Tuesday, December 26, 2017

Neeraj Gupta Founder of Meru Cabs

Neeraj GuptaFounder of Meru Cabs

The young at heart; Neeraj Gupta is the founder of India’s first & largest radio taxi company – Meru Cabs.

Neeraj has not only made Meru a generic name for radio taxi service in India, but due to his sharp entrepreneur skills, Meru is now also the single largest radio cab service in India with fleet size of more than 9000 vehicles running in the country.

Headquartered in Mumbai, Meru provides service to most of the cities of India including – Mumbai, Delhi, Hyderabad, Bangalore, Jaipur, Ahmedabad, Chennai Vadodara, Surat, Pune & Kolkata.

Talking about Neeraj; he is widely known to be a highly motivated and optimistic Serial Entrepreneur who is also an expert in starting up businesses and scaling them quickly. Due to his experience being in the service sector that includes keeping one eye on consumer behaviour and expectations as well; his forte lies in building businesses around systems and processes that mainly focus on quality & technology.

Personally; Neeraj is a Commerce graduate from Hansraj Morarji Public School (Mumbai), and has two daughters aged 11 and 8 years from his wife Farhat and loves to be around them.

Interestingly; being the man who owns the largest radio taxi service in India, Neeraj still prefers to ride in auto rickshaws or for that matter even train, over cars.

From being unemployed, to building a whooping Rs. 850 crores company; Neeraj surely has come a long way!
Life before entrepreneurship…!

Neeraj belonged to a wealthy family who had never seen the office as an employee!

His father – Vishnu Kumar Puranchan Gupta had inherited one of Neeraj’s grandfathers restaurants and had leased it out to a ‘Shetty’ man to run. Neeraj’s father was clearly a very carefree man who at a very early age had decided that he won’t be putting in efforts to make money. But unlike him, Neeraj was a diehard businessman – at heart and mind.

He was an average student who excelled in everything else apart from studies, he was more interested in girlfriends, extracurricular activities and in pursuing numerous other hobbies, which he managed to successfully monetise.

One of such sidelined hobbies that had caught his fancy, was inspired by a man he met on a family holiday. That man had sold him a grain of rice with an inscription on it. This instantly gave him the idea that — why can’t he do this as well? And he used this as a gift to impress his girlfriend.

Soon he was bombarded by a zillion requests from numerous boyfriends trying who wanted to impress their girlfriends, and even sold the same in bulk to a trader who was a distributor to stores like Archies and Hallmark.

Anyway, that was Neeraj’s first shot at business which clearly proved to be successful, making him a lot of money and while at it, he also graduated with a decent percentage.

Later, after sometime – his father insisted that he did something, rather than chilling at home. He even set him up for a job at his friend’s textile manufacturing company.

Not able to defy his father; Neeraj unwillingly joined the company. This was his first & last job and funnily, lasted for only ‘Three months’.

Soon after that; he got married to his college sweetheart – Farhat and started living the married man’s life. But unlike other married men; he did not work.

As a matter of fact; his wife being a career oriented woman used to work for Jet Airways and all he did was – picked and dropped her.

This continued for almost five years, after which he thought of doing something of his own and since then he never had to look back.
Life after entrepreneurship…
I. The Beginning

Neeraj had now realized that business is what he wanted to do. Hence, without wasting any more time, he loaned Rs. 50,000 from his wife and started his first business along with his friend who had the technical knowledge who also chipped in the rest half. Together they set up their automobile garage in Andheri (Mumbai) in 1999 called – “Elite Class”.

In the initial days; they used to provide vehicle repairs and annual maintenance contract to customers who usually were individuals and corporates. The competition was fierce; there were almost 50 other garages in a line on the same road.

But they swiftly managed to catch the eye of the corporates because of the lucrative free services on break-down, maintenance, and annual servicing of vehicles; they were offered.

And beating all odds; soon they started entering into long-term contracts with corporates and in the next 8-9 months, they had companies like Blue Dart, Sony as their clients.

But this was just the beginning!

A little time later, they came to know that Tata InfoTech was giving contract for bus service for transportation of their employees. That is when an idea clicked in his head, and this became the turning point of his growing career.

Quickly, he formed a new company called “V-Link Automotive Services Pvt. Ltd.” in 2001, put in Rs14 lakhs to buy a bus and took up the contract from Tata to start their shuttle service for 5 of their offices.

Luckily, just about around the same time, Tata also tied-up with Sitel to start a BPO, thus increasing their employee strength. This got Neeraj more work. And as the travel time for shuttle services increased, Neeraj eventually introduced small vehicles in about a year.

From here onwards; the company went on to grow to 1300 vehicles in about 4 years and were now providing transportation services to various corporate companies as well.

However, the real jump in their career came about 6 years later!

TRIVIA: - In 2005; Neeraj had received an extortion threat from “the most wanted name in the Underworld” from Dubai for Rs. 2 crores. His garage was also shattered into pieces and there were gunshots too.
II. The Turning Point

In August 2006; Maharashtra government had invited tenders for running a fleet 10,000 of air-conditioned, GPS-linked, electronic metered taxis in Mumbai in an attempt to replace the old black-and-yellow ones.

His confidence had already shot to the sky from running taxi services for BPOs and corporate clients and was a hundred percent sure that service like that would be an instant hit in India.

Hence, inspired by similar services in London and Singapore; Neeraj sensed an opportunity here and applied for the taxi service license.

Now the only but the biggest problem was – capital. To attract private equity investment, Neeraj corporatized his company by creating a holding structure. ‘V-Link Travel Solutions’ became the parent company under which, two wholly-owned arms were formed. One of them was ‘V-Link Fleet Solutions’ – which ran the pick-up services for BPOs and the other one was ‘V-Link Taxis’ – which would run the air-conditioned taxis in Mumbai.

And followed by that move; Neeraj & company got their first investment of Rs 50 Cr from India Value Fund in December 2006 & IVF also promised to pay another Rs160 Cr. when required.

With India Value Fund coming on board as a partner; Neeraj started “Meru Cabs” with 30 taxis in March 2007.

However this unexpectedly turned out to be a bumpy ride.

Back in those days; private companies were not allowed to get new taxi permit, hence they had to convince the existing ‘black and yellow’ taxi-owners to join their company.

They even had to invest heavily in drivers and the latest technologies, and also had to start their own ‘Meru Driving Academy’ to educate drivers in traffic rules, hygiene, geography, latest technologies, handling of emergency situations, etc.

But eventually situation got better with time!

By 2008; Meru Cabs were steering 3000 vehicles daily across four metros and had employed more than 700 people. By now they had also become the largest taxi networking company in India.

