तियों की प्रतिष्ठा कराई है जैसे थूबौन जी, चंदेरी, आहार जी, पपोरा जी, झालरापाटन, चाँदखेड़ी, बानपुर, सोनागिर का एक मंदिर, भियादांत बेरसिया, वर्री, मामोन (भाभोंन), सतना, सुम्मे के पहाड़, परचाई चौरासी, गोलाकोट, सेरोन जी खलारा, बल्हारपुर, सुखाया, शेषई, राई, पनवाडा, आमेट, दूवकुण्ड, आरा (अगरा), में भी जिनालयों का निर्माण कराया ।
प्रायः उन्होंने शांतिनाथ, कुंथुनाथ, अरहनाथ तीर्थंकर की प्रतिमाये प्रतिष्ठित करायी। उनमे सर्वत्र मूलनायक भगवान शांतिनाथ की प्रतिमा को ही रखा। कहीं कहीं तो उन्होंने शांतिनाथ भगवान की प्रतिमा ही प्रतिष्ठित करायी। इससे ऐसा लगता है कि धर्म वात्सल्य पाड़ाशाह की यधपि सभी तीर्थंकरो के प्रति अगाथ श्रद्धा थी, किन्तु शांतिनाथ भगवान के प्रति उनका विशेष आकर्षण था । संभवतः शांतिनाथ भगवान के दर्शन, पूजन और नाम स्मरण से उन्हें अपेक्षाकृत अधिक शांति प्राप्त होती थी।
पाड़ाशाह द्वारा निर्मित एक माणिक रत्न की 17 इंच की पद्मप्रभु की पदमासन प्रतिमा बूढी चंदेरी के जंगल में बहने वाली नदी के किनारे एक विशाल जैन मंदिर “बीठ्ली” में आज भी मौजूद है ।

पूर्वकालीन इतिहास

किसी भी क्षेत्र के इतिहास पर जब नज़र डाली जाती है तो हमें क्षेत्र के निर्माण व अतिशय की जानकारी सहर्ष उपलब्ध हो जाती है परन्तु बजरंगढ़ का इतिहास पढने से पूर्व हमें यहाँ की राजनैतिक, सामाजिक व भौगोलीक सीमाओं का भी एक वृहत इतिहास जान पढता है। जो इस पावन अतिशय क्षेत्र की समृद्धशाली गौरव गाथा है।
इस नगर ने इतिहास के अनेक उत्थान-पतन और राजनैतिक अनेक उथल-पुथल देखी है । इतिहास में इस नगर के कई नाम प्राप्त होते है – जैसे मूसागढ़, झरखोन, सारखोन, बजरंगढ़, जयनगर, जैनागढ़। इन नामों का अपना-अपना एक इतिहास भी है।
IMG-20150130-WA0075
कहा जाता है लगभग संवत 1200 के पूर्व से ही यहाँ अलग अलग समुदायों का शासन रहा है इसका पूर्व नाम “मूसागढ़ ” हुआ करता था जहाँ नन्दवंशीय अहीरों के वंशज बेरगढ़ियों का राज था। किला उस समय छोटी बस्ती के रूप में था तथा तलहटी में लगभग 100 जैन परिवारों की बस्ती हुआ करती थी जो आसपास के क्षेत्रो में व्यापर संलग्न थी। कालांतर में बेरगढ़ियों व झिरवार रघुवंशियों के बीच शासन सत्ता को लेकर युद्ध हुआ तथा झिरवार रघुवंशियों को सत्ता हासिल हो गई और इस नगर का नामकरण“झरखोन ” रखा गया और फिर बदलते बदलते “सारखोन” हो गया ।
“झरखोन” के दक्षिण पश्चिम में राघौगढ़ में खीची राजपूत चौहानों का शासन था। उन दिनों महाराजा धीरजसिंह जी गद्दी आसीन थे उस समय इनका शासन खिलचीपुर, चाचौड़ा, भदोरा, राघौगढ़ आदि में विधमान था। यह समस्त क्षेत्र “खीचीबाड़ा” कहलाता था।
महाराजा धीरज सिंह को अपने राज्य की सीमाएं विस्तारित करने का शौक था वह छोटी छोटी जागीरो को अपने में मिला लेना चाहते थे इसी उद्देश्य से उन्होंने बजरंगगढ़ पर आक्रमण कर दिया और किले पर अपनी विजय प्राप्त कर ली अब “झरखोन ”महाराजा राघौगढ़ के अधीन आ गया था ।
गढ़ी (किले) में विजयोल्लास मनाया जा रहा था । महाराजा धीरजसिंह जी इसमें सम्मलित होने के लिए सदर दरवाजे से गढ़ी (किले) की ओर बढ़ रहे थे की अचानक एक बेरगढ़िये ने महाराज पर आक्रमण कर उनकी हत्या कर दी। महाराज की मृत्यु के पश्चात् खीजी चौहान अपना आधिपत्य न रख सके और बेरगढ़ियों ने पूरे “झरखोंन” पर अपना शासन स्थापित कर लिया।
महाराजा धीरजसिंह की हत्या की घटना 18 वीं शताब्दी के पूर्वार्ध में घटित हुई थी किन्तु इसी शताब्दी के उत्तरार्ध में सम्वत 1833 में धीरजसिंह के प्रपोत्र बलवंत सिंह ने “झरखोंन” पर आक्रमण करके बेरगढ़ियो को मार भगाया और इस प्रकार अपने प्रपितामह की हत्या का प्रतिशोध लिया। उसने “झरखोंन” का नाम परिवर्तन करके “बजरंगढ़” कर दिया जो आजतक इसी नाम से पहचाना जाता है। उसने नवीन किला बनवाया।

