वैश्यों के बारे में कुछ लेख




  1. वैश्य समाज के बारे में भ्रान्तिया
  2. THE MARWADIS FROM JAGAT SETH TO BIDLAS
  3. इ कोमर्स में बंसल का जलवा
  4. व्यापारिक समुदायों की खासियत
  5. दो-दो- वैश्य नेताओं की हुंकार
  6. वैश्य समाज की वैश्विक विरासत
  7. बनियों की की ये आदते उन्हें बनाती हैं सबसे अमीर
  8. बनिया खलनायक नहीं, बदलाव की प्रक्रिया का सहनायक
  9. तो इसलिए अग्रवाल करते है मांसाहार से परहेज, जानिए क्यों है अग्रवालों में एक आधी गोत्र ?
  10. अग्रवाल जैन अग्रोहा से निकले

1 comment:

  1. वैश्या संस्कृत का शब्द है जिसके अर्थ होता है "वैश्य की स्त्रीलिंग जैसे क्षत्रिय का क्षत्राणी और शूद्र का shudraa , किन्तु वैश्य का अर्थ वृति यानि धंधा वाला .वैसे ही वैश्या का अर्थ वृति यानि धंधे वाली |
    http://www.gyandarpan.com/2011/01/blog-post_30.html

    ReplyDelete

हमारा वैश्य समाज के पाठक और टिप्पणीकार के रुप में आपका स्वागत है! आपके सुझावों से हमें प्रोत्साहन मिलता है कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का प्रयॊग न करें।