The beauty of Meru Cabs was that – all their vehicles had tamper-proof digital cab meters, they had GPS-system integrated in them to ensure every fare was tracked, printed receipts providing details of distance travelled and total amount payable were given for every fare, etc.

In a matter of another two years, Meru was now running a fleet of 5,000 taxis in Mumbai, Bangalore, Hyderabad and Delhi and was now making more than Rs.100 Cr in revenues.

Believe it or not; Neeraj not only had grown from zero to 10,000 units in the past three years, but also had literally opened a whole new industry for aspiring India.
III. The Present

And today when we look at Meru Cab’s progress, it certainly has come a long way!

Headquartered in Mumbai, Meru Cabs now provides a radio taxi service in most of the Metro, Tier-2 & Tier-3 cities of India including – Mumbai, Delhi, Hyderabad, Bangalore, Jaipur, Ahmedabad, Chennai Vadodara, Surat, Pune & Kolkata.

Today they have scaled up to a massive fleet of more than 9000 cabs and are also claimed to be the 3rd largest “Radio Taxi” company in the world. Collectively, serving to more than 1.8 million passengers, they make up to 30,000+ trips a day.

They are also the known to be the most preferred choice of commuters in all cities, and have a 90% customer satisfaction in 3rd party audit as well.

Meru Cabs are one of the very few transportation companies in the world who have deployed an Oracle ERP and Siebel CRM technology in their cabs and are also the only cab service in India who have partnered with the airports at Mumbai, Delhi, Hyderabad & Bangalore.

Talking about their funding; the company has recently raised $50 million(RS. 300 Cr) in fresh funding from their existing investor India Value Fund Advisors and another $100 million (Rs.600 Cr.) is also expected soon.

As per reports; Meru would be using these funds for expansion of their current network into new cities and towns in India. They are also in talks with multiple smaller regional brands to acquire them, to fight the rising competition from companies such as Ola and Uber.
IV. Other Ventures

1. META: – In 2009, Neeraj had set up a Driver Training Facility as a part of their CSR at the Mumbai Transport Office and also created a network of professional training institute to train their new and existing drivers, along with that, they also include a world-class automotive services solution and a multi-brand passenger vehicle service station ‘Motor Works’.

This was an initiative towards Skilling & Livelihood which focused on the upliftment of the Driver Community. Since their inception, META has trained over 10,000 drivers across 40 locations in India.

2. FRESHKINS: – In 2014; Neeraj had partnered with K Radhakrishnan (former CEO of KB Fair Price and President of Future Fresh foods Ltd), to start a new fruits & vegetables chain through a franchisee model called – “Freshkins Foods India Pvt. Ltd”.

The total investment made was somewhere only Rs 20 Cr, since it is a franchise model.

The plan was to start in Mumbai and then take it to other metros in a phased manner, and once it crosses 50-odd stores, the store would also go online. They were aiming at 50 stores in the first year with revenues close to Rs. 50 Cr.

While the business progressed well in the beginning, but the operational expenditure began to increase with time and no investor seemed to show interest in such a model, hence they started to feel the heat.

Apart from that, they also started to feel the pressure at Meru with the growth of competitors like Uber, Ola, Taxiforsure, etc.

Hence, after much fanfare; Neeraj with a heavy heart decided to focus on which was already in hand and pulled the plug on Freshkins Foods India Pvt. Ltd in the third quarter of fiscal 2015.


Received the “Entrepreneur of the Year Award” by the Bombay Management Association (BMA) 
Received the “Udyog Rattan Award” by the Institute of Economic Studies (IES) 
Received the “Largest & Best Taxi Company in the Country Award” from All India Passengers Association 
Received the “Best Entrepreneur of the Year Award” from All India Passengers Association 
Meru Cab received the “Best IT User Award” from Nasscom 

साभार: yosuccess.com/success-stories/neeraj-gupta-meru-cabs


माइक्रोसॉफ्ट की नौकरी छोड़ बनाई थी कंपनी, आज है देश की सबसे सफल ई-कॉमर्स बिज़नेस

भारत में तीन सबसे बड़ी ई-कॉमर्स पोर्टल फ्लिपकार्ट, स्नैपडील और मिंत्रा डॉट कॉम की आधारशिला रखने वाले बंसल से ज्यादातर लोग परिचित हैं लेकिन एक और बंसल हैं जिन्होंने ई-कॉमर्स कारोबार के लिए एक ऐसे क्षेत्र को चुना जो अपार कारोबारी संभावनाओं के बावजूद भी औरों की नज़र से दूर था। जी हाँ, साल 2010 में लेंसकार्ट डॉट कॉम नामक ऑन लाइन ऑप्टिकल स्टोर की शुरुआत करने वाले पीयूष बंसल आज देश के सबसे सफल स्टार्टअप कारोबारियों की सूची में शुमार कर रहे हैं। लेकिन सफलता के इस पायदान तक पहुँचने में उन्हें कई कठिनाईयों का सामना करना पड़ा।

पीयूष के चार्टर्ड अकाउंटेंट पिता चाहते थे कि उनका बेटा खूब पढ़े और शानदार नौकरी करे। पिता ने बेटे की पढ़ाई में कभी कोई कमी नहीं होने दी। पीयूष ने भी पिता को निराश न करते हुए भरपूर पढ़ाई की और कनाडा से इंजीनियरिंग की डिग्री प्राप्त करने के बाद यूएसए में माइक्रोसॉफ्ट ज्वाॅइन किया। यहाँ उनकी सालाना पैकेज भी काफी अच्छी थी लेकिन कुछ सालों तक काम करने के बाद नौकरी से मन ऊब गया। साल 2007 में उन्होंने वापस भारत लौटने का निश्चय किया। पीयूष के इस फैसले से उनके माता-पिता बेहद नाराज थे। उन्होंने बेटे को बहुत समझाने की कोशिश की लेकिन पीयूष नहीं माने।

स्वदेश लौटने के बाद पीयूष ने किसी कंपनी में नौकरी करने की बजाय खुद का कारोबार शुरू करने की योजना बनाने लगे। उस दौर में ई-कॉमर्स भारत में एक नया कांसेप्ट था और इस क्षेत्र में अपार संभावनाएं थी। पीयूष ने भी इस क्षेत्र में हाथ आजमाने के उद्येश्य से एक क्लासिफाइड वेबसाइट सर्च माय कैंपस डॉट कॉम की शुरुआत की। यह वेबसाइट छात्रों को आवास, पुस्तकें, कारपूल सुविधा, पार्ट टाइम जॉब अवसर आदि सुविधाएं मुहैया कराती थी। यह वेबसाइट तीन सालों तक चला। साल 2010 तक भारत में ऑनलाइन कारोबार काफी तेजी से बढ़ चुका था। इसी सेक्टर अपनी पैठ ज़माने के लिए उन्होंने आईवियर, ज्वेलरी, घड़ी और बैग्स की ऑनलाइन सेल के लिए लेंसकार्ट डॉट कॉम, ज्वेलरी डॉट कॉम, वाॅचकार्ट डॉट कॉम और बैग्स डॉट कॉम नामक चार वेबसाइट को लांच किया।

धीरे-धीरे बदलते समय के साथ पीयूष ने सिर्फ लेंसकार्ट डॉट कॉम पर फोकस रखा और उसे देश का सबसे बड़ा ऑन लाइन ऑप्टिकल स्टोर बनाने में कामयाबी हासिल की। आज लेंसकार्ट सभी आधुनिक सुविधाओं के पूर्ण देश के तमाम बड़े शहरों में अपनी ऑफलाइन स्टोर भी खोल चुकी है। इतना ही नहीं वर्तमान में कंपनी 1500 से ज्यादा शहरों के 1000 लोगों को हर रोज आईवियर्स और 500 से ज्यादा लोगों को उनके घर पर ही आई चेक-अप सुविधा उपलब्ध करवा रहा है। फ्रेंचाइजी मॉडल को अपनाते हुए लेंसकार्ट पूरे देश में अपने कारोबार का विस्तार कर रहा है।

जानकारों का मानना है कि लेंस का कारोबार काफी लाभप्रद होता है। कभी-कभी 500 फीसदी तक की मार्जिन संभव होती है। और इतने लाभप्रद कारोबार को तकनीक के माध्यम से बड़े स्तर पर शुरू करना सच में बेहद क्रांतिकारी है। और इसी वजह से लेंसकार्ट दिनोंदिन तरक्की की राह पर आगे बढ़ रहा है और आज 100 करोड़ के सालाना टर्नओवर वाली क्लब में शामिल है। इतना ही नहीं आने वाले तीन वर्षों में लेंसकार्ट आईपीओ लाने की तैयारी में भी है।

साभार: hindi.kenfolios.com/peyush-bansal-lenskart/ by Abhishek Suman

RAAJ KUMAR VAISHYA - राज कुमार वैश्य- ९८ साल के परा स्नातक


साभार: दैनिक भास्कर

Saturday, December 16, 2017

GOURAV MITTAL - गौरव मित्तल

एक दिन में बदल गई इस IITian की जिंदगी, आज 160 से ज्यादा देशों में बिक रहा है इनका आइडिया

“करुणा ऐसी भाषा है जिसे बहरे भी सुन सकते हैं और अंधे देख सकते हैं।” — मार्क ट्वेन

शक्तिशाली से शक्तिशाली व्यक्ति की भी कोई न कोई कमज़ोरी ज़रूर होती है, हालांकि इसे स्वीकार करने का जिगर कम ही लोगों में होता है। इसके विपरीत दिव्यांगों पर कम ध्यान दिये जाने की ज़रूरत होती है क्योंकि वे आत्मनिर्भर होते हैं और उनकी शक्तियां उनके किसी और ज्ञानेन्द्रियों पर ज्यादा तीव्रता से केंद्रित होती है। उन्हें विशेष जरूरतों वाला इस लिए कहा जाता है क्योंकि वे अपने आप किसी अलग ढंग से ख़ास होते हैं।

ऋषिकेश के गौरव मित्तल ने 2012 में जब CSR एक्टिविटी के तहत नेशनल एसोसिएशन फॉर ब्लाइंड (NAB) में भाग लिया तब उन्होंने यह महसूस किया कि नेत्रहीन लोगों को मदद की जरूरत है और उसी समय से उन्होंने नेत्रहीन लोगों के लिए कुछ तकनीक की जरूरत को समझा। NAB में भाग लेने से उन्हें प्रेरणा मिली और फिर Eye -D, नामक एक डिवाइस की परिकल्पना ने जन्म लिया।

2010 बैच के आईआईटी बीएचयू ग्रेजुएट गौरव हमेशा से अपने आस-पास की स्थिति के बारे में जागरूक रहते थे। उन्होंने पांच साल का इंटीग्रेटेड कोर्स मैथमेटिक्स एंड कंप्यूटिंग में किया था। एक दिन के NAB में भाग लेने से उनके मन पर गहरा असर पड़ा और उन्होंने उसी दिशा में आगे बढ़ने का निश्चय किया। इसी समय उन्होंने तय किया कि वे नेत्रहीनों के लिए एक ऐसा डिवाइस डिज़ाइन करेंगे जो उनके दैनिक जीवन को और भी आसान बना देगा।

गौरव बताते हैं “ मैंने नेत्रहीनों के रास्ते में आए बाधाओं को पहचानने और चेहरे को पहचानने वाले अलग-अलग डिवाइस बनाना शुरू किया।” इन ऐप को डिज़ाइन करने के लिए उन्हें साइट्रिक्स और माइक्रोसॉफ्ट से ग्रांट भी मिला। नेत्रहीन लोगों से उनकी जरूरतों की जानकारी लेकर उनके जरूरतों के हिसाब से ऐप डिज़ाइन करने का काम आसान नहीं था।

इस काम में उनके लिए भरपूर तसल्ली थी; एक तरफ उन्होंने टेक्नोलॉजी से खेलने का अपने बचपन का सपना जीया तो दूसरी ओर नेत्रहीनों की जिंदगी आसान बनाने का संतोष भी उनके भीतर था। इस नेक काम को करने की प्रेरणा उसके अंतरतम में बैठ गई थी और इसलिए उन्होंने 2013 में नेत्रहीनों को अपना यह ऐप दिखाया। उन्हें इसके लिए बहुत अच्छी प्रतिक्रिया मिली जिससे आगे और ऐप डिज़ाइन करने के लिए प्रेरित हुए। गौरव का यह प्रयास उनके लिए एक चिंगारी की तरह था और इसके बाद वे पूरे उत्साह के साथ ऐप डिज़ाइन करने में लग गए।

2015 में उन्होंने महसूस किया कि उन्हें तो यही करना है। वे अपने जैसे साथी चाहते थे और वे अपनी नौकरी छोड़कर पूरी तरह से नेत्रहीनों के लिए ऐप बनाने में लग गए। इस काम के लिए उन्हें आलोचना भी सहनी पड़ी। परन्तु उन्होंने सभी आलोचनाओं को एक स्पोर्ट्समैन स्पिरिट के साथ स्वीकारा और अपने आपको विकसित करने का मौका दिया।

Eye-D की संकल्पना 2012 में हुई और 2014 तक शोध के रूप में रही और तब फिर जिंजरमाइंड टेक्नोलॉजीस प्राइवेट लिमिटेड कंपनी की औपचारिक स्थापना हुई। यह एक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस ऐप है। नेत्रहीन अपनी पूरी जानकारी अपनी भाषा में कस्टम मेड कीपैड के द्वारा इसमें फीड करते हैं। यह डाटा को इंग्लिश में अनुवाद करता है और रिस्पॉन्स को उपयोगकर्ता के लिए जोर से पढ़ा जाता है।