बजरंगढ़ और जैनागढ़

सम्वत 1855 में राजा बलवंत सिंह की मृत्यु के पश्चात राजा जयसिंह “बजरंगढ़” की गद्दी पर आसीन हुए।
राजा जयसिंह ने किले को व किले का निचला भाग की बसाहट कार्य तेजगति से प्रारंभ किया। तब किले के निचले भाग जयनगर कहते थे ।
final2
उस समय लगभग 200 जैन परिवार यहाँ निवास करते थे और यह सम्वत 1200 से ही व्यवसाय का बड़ा केंद्र रहा। राज्य में जैन समाज का बड़ा सम्मान और प्रभाव था। जब इन सभी बातों का जिक्र महाराजा जयसिंह के दरबार में हुआ तो उन्होंने अगहन वदी 13 बुधवार सम्वत 1855 को “जैनागढ़” नाम घोषित कर दिया। सम्वत 1855 से सम्वत 1872 तक महाराजा जयसिंह ने “बजरंगढ़ और जैनागढ़” पर अपना शासन प्रशासन किया।

महाराजा जयसिंह के सुशासन का अंत

सम्वत 1872 चेत्र वदी 1 बुधवार को बजरंगढ़ में ढिंढोरा हुआ। सिन्धे अलीजाह के फ़्रांसिसी सेनापति सर जॉन वेप्तिस ने रात्रि के मध्य में किले पर चढाई की, घमासान युद्ध प्रारंभ हुआ, राजा जयसिंह ने अपने आपको वीरगति में जाने के पूर्व खीची वंश की मर्यादा को चिरस्मरणीय बनाये रखने के लिए अपनी रानीयों के सतीत्व को सुरक्षित रखने के लिए उन्हें रनवास के पिछले भाग में जिन्दा चुनवा दिया और वीरों की तरह दुश्मन से बदला लेने को जान बचाकर स्वयं वहां से निकल गए जो केवल यादगार बन उस खीची वंश के यशश्वी वीर की याद दिला रहा है ।
मयाचंद नाज़र जो महाराजा जयसिंह का विरोधी था, सर जॉन बत्तीस से मिल गया व “बजरंगढ़ और जैनागढ़” पर ग्वालियर स्टेट के नियम शर्तों के अनुसार चेत्र वदी 2 गुरूवार सम्वत 1872 को गादी पूजन कर, काबिज हो गया।
सम्वत 1876 से बजरंगढ़ श्रीमंत महाराजा अलीजाह बहादुर श्री दौलत रामजी शिन्धे ने अपने नियमानुसार इसे जिले का दर्जा घोषित कर दिया और यहाँ का प्रशासन ग्वालियर स्टेट के अंतर्गत चालू कर दिया । बाद में सम्वत 1895 में राय बहादुर लक्ष्मण सिंह को जिला मजिस्ट्रेट बनाये गए। ग्वालियर शासन काल में यहाँ कई देव स्थान, शासकीय कार्यालय, भवन आदि का निर्माण कराया गया। 1895 के समय गुना एक छोटा सा गावं हुआ करता था । स्वतंत्रता के पश्चात देसी रियासतों के भारत में विलय होने पर बजरंगढ़ मध्यप्रदेश के गुना जिले के अंतर्गत आ गया ।

शिव प्रसाद गुप्त - स्वतंत्रता सेनानी




बाबू शिव प्रसाद गुप्ता (28 जून 1883 – 24 अप्रैल 1944) भारत के स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, परोपकारी, राष्ट्रवादी कार्यकर्ता तथा महान द्रष्टा थे। उन्होने काशी विद्यापीठ की स्थापना की। शिव प्रसाद ने 'आज' नाम से एक राष्ट्रवादी दैनिक पत्र निकाला। उन्होंने बनारस मे 'भारत माता मन्दिर' का भी निर्माण करवाया।

जीवनी 

बाबू शिव प्रसाद गुप्ता बनारस के एक समृद्ध वैश्य परिवार में जून, 1883 में पैदा हुए थे। उन्होंने संस्कृत, फारसी और हिंदी का अध्ययन घर पर ही किया था। उन्होंने इलाहाबाद से स्नात्तक की परीक्षा उत्तीर्ण की। वे पण्डित मदन मोहन मालवीय, लाला लाजपत राय, महात्मा गांधी, आचार्य नरेन्द्र देव तथा डॉ॰ भगवान दास से अत्यन्त प्रभावित थे। 

यद्यपि उनका जन्म एक धनी उद्योगप्ति एवं जमीनदार परिवार में हुआ था, किन्तु उन्होने अपना सारा जीवन भारत के स्वतंत्रता संग्राम के लिए चल रहे विभिन्न आन्दोलनों में भाग लेने तथा उनकी आर्थिक सहायता करने में लगा दिया। बाबू शिव प्रसाद गुप्ता ने क्रांतिकारियों का सहयोग दिया था वे अपनी राष्ट्रवादी गतिविधियों के कारण अनेक बार जेल गये। उन्होंने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में शामिल होने के लिए के बीच में अपनी पढ़ाई छोड़ दिया था जो उनकी शिक्षा, पूरा करने के लिए उन युवाओं को एक मौका देने के लिए अब एक विश्वविद्यालय है, जो वाराणसी में काशी विद्यापीठ की स्थापना की. उन्होंने कहा कि भारत की राहत का नक्शा संगमरमर पर नक्काशीदार किया गया है, जिसमें भारत माता मंदिर का निर्माण किया। मंदिर 1936 में महात्मा गांधी द्वारा उद्घाटन किया गया . एक राज्य विश्वविद्यालय, " भारत माता मंदिर " एक राष्ट्रीय विरासत स्मारक, " शिव प्रसाद गुप्ता अस्पताल" - - वाराणसी, हिन्दी दैनिक आज के सिविल अस्पताल - सबसे पुराना मौजूदा हिंदी अखबार और कई वाराणसी में उन्होंने काशी विद्यापीठ की स्थापना अन्य परियोजनाओं और सार्वजनिक महत्व की गतिविधियों . अकबरपुर में, वह सेटिंग्स को देश में ही खादी के कपड़े के विनिर्माण के उत्पादन और बिक्री को बढ़ावा देने के लिए भारत में पहली बार गांधी आश्रम के लिए भूमि की 150 एकड़ (0.61 km2) दे दी है आज हिन्दी दैनिक समाचार पत्र, भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में सुविधा के क्रम में वर्ष 1920 में राष्ट्र रत्न बाबू शिव प्रसाद गुप्ता द्वारा शुरू Jnanamandal लिमिटेड का मील का पत्थर प्रकाशन . बाबू शिव प्रसाद गुप्ता कई वर्षों के लिए अपनी कोषाध्यक्ष के रूप में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के साथ जुड़े थे। उन्होंने कहा कि भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में शामिल होने के लिए के बीच में अपनी पढ़ाई छोड़ दिया था जो उनकी शिक्षा, पूरा करने के लिए उन युवाओं को एक मौका देने के लिए अब एक विश्वविद्यालय है, जो वाराणसी में काशी Vidhyapith की स्थापना की. उन्होंने कहा कि भारत की राहत का नक्शा संगमरमर पर नक्काशीदार किया गया है, जिसमें भारत माता मंदिर का निर्माण किया। मंदिर 1936 में महात्मा गांधी द्वारा उद्घाटन किया गया . 

वर्ष 1928 में वाराणसी में आयोजित होने वाली पहली राष्ट्रीय कांग्रेस के लिए कुल व्यय और व्यवस्था अपने निवास 'सेवा Upawan ', अपने मित्र श्री Catley के लिए सर एडविन लुटियन द्वारा डिजाइन एक विरासत भवन, पर राष्ट्र रत्न श्री शिव प्रसाद गुप्ता द्वारा किया गया था वाराणसी के कलेक्टर और वर्ष 1910 में राष्ट्र रत्न जी ने खरीदा . यह लोग यहां की पेशकश की थी अमीर आतिथ्य का पर्याय था, जो महात्मा गांधी ने 'सेवा Upawan ' नाम दिया गया था। इमारत appertained भूमि की 20 एकड़ (81,000 M2) द्वारा कवर पवित्र गगा riverGanges के पश्चिमी तट पर स्थित 75,000 वर्ग फुट (7000 मीटर 2) का एक निर्माण क्षेत्र के साथ में मौजूद हैं। राष्ट्र रत्न जेईई रुपये का दान दिया. 1,01,000 / - 20 वीं सदी की शुरुआत में, 50 लाख के एक भव्य कुल विभिन्न रियासतों और औद्योगिक घरानों से मालवीय जी की शह और नेतृत्व में एकत्र किया गया था जिसके लिए बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के निर्माण के लिए पहली बार दान के रूप में . राष्ट्र रत्न जी सक्रिय रूप में भाग लिया इस महान और समाज की applifment और उस पर आराम में ब्रिटिश शासन, महात्मा गांधी के खिलाफ भारतीय स्वतंत्रता संग्राम ' राष्ट्र रत्न - राष्ट्र का गहना ' के शीर्षक की ओर से इन अमूल्य योगदान के लिए भारतीय डाक विभाग उनकी स्मृति में एक डाक टिकट जारी किया.

साभार: विकिपीडिया