Thursday, October 31, 2013

वैश्य समाज के गौरव

प्रस्तुत लेख इसलिए लिखा गया है कि व्यक्ति अपनी जाति के गौरव को पहचाने अपनी जाति के महान पुरुषों के चरित्र से प्रेरणा लें. इस लेख से अर्थ न लगाया जाए कि जातिवाद को बढ़ावा दिया जा रहा है. हम प्रत्येक जाति के उच्च चरित्र को यहाँ प्रस्तुत करने के इच्छुक है कृपया हमारा मार्गदर्शन करें जिस-जिस जाति के चरित्र हमारे संज्ञान में आते रहेंगे उनका उल्लेख किया जाता रहेगा.

वैश्य जाति अपनी दानवीरता, धर्म प्रेमिता, सौम्य व्यक्तित्व के लिए सराहनीय मानी जाती रही है. अनेक गौशालाएं, विद्दालयों का संचालन वैश्य जाति का उदारह्र्द्यता के कारण ही सम्भव हो पाया है वैश्य जाति के कुछ श्रेष्ठ चरित्र निम्न है.

1 संजय अग्रवाल:-बाबरी मस्जिद कांड मे गोली लगने से यह नौजवान सर्वप्रथम शहीद हुआ था. सुरक्षा चक्र का घेरा तोड़कर तेजी से यह गुम्बद के ऊपर जा चढ़े और अपनी धर्म संस्कृति की रक्षा करते हुए अमर हो गए.



2 श्री रणवीर गुप्ता - पानीपत के पास चुलकाना (समालखा) के रहने वाले श्री रणवीर जी ने दानवीर कणर् के समान करोड़ों रूपये का दान करके एक ऐसी मिसाल पेश की है कि हर कोई उनका कायल हो गया। उन्होंने गांव के सरकारी स्कूल को 1.40 लाख डॉलर दान दिया जहां से 1962 में आठवीं की परीक्षा पास की थी। समालखा के राजकीय उच्च विद्यालय को भी 1.40 लाख डॉलर दान ​दिया जहां से 11वीं की परीक्षा पास की। 63 वशीर्य रणवीर जी ने 1970 में बी0 आर्क0 की ​डिग्री आई0 आई0 टी0 खडगपुर से उत्तीर्ण की। इस संस्थान को भी वो 20 लाख डॉलर प्रदान कर रहे हैं। इस विश्वस्तरीय शैक्षिक  संस्थान ने डॉ0 गुप्ता के नाम पर आर्किटेक्ट खण्ड स्थापित किया है।

साभार : विश्वामित्र, http://vishwamitra-spiritualrevolution.blogspot.in/2013/03/blog-post_22.html

No comments:

Post a Comment

हमारा वैश्य समाज के पाठक और टिप्पणीकार के रुप में आपका स्वागत है! आपके सुझावों से हमें प्रोत्साहन मिलता है कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का प्रयॊग न करें।