वर्तमान में Eye-D, Eye-D फ्री और Eye-D प्रो ऐप विश्व भर के गूगल प्ले में उपलब्ध है। इसके अलावा इनकी टीम कुछ हार्डवेयर डिवाइस पर काम कर रहे हैं जो अगले साल तक आ बाज़ार में आ जाएगी। इनकी टीम के चार मेंबर बैंगलोर के बाहर काम कर रहे हैं। अपने प्रोडक्ट में सुधार करने के लिए बाहर से अभी मदद ली जाती है। Eye-D भारत के कुछ एनजीओ के साथ भी काम कर रहा है। गौरव बताते हैं “ हमारी टीम में चार सदस्य हैं। (गौरव, वैभव, शाश्वत और रिमी) हम विश्व भर के वालंटियर्स के साथ काम करते हैं जिसमें से अधिकतर नेत्रहीन हैं। हमारी टीम पूरी तरह से संतुलित टीम है और हम स्थाई रेवेन्यू बनाने और विस्तार करने में लगे हुए हैं। हम अपने उपयोगकर्ता से बात कर अपना बिज़नेस मॉडल बनाते हैं।”

यह ऐप सूचना, प्रतिबिंब और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंट को अल्गोरिथ्म्स के द्वारा अपने उपयोगकर्ता की मदद करती है। यह वर्तमान में 160 देशों में और 12 भाषाओँ में उपलब्ध है और इसके 9000 सक्रिय मासिक उपभोक्ता हैं । 2018 तक 100000 नेत्रहीनों के लिए उपयोगी होने का लक्ष्य है। Eye-D ने स्वयं को नेत्रहीनों के लिए वरदान साबित किया है और उनकी जिंदगी बेहद आसान हो गयी है। गौरव कहते है “आप जिस आइडिया पर काम करना चाहते हैं, शुरूआत ग्राहकों से बात करके करें और उनकी जरूरत के बारे में जानें।“

साभार: hindi.kenfolios.com/iit-alumnus-life-changed-just-day-now-160-countries-buy-powerful-idea/
by Anubha Tiwari12/8/2017

RUCHI SANGHVI - रुचि सांघवी

बात प्राचीन काल की हो या आधुनिक युग की जो जनता को भा गया वह छा गया। यही दुनिया की रीत है जो आज तक चल रही है और हमेशा चलेगी। जो लोकप्रिय हो जाता है उससे जुड़ा हर व्यक्ति, हर चीज भी लोकप्रिय हो जाती है। आज इंटरनेट की दुनिया में सबसे लोकप्रिय है फेसबुक और जिनका जिक्र आज हम करने जा रहे हैं वह है फेसबुक की पहली महिला इंजीनियर रुचि सांघवी जिन्होंने 2005 में फेसबुक ज्वाइन किया।

पुणे में जन्मी रुचि और फेसबुक की सफलता ने जैसे साथ-साथ सफर तय किया। उस समय फेसबुक में मात्र छह-सात इंजीनियर एक छोटे से कॉलेज रूम जितनी कंपनी में बैठकर चाइनीस रेस्टोरेंट की तरह काम करते हुए एंजॉयमेंट के साथ काम कर रहे थे। इन इंजीनियर्स के मन में सफलता का विश्वास और कड़ी मेहनत का जुनून था जो इन्हें आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करता रहता था।

रुचि ने फेसबुक यूजर्स को उनसे जुड़े लोगों के बारे में और सामाजिक जानकारियां देने के लिए न्यूज़ फ़ीड प्रोग्राम लॉन्च करने का प्रस्ताव मार्क जुकरबर्ग के सामने रखा जो संभवत उन्हें पसंद आया। काफी समय तक इस प्रोजेक्ट पर काम करने के बाद एक रात न्यूज़ फ़ीड को लांच कर दिया गया। अगली सुबह यूजर्स के जो कमेंट फेसबुक पर थे वह घृणा से भरे हुए थे। ज्यादातर यूजर्स को अपनी प्राइवेसी का हनन होता हुआ दिखा। लोगों ने इस का घोर विरोध किया। मजे की बात यह थी कि विरोध दर्ज करवाने के लिए भी फेसबुक न्यूज फीड का माध्‍यम प्रयोग किया गया था। इतने नकारात्मक समय में भी आशा की किरण दिखी कि फेसबुक यूजर्स अब पहले से दोगुने हो गए थे।

बस फिर क्या था रुचि सांघवी और उनके इंजीनियर साथियों ने न्यूज़ फ़ीड को जारी रखा। सबसे बड़ी सफलता तब मिली जब इजिप्ट क्रांति को अधिकतम यूजर्स ने न्यूज फीड के जरिए अपना विरोध दर्ज करवाया। अब इंजीनियर्स को दस लाख न्यूज़ फीड प्रतिदिन फेसबुक पर पोस्‍ट करने होते थे। विरोध करते-करते लोग न्यूज़ फीड को पसंद करने लगे। न्यूज फीड विश्व का सबसे बड़ा वितरण इंजन बन चुका था। उद्यमी, व्यवसायी ग्राहकों द्वारा उनके उत्पाद को पसंद ना करने पर वस्तु का उत्पादन बंद करना उचित समझते हैं ऐसे समय में रुचि सांघवी द्वारा न्यूज़ फ़ीड के घोर विरोध के बावजूद उसे आगे बढ़ाना उन के अविलक्षण गुण निर्भयता को दर्शाता है।

मात्र 18 वर्ष की उम्र में यू एस में आकर रुचि ने बैचलर और मास्टर की डिग्री इलेक्ट्रिकल कंप्यूटर इंजीनियरिंग में कार्नेगी मेलान यूनिवर्सिटी से ली। इसे पूरा करने के बाद में फेसबुक पर पहली महिला इंजीनियर के तौर पर उन्हें ब्रेकअप मिला।

2010 में माता पिता को किए गए वादे के अनुसार रुचि ने अपनी शादी के लिए वापस भारत का रुख किया। जिन लड़कों के बायोडेटा उन्हें मिले फेसबुकके माध्यम से काफी कुछ उनके बारे में जाना। तब रुचि के मन में एक नया आइडिया आ चुका था। शादी के बाद यूएस लौटने पर रुचि ने फेसबुक कनेक्टएक नया प्रोग्राम लॉन्च किया जिसे यूजर्स ने बहुत पसंद किया। 700 मिलियन यूजर्स के प्लेटफार्म पर पहुंचने के बाद फेसबुक को अलविदा कहने का निर्णय जब रुचि ने लिया तो यह उनके दोस्तों के लिए बड़ा हैरान करने वाला था। लेकिन रुचि ने अपने अंदर के जुनून और शौक में अब एक आंत्रप्रेन्योर बनने का परिवर्तन महसूस किया।

2012 में अपने पति आदित्य अग्रवाल और अपने दो कॉलेज मेटस के साथ मिलकर कोव कंपनी की शुरुआत की यह कंपनी प्राइवेट कंपनीस को न्यूज़ फ़ीड प्रोडक्ट्स प्रोवाइड करती थी। 2013 में ड्रॉप बॉक्स ने कोव को खरीदा और रुचि ने ड्रॉपबॉक्स के वाइस प्रेसिडेंट ऑफ ऑपरेशन का पद संभाला। आज रूचि ड्रॉप बॉक्स को एक सलाहकार के रूप में मार्गदर्शन दे रही हैं।

2012 में ‘इंजीनियरिंग लीडरशिप’ अवार्ड से सम्मानित एवं बीबीसी के द्वारा पांच शीर्ष ‘भारतीय तकनीकी विशेषज्ञों’ में रुचि को दर्शाया जाना उनकी अथाह मेहनत और लगन का प्रत्यक्ष परिणाम है, जो युवा पीढ़ी खासकर महिला वर्ग को अत्यंत प्रेरणा देता है।

hindi.kenfolios.com/ruchi-sanghvi-first-female-engineer-hired-by-facebook/by Meghna Goel

Wednesday, December 13, 2017

KANIKA GUPTA - कनिका गुप्ता

अपने जबरदस्त कारोबारी आइडिया से 2 साल में ही 100 करोड़ बनाने वाले तनुज और कनिका

पिछले कुछ वर्षों से रियल एस्टेट कारोबार में एक बड़ी कारोबारी संभावना दिखी है। और इसी वजह से निवेशकों ने कई मिलियन डॉलर का निवेश ऑनलाइन रियल एस्टेट कारोबार में किया है। सूचना प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल कर हमारे देश के कई युवाओं ने स्टार्टअप के लिए इस क्षेत्र को चुना है। हालांकि कुछ स्टार्टअप अपने उत्पादों और विपणन रणनीतियों के जरिए आम जनता का ध्यान आकर्षित करने में सफल रहे, वहीं एक बेहतर व्यापार मॉडल और स्थिर राजस्व पैदा करने में कई स्टार्टअप अब भी जूझ ही रही है।

निजी जिंदगी में आई परेशानियों को खत्म करने के लिए कुछ लोग ऐसे उपाय ढूंढ निकालते हैं जो औरों के लिए वरदान साबित हो जाता है। साल 2013 में तनुज शॉरी और कनिका गुप्ता ने अपनी खुद की समस्याओं को खत्म करने के उद्येश्य से ‘स्क्वायर यार्ड्स’ नामक एक रियल एस्टेट सलाहकार फर्म शुरू करने का फैसला किया जो भारतीय रियल एस्टेट में इच्छुक एनआरआई को निवेश करने के लिए प्रोत्साहित करती है। तीन लोगों के साथ एक छोटे से कमरे में शुरू हुई यह कंपनी 1000 से अधिक लोगों का संगठन बनते हुए 9 से अधिक देशों में विस्तार कर आज इस सेगमेंट में सबसे बड़ी कंपनी है।

आइडिया इतना दमदार था कि कंपनी एक साल के भीतर ही तीन बड़ी कंपनियों का अधिग्रहण करते हुए करोड़ों रूपये का सालाना टर्नओवर करनी शुरू कर दी। रेवेन्यू, मुनाफा और बाजार हिस्सेदारी इन तीन चीजों पर फोकस करते हुए कंपनी 22 महीनें में ही 100 करोड़ के क्लब में शामिल हो गई। इस क्षेत्र में भारत में अपार कारोबारी संभावना को देखते हुए तनुज और कनिका ने शीर्ष 10 भारतीय शहरों के रियल एस्टेट बाज़ार पर व्यापक शोध किया और फिर इसे एनआरआई समुदाय के साथ साझा करने का निश्चय किया। जब एनआरआई द्वारा मांग में वृद्धि को देखा, तो कंपनी ने शीर्ष मेट्रो शहरों में कार्यालयों की स्थापना कर देश के शीर्ष डेवलपर्स के साथ साझेदारी कर भारत में तेजी से विस्तार शुरू किया।

कंपनी अगले एक साल में 15 भारतीय शहरों और सिंगापुर, दुबई, लंदन जैसे शहरों में भी अपनी उपस्थिति स्थापित करने में सफल रही और एनआरआई के बीच अपनी पैठ जमा ली।

कंपनी ने टेक्नोलॉजी का सही इस्तेमाल कर वितरण प्लेटफार्मों की पेशकश करने के लिए तकनीकी क्षमताओं का भी निर्माण किया, जिससे खरीद-फरोख्त की प्रक्रिया बेहद आसान हो गई। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि आज स्क्वायर यार्ड प्रति माह लगभग 1,000 से अधिक लेनदेन करता है, जिसका सालाना रेवेन्यू दर 25 मिलियन डॉलर के पार है। वर्तमान में कंपनी भारत के प्रमुख शहरों सहित 10 देशों के 32 शहरों में फैली हुई है।

हालांकि इतने कम समय में एक स्टार्टअप को मल्टी मिलियन कंपनी में तब्दील करना आसान नहीं था तनुज बताते हैं कि कई डेवलपर्स जो जिनके साथ हमारी साझेदारी थी, समय पर निर्माण कार्य पूरा करने में विफल रहे और इस वजह से ग्राहकों के साथ विवाद भी हुए। इन मुद्दों को हल करने के लिए, हमनें डेवलपर द्वारा पेनाल्टी देने जैसी चीजों को विकसित किया। इससे ग्राहकों का हमारे प्रति विश्वास बढ़ा और हम आज यहाँ खड़े हैं।

आज भी कंपनी मूल रूप से उद्यमशीलता की भावना और नवीन अवधारणाओं द्वारा संचालित है जो कि एक ठोस रेवेन्यू मॉडल को सबसे ज्यादा महत्वता देती है और हमेशा कुछ नया करते हुए इस क्षेत्र की अग्रणी कंपनियों में शुमार कर रहा है।

साभार: hindi.kenfolios.com/tanuj-and-kanika-of-square-yards/ Abhishek Suman6/24/2017

Tuesday, December 12, 2017

RITU JAYASWAL - लफंडरों को झाड़ू में गोबर लगाकर पीटती हैं सीतामढ़ी की यह मुखिया

लफंडरों को झाड़ू में गोबर लगाकर पीटती हैं सीतामढ़ी की यह मुखिया

अगर आप नहीं चेते तो झाड़ू में गोबर लगाकर पीटती हैं सीतामढ़ी की मुखिया रितु जायसवाल

