Pages

Tuesday, August 9, 2022

VANIK RASOI - विशेष है वनिक रसोई

VANIK RASOI - विशेष है वनिक रसोई 



साभार: पुष्पेश पन्त, दैनिक भास्कर 

 

Tuesday, July 19, 2022

DR. ARVIND GOYAL - A GREAT DONOR OR UP & MORADABAD

DR. ARVIND GOYAL - A GREAT DONOR OR UP & MORADABAD

उद्योगपति ने 600 करोड़ की संपत्ति दान की:अरविंद गोयल ने अपने पास सिर्फ घर रखा, 50 साल की मेहनत से कमाई थी प्रॉपर्टी.

मुरादाबाद के उद्योगपति डॉ. अरविंद कुमार गोयल ने अपनी पूरी संपत्ति गरीबों के लिए दान कर दी है। दान की गई संपत्ति की कीमत करीब 600 करोड़ रुपए है। गोयल ने अपने पास सिर्फ घर रखा है। उन्होंने 50 साल की मेहनत से यह प्रॉपर्टी बनाई थी।

देशभर में चलते हैं सैकड़ों अनाथ आश्रम और स्कूल
डॉ. गोयल बिजनेसमैन होने के साथ ही समाजसेवा में भी लगे रहते हैं। गोयल के सहयोग से पिछले करीब 20 साल से देशभर में सैकड़ों वृद्धाश्रम, अनाथ आश्रम और फ्री हेल्थ सेंटर चलाए जा रहे हैं। साथ ही उनकी मदद से चल रहे स्कूलों में गरीब बच्चों को फ्री शिक्षा दी जा रही है। कोविड लॉकडाउन में भी करीब 50 गांवों को गोद लेकर उन्होंने लोगों को मुफ्त खाना और दवा दिलवाई।

मुरादाबाद के सबसे बड़े उद्योगपति और प्रख्यात समाजसेवी डॉ. अरविंद कुमार गोयल को सम्मानित करते राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद।

राजस्थान में भी हैं कई स्कूल-कॉलेज
डॉ. अरविंद गोयल ने 50 साल की कड़ी मेहनत से यह संपत्ति अर्जित की है। मुरादाबाद के अलावा प्रदेश के अन्य हिस्सों और राजस्थान में भी उनके स्कूल-कॉलेज और इंजीनियरिंग कॉलेज हैं। मुरादाबाद के सिविल लाइंस की अपनी कोठी को छोड़कर उन्होंने बाकी पूरी संपत्ति दान देने की घोषणा की है। उन्होंने यह दान सीधे राज्य सरकार को दिया है, ताकि वास्तविक जरूरतमंदों तक मदद पहुंचाई जा सके।


पिछले 20 सालों से भी अधिक समय से डॉ. अरविंद कुमार गोयल गरीब और असहाय लोगों की सेवा में जुटे हैं।

बंगले पर लगी भीड़
मुरादाबाद के सिविल लाइंस में डॉ. अरविंद कुमार गोयल का बंगला है। सोमवार रात को जैसे ही उन्होंने अपना सब कुछ दान करने का ऐलान किया, पूरे शहर में सिर्फ उनकी ही चर्चा होने लगी। मंगलवार सुबह से ही उनके बंगले पर लोगों की भीड़ जुट गई।

पत्नी और बच्चों ने भी दिया फैसले में साथ
डॉ. गोयल के परिवार में उनकी पत्नी रेनू गोयल के अलावा उनके दो बेटे और एक बेटी है। उनके बड़े बेटे मधुर गोयल मुंबई में रहते हैं। छोटे बेटे शुभम प्रकाश गोयल मुरादाबाद में रहकर समाजसेवा और बिजनेस में पिता का हाथ बंटाते हैं।

बेटी शादी के बाद बरेली में रहती है। उनके बेटों या परिवार के किसी भी सदस्य से संपर्क नहीं हो पाया है। हालांकि तीनों बच्चों और पत्नी ने उनके इस फैसले का स्वागत किया है।

राष्ट्रपति रहते हुए प्रतिभा देवी पाटिल ने भी डॉ. गोयल को सम्मानित किया था।

डॉ. अरविंद बोले- जीवन का भरोसा नहीं, इसलिए लिया फैसला
डॉ. अरविंद गोयल ने कहा, "वह चाहते हैं उनकी सारी पूंजी गरीबों की सेवा में काम आए। जीवन का कोई भरोसा नहीं है। इसलिए जीवित रहते हुए ही अपनी संपत्ति को सही हाथों में सौंप दिया। इससे अनाथ, गरीब और बेसहारा लोगों के काम आ सकेंगे।"