रितु जायसवाल को सभी जान गए हैं. वैशाली की बेटी है, सीतामढ़ी की बहु. पति अरुण कुमार दिल्ली में 1995 बैच के आईएएस अधिकारी हैं. रितु जायसवाल को नशा दिल्ली की Page 3 पार्टी का नहीं, गांव में कुछ कर गुजरने का है. इरादे बुलंद हैं, तभी दिल्ली छोड़कर फिर से बिहार आई. ससुराल सीतामढ़ी के सोनबरसा प्रखंड के सिंहवाहिनी पंचायत से मुखिया का चुनाव लड़ी और जीत गई. अब रितु जायसवाल को आप कभी मोटरसाइकिल से फर्राटे भरते, ट्रेक्टर से खेत जोतते, बाढ़ के पानी में राहत पहुंचाते तो कभी करप्ट सिस्टम से लड़ते देखते हैं.

रितु जायसवाल ने गांव में कुछ करने के इरादे से क्या नहीं किया है. जो ठान लेती है, कर देती है. मुखिया का चुनाव जीतने के बाद सबसे पहले रितु ने अपने पंचायत को खुले में शौच से मुक्ति दिलाई. राह कठिन थी, लेकिन रितु जायसवाल ने कर दिखाया है. अब भी पंचायत में रितु की स्वच्छता पार्टी के सदस्य सुबह-शाम निगहबानी करते हैं. कोई पकड़ में आया, तो पूरे परिवार का सरकारी दुकान से राशन बंद. कोई मुरौव्वत नहीं. अब तो वह बदमाशों को सरेशाम पीट देने वाली मुखिया रितु जायसवाल के रूप में भी पहचानी जाने लगी है. कई वाकये तो रितु जायसवाल की जुबान पर सदैव रहते हैं.

दिवाली के वक़्त गोबर लगे झाड़ू से पिट गए थे बैंक वाले

मामला ऐसा था कि कहीं से आती-जाती मुखिया रितु जायसवाल को बैंकों के सामने लंबी-लंबी कतार कई दिनों से दिख रही थी. सभी बुजुर्ग लोग लाइन में लगे होते थे. पता नहीं, रितु जायसवाल को क्या सुझा, वह रुकी और लाइन में लगे बुजुर्गों से बातें करने लगी. मालूम हुआ कि रोज लग रही लाइन वृद्धावस्था पेंशन लेनेवालों की कतार है. बैंक कह रहा है कि पैसे आये नहीं और सरकार कह रही है कि सभी खातों में पेंशन भेजी जा चुकी है.

रितु जायसवाल को लग गया कि कहीं न कहीं कुछ गड़बड़ है. सो वह बैंक में घुस गई. साथ में एक-दो पेंशनधारी लोगों को लिया. फिर बैंकवालों से कहा कि इनके अकाउंट का स्टेटमेंट दो. आनाकानी होने लगी. लिंक फेल बताया गया. लिंक आया तो प्रिंटर खराब हो गया. रितु डटी रही. फिर जो मामला आया, वह तो चौंकाने वाला था. पैसा पहले ही आ गया था और बिना निकाले विथड्रा भी हो चुका था. अब तो रितु जायसवाल का गुस्सा सातवें आसमान पर चढ़ा. परिणाम, सबों के साथ दोषी बैंक वाले को गोबर लगे झाड़ू से दे दनादन. समस्या का हल तुरंत निकला. लाइन ख़त्म हुई और लोगों को पैसे मिल गए.

मुखिया रितु ने इंदिरा आवास योजना के भुगतान में भी गड़बड़झाले को सूंघा. आजकल बैंकों ने व्यवस्था की है कि गांव-गांव जाकर खाताधारियों को भुगतान कर देंगे. इसके लिए एजेंसियां काम करने लगी है. पर, इसमें भी कमीशन का खेल शुरू हो गया है. कम पढ़े-लिखे लोगों को मूर्ख बना दिया जा रहा है. इंदिरा आवास योजना के लाभुकों को 55 हजार के बदले कहीं-कहीं 40 हजार ही मिल रहे हैं. ऐसे में, रितु जायसवाल को एक दिन गांव में गड़बड़ करता बैंक का एजेंट मिल गया. देरी कुछ भी नहीं हुई, ठीक से मरम्मती कर दी गई.

पैंट का जिप खोले खड़ा था, रितु जायसवाल ने मुंह पर मारा जूता

अपने पंचायत सिंहवाहिनी को जब रितु जायसवाल खुले में शौच से मुक्त कराने के अभियान में जुटी थी, तो एक दिन जोरदार टक्कर हो गई. ठेकेदार किस्म का एक व्यक्ति शाम को खुले में शौच कर रहा था. गश्त करती पहुँच गई मुखिया रितु जायसवाल. सामने रितु को देख वह आदमी खड़ा तो जरुर हो गया, लेकिन बहस करने लगा.

रितु जायसवाल ने पहले समझाया. पैंट की खुली जिप को बंद करने को कहा. पर उसने कहा – नहीं बंद करेंगे तो आप क्या कर लेंगी, हम ऐसे ही खड़े रहेंगे. इसके बाद रितु को आया जोर का गुस्सा. सामने खड़े व्यक्ति के चेहरे पर मारने लगी जूता. जूता भी पास खड़े मर्द का था. जब थेथर ने जूता खाया तो भाग खड़ा हुआ.

जब सैकड़ों लोगों के सामने थप्पड़ मार रही थी रितु जायसवाल

सीतामढ़ी में बाढ़ की विपदा थी. सरकारी राहत कम ही पहुंचा था. रितु जायसवाल अपने रिसोर्सेज से सबों के बीच राहत पहुंचाने में लगी थी. कुछ तिरपाल प्रभावितों के बीच बांटने थे. लिस्ट बनी थी. लिस्ट के आधार पर रितु ने अपने सहयोगी अविनाश को जरुरतमंदों तक पहुंचने को कहा था.

अविनाश ने पंचायत के एक गांव में जाकर किसी व्यक्ति से दूसरे का नाम पूछा. पता बताने के बजाय व्यक्ति ने कारण पूछ लिया. अविनाश ने कहा कि तिरपाल देना है. व्यक्ति भड़क गया. उसने यह भी जानने की तकलीफ नहीं की कि लिस्ट में उसका नाम है कि नहीं. सीधे अविनाश की ठुकाई करने लगा. चाकू से प्रहार किया और कट्टा सटा दिया. किसी तरीके से खबर रितु जायसवाल को पहुंची.

रितु ने बगैर कोई देरी किये मोटरसाइकिल से फर्राटा भरा. पानी में कूदती-फांदती पहुंची. पहुंचने के बाद पहले अपने सहयोगी अविनाश को देखा और फिर हमला बोलने वाले शख्स से टकरा गई. देने लगी थप्पड़ पर थप्पड़. भीड़ बढती गई, रितु जायसवाल रुकी नहीं. अब पूरे सीतामढ़ी में इस बात की चर्चा होने लगी है कि रितु जायसवाल के यहां कुछ गड़बड़ी हुई, तो बाप रे बाप बहुत मारेगी. कमीशन कमाने और मांगने वाले दूसरे पंचायतों के लोग अब सामूहिक मीटिंग में रितु जायसवाल को बुलाते भी नहीं हैं.

साभार: biharchaupal.com

वैश्य समाचार

Monday, December 4, 2017

SALIL PAREKH - INFOSYS - सलिल एस पारेख

अपनी अभूतपूर्व दूरदर्शिता से इस IITian ने 2 लाख करोड़ की कंपनी के सर्वोच्च पद पर जमाया कब्जा

देश की दूसरी सबसे बड़ी आईटी कंपनी इंफोसिस ने सलिल एस पारेख को अपना सीईओ और एमडी नियुक्त किया है। पिछले साढे तीन महीने से प्रवीण सिक्का के इस्तीफा देने के बाद से यह पद खाली था। 2 जनवरी 2018 को अगले 5 साल तक के लिए पारेख इस पद को संभालेंगे। इंफोसिस कंपनी की वर्तमान मार्केट वैल्यू करीब 2 लाख 31 हजार 9 सौ करोड़ है। देश की दूसरी सबसे बड़ी आईटी कंपनी का अहम पदभार संभालने पर एकाएक सुर्खियों में आए सलिल एस पारेख के बारे में जानने के लिए लोगों के भीतर जिज्ञासा बढ़ गई। आइये जानते हैं कैसे पारेख की दूरदर्शिता और काबिलियत ने उन्हें इंफोसिस के सर्वोच्च पद पर बिठा दिया

1 मई 1965 को जन्मे सलिल पारेख ने आईआईटी मुंबई से एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में बैचलर डिग्री लेने के बाद, न्यूयॉर्क की कार्नेल यूनिवर्सिटी से कंप्यूटर साइंस और मैकेनिकल इंजीनियरिंग में मास्टर की डिग्री हासिल की। 53 साल के पारेख इस समय कैपजेमिनी जो एक इंटरनेशनल कंसल्टिंग और आउटसोर्सिंग कंपनी है, इसके बोर्ड मेंबर है। इससे पहले वह कंपनी में एप्लीकेशन सर्विस बिज़नेस यूनिट के सीईओ भी रहे। लगभग 8 साल तक अर्नेस्‍ट एंड यंग्स के कार्यक्रम से भी जुड़े रहे।

बहुमुखी प्रतिभा के धनी सलिल जेपी मॉर्गन चेस, गोल्डमैन, मेरिल लिंच, जैसी इंटरनेशनल फाइनेंसियल कंपनीज के साथ काम कर चुके हैं। इतना ही नहीं फिलिप्स, लाइफसाइंसेस, और जॉनसन एंड जॉनसन जैसी दिग्गज कंपनियों में भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं। इसके अलावा बहुत सी अंतरराष्ट्रीय कंपनियों में भी अपनी सेवाएं दी है।

लगभग 25 साल के आईटी क्षेत्र के अनुभव के साथ इंफोसिस कंपनी के घरेलू आर्थिक, वैश्विक, मैटर्स को सुलझाने की क्षमता भी सलिल रखते हैं। अंतर्राष्ट्रीय संस्था टैड एक्‍स के एक यूथ शो के दौरान सलिल पारेख की अभूतपूर्व दूरदर्शिता को आंका जा सकता है जिसमें उन्होंने भारत के युवाओं को बताया कि 2000 में वाय टू के बग के समाधान के रूप में भारत में कंप्यूटर सॉफ्टवेयर क्रांति के युग ने जन्म लिया था जो आज तक चल रहा है। भविष्य में टेक्नोलॉजी के क्षेत्रों में अपार अवसर मिलने के बारे में उनका मानना है: 
इंटरनेटल वस्तुएं जिसमें सभी काम चिप से किए जा सकेंगे। 
बिग डाटा 2020 तक विश्व में 50 खरब GB डाटा इकट्ठा हो जाएगा, जिससे अविष्कारक ऐप्स बनाई जा सकेंगी, विश्लेषण किए जाएंगे। 
आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के द्वारा भविष्य में अपार प्रगति करने के मौके मिलेंगे। 
क्लाउड कंप्यूटर का संसार जहां डाटा को स्टोर कर सकते हैं जिसे एक सरवर द्वारा ऑर्गेनाइज करके भविष्य में कंप्यूटर यूसेज ऐप्स को हायर कर सकेंगे। 
सिक्योरिटी कंप्यूटर का प्रयोग बढ़ने के साथ-साथ सुरक्षा के क्षेत्र में अपार संभावनाएं आ रही है। 
हानिकारक उत्पादन जैसे ड्राइवरलेस वाहन, 3D गेमिंग इत्‍यादि का प्रयोग भी भविष्य में बढ़ेगा। 

पारेख के अनुसार तकनीक के विकास के साथ-साथ उसका व्यवसायिक ढांचे में उचित प्रयोग आपकी सफलता को निर्धारित करता है। भारत के युवाओं में वह बड़े पैमाने पर यह प्रतिभा देख पाते हैं। इसलिए उनका मानना है कि भारतीय युवाओं को अपनी प्रतिभा को सही दिशा में मोड़ने के लिए बदलती टेक्नोलॉजी को समझना और परखना बहुत जरूरी है क्‍योंकि आज हम जिस दुनिया में रह रहे हैं वहां तकनीक ने इतना विकास कर लिया है कि आई फोन 6 पचास साल पहले बने स्‍पेस शिप से 120 लाख गुना ज्‍यादा पावरफुल है।

बदलती टेक्नोलॉजी के साथ सलिल जितनी तेजी से अपने विचारों एवं स़ृजनात्‍मक सोच से आगे बढ़ रहे हैं उनकी जीवन शैली इसका सर्वश्रेष्‍ठ उदाहरण है।

DEVENDRA JAIN-INOX - देवेन्द्र जैन

18 की उम्र में कारोबारी दुनिया में रखा कदम, दोस्त के सुझाए एक आइडिया से बन गए 13,000 करोड़ के मालिक

जब अंदर जुनून और जज्बा हो तो इंसान अपना रास्ता खुद बनाता है। हमारी आज की कहानी के नायक भी इसी किस्म के हैं जिन्होंने लिक से हटकर खुद को स्थापित करने का फैसला किया और आज वे देश के एक नामचीन उद्यमी हैं। उनके खून-पसीनों से सींची हुई कंपनी आज भारत के शीर्ष उद्योगों इंडस्ट्री में शुमार होती है।

जी हाँ, एंटरटेनमेंट सेक्टर से लेकर इंजीनियरिंग वर्क्स तक में अपनी कामयाबी का डंका बजाने वाले देवेन्द्र जैन आज किसी परिचय के मोहताज नहीं है। आइनॉक्स समूह की आधारशिला रखने वाले इस 88 वर्षीय उद्यमी की जीवन यात्रा बेहद प्रेरणादायक है। करीब 13,000 करोड़ की संपत्ति के धनी इस शख्स की गिनती आज देश के 100 सबसे अमीर लोगों में होती है।

देवेन्द्र जैन ने महज़ 18 वर्ष की उम्र से ही बिज़नस में अपनी रूचि दिखाना शुरू कर दिया था। उनके पिता सिद्धमोल जैन का पेपर व न्यूज़ प्रिंटिंग का बिज़नेस था। पिता की ही राह पर चलते हुए देवेन्द्र ने कारोबार की बारीकियों को सीखा और साथ-ही-साथ अपनी पढ़ाई भी पूरी की। दिल्ली के सेंट स्टीफन कॉलेज से उन्होंने अपने ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी की।

ग्रेजुएशन की डिग्री पूरी करने के बाद उनका रुझान मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की ओर बढ़ने लगा। उनके एक दोस्त जोकि ब्रिटिश ऑक्सीजन में कार्यरत थे उन्होंने उन्हें प्राकृतिक वायु से गैस को निकलने व तरलीकरण करने की सलाह दी। देवेन्द्र जैन को भी वायु से गैसों का निष्कर्षण व तरलीकारण कर बेचने के कारोबार में फायदा नज़र आया। क्योंकि उनदिनों औद्योगिक गैसों का इस्तेमाल इस्पात, विनिर्माण और स्वास्थ्य सेवा क्षेत्रों में व्यापक रूप से हो रहा था। इसलिए इस क्षेत्र में फायदे ही फायदे थे।

देवेन्द्र को अपने आईडिया पर यक़ीन था इसलिए उन्होंने अपने भाई ललित के साथ मिलकर जर्मनी व अमेरिका की यात्रा की ताकि इसे और गहराई से समझा जा सके। वहाँ उन्होंने औद्योगिक गैस बनाने वाली कंपनियों को देखा और साथ ही ज़र्मनी से एक ऑक्सीजन संयंत्र भी खरीदकर भारत लाए।

सन 1963 में उन्होंने पुणे में ऑक्सीजन बनाने के लिये इंडस्ट्रीयल ऑक्सीजन कंपनी बनाई। उनकी कंपनी मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर के साथ दवा उद्योग और हॉस्पिटल में भी ऑक्सीजन का सप्लाई करनी शुरू कर दी। धीरे-धीरे कारोबार फैलता चला गया और देवेन्द्र एक बाद एक छलांग लगाते चले गये। आइनोक्स ने इसके अलावा और भी अलग-अलग क्षेत्रों में अपने पैर फ़ैलाने शुरू किये। आज आइनॉक्स भारत का सबसे लोकप्रिय मल्टीप्लेक्स श्रृंखला है जिसके 120 से ज्यादा शहरों में सिनेमाघर हैं।

आज उनकी कंपनी की बागडोर उनके परिवार के तीसरी पीढ़ी सिद्धार्थ के हाथों में है। देश में आइनोक्स इकलौता ऐसा ग्रुप है जो रेफ्रिजेन्ट गैस के साथ-साथ इसके सिलेंडर भी बनाता है। वर्तमान में समूह के औद्योगिक गैस, फ्लोरोकार्बन, क्रोयोज़ेनिक इंजीनियरिंग और मल्टीप्लेक्स के बिज़नेस में बड़ा नाम बन चुकी है।

साभार:  hindi.kenfolios.com

Sunday, December 3, 2017

SHUBHANGI SWARUP - शुभांगी स्वरुप गुप्ता बनी नेवी की पहली महिला पायलट

माहोर वैश्य समाज की शुभांगी स्वरुप गुप्ता बनी नेवी की पहली पाइलट 

भारतीय नौसेना ने शुभांगी स्वरूप को पहली महिला पायलट के तौर पर कमीशन कर इतिहास रच दिया है। इस कमीशनिंग के साथ शुभांगी को भारतीय नौसेना के पहली महिला पायलट बनने का गौरव प्राप्त हो गया है। 

केरल के कन्नूर के एझीमाला में आयोजित इंडियन नेवल अकेडमी की पासिंग आउट परेड में शुभांगी स्वरूप के साथ आस्था सहगल, रूपा ए और शक्तिमाया एस भी शामिल थीं। लेकिन पहली महिला पायलट बनने का गौरव शुभांगी को हांसिल हुआ और माना जा रहा है कि उनकी तैनाती टोही विमानों के लिए हो सकती है।

बुधवार को आयोजित इस परेड में 328 कैडेट शामिल हुए इसमें इंडियन कोस्ट गार्ड सहित दो ओवरसीज कैडेट भी शामिल हुए। ओवरसीज कैडेट में तंजानिया और मालदीव के कैडेट शामिल थे। पहली महिला पायलट बनने के बाद उत्तर प्रदेश के बरेली की रहने वाली शुभांगी स्वरूप ने कहा कि मुझे मालूम है कि यह सिर्फ एक रोमांचक अवसर नहीं बल्कि एक बहुत बड़ी जिम्मेदारी भी है. शुभांगी हैदराबाद के दुंदीगल एयर फोर्स अकादमी भी विशेष ट्रेनिंग के लिए जाएंगी। 

आस्था सहगल ने कहा कि नेवी के इतिहास में यह भी पहलीबार होगा जब नेवल अर्मामेंट इंसपेक्सन ब्रांच में अधिकारी के तौर पर शामिल किया जाएगा। इस बदलाव के बाद भारतीय महिलाओं को एक अलग तरह की पहचान मिलेगी।

महिलाओं को मिल रही जिम्मेदारियों के बाद चीफ ऑफ नेवल स्टाफ एडमिरल सुनील लांबा ने कहा कि वैसे तो इंडियन नेवी में महिलाओं की एंट्री 1991 में ही मिल गई थी लेकिन शुभांगी, आस्था सहित नई लड़कियों की इस पहल के बाद महिलाएं तेजी से शामिल होंगी। कार्यक्रम में एडमिरल ने 9 बेहतरीन मिडशिपमेन और कैडेट को मेडल भी दिया।