माता-पिता स्वतंत्रता सेनानी, बहनोई रहे हैं देश के मुख्य चुनाव आयुक्त
डॉ. अरविंद कुमार गोयल का जन्म मुरादाबाद में हुआ था। उनके पिता प्रमोद कुमार और मां शकुंतला देवी स्वतंत्रता संग्राम सेनानी थे। उनके बहनोई सुशील चंद्रा देश के मुख्य चुनाव आयुक्त रह चुके हैं। इससे पहले वह इनकम टैक्स यानी CBDT के चेयरमैन भी रह चुके हैं। उनके दामाद आर्मी में कर्नल हैं और ससुर जज थे।

पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम भी डॉक्टर गोयल को उनकी समाजसेवा के लिए सम्मानित कर चुके हैं।

डॉ. गोयल को 4 राष्ट्रपति कर चुके हैं सम्मानित
डॉ. अरविंद कुमार गोयल के समाजसेवा के जज्बे को देश और दुनिया में कई मंचों से सम्मानित किया जा चुका है। मौजूदा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा देवी पाटिल और पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम समाजसेवा के लिए उनको सम्मानित कर चुके हैं। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी डॉ. गोयल के सेवा कार्यों के लिए उन्हें सम्मानित कर चुके हैं।

बॉलीवुड इंडस्ट्री भी डॉक्टर गोयल के समाजसेवा के जज्बे को सलाम कर चुकी है।

हजारों गरीब मानते हैं मसीहा
अरविंद गोयल को गरीब किसी मसीहा से कम नहीं मानते हैं। यहां वृद्धाश्रम और अनाथ आश्रम में रह रहे सैकड़ों बेसहारा और अनाथ उन्हें भगवान कहते हैं। स्थानीय लोग बताते हैं कि अरविंद गोयल की दिनचर्या पिछले 20 सालों में कभी नहीं बदली।

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी अनूठे और अतुलनीय सामाजिक कार्यों की वजह से प्रदेश में कई कार्यक्रमों के शुभारंभ में डॉ. गोयल को बतौर स्पेशल गेस्ट इनवाइट कर चुके हैं।

शीर्ष उद्योगपति फिर भी जीवन सादगी भरा
​​​डॉ. गोयल की मुरादाबाद ही नहीं, बल्कि उत्तरप्रदेश के जाने-माने उद्योगपतियों में भी गिनती होती है। प्रदेश के साथ ही देश के अलग-अलग हिस्सों में उनके स्कूल-कॉलेज हैं। मुरादाबाद के शीर्ष उद्योगपति होने के बावजूद वो एकदम साधारण तरीके से जीवन जीते हैं।

क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने भी डॉ. गोयल की समाजसेवा को सराहा।

सोशल मीडिया पर दानवीर कर्ण से तुलना कर रहे लोग
सोशल मीडिया पर लोग उनके इस कदम की जमकर सराहना कर रहे हैं। कई यूजर लिखते हैं, "उद्योगपति के इस दान पर वह निशब्द हैं।" कई उनकी तुलना दानवीर कर्ण से कर रहे हैं। एक यूजर्स ने लिखा, ‘‘डॉ. गोयल का यह कदम समाज के लिए आइना है। बाकी पूंजीपतियों को भी इनसे प्रेरणा लेकर समाज और देश के बारे में सोचना चाहिए।’’

5 सदस्यों की कमेटी करेगी निगरानी
डॉ. गोयल ने राज्य सरकार से इच्छा जाहिर की है कि उनकी संपत्ति को बेचकर जो पैसा मिलेगा, उससे गरीबों की मदद की जाए। साथ ही पांच सदस्यीय कमेटी बनाई जाए। इसमें तीन सदस्य वह नामित करेंगे। बाकी दो सरकार की ओर से नामित होंगे। यह कमेटी पूरी संपत्ति को सही रेट पर बेचकर उससे आने वाले पैसे से अनाथ और बेसहारा लोगों के लिए फ्री शिक्षा और चिकित्सा की व्यवस्था करेगी।

तस्वीरों में देखिए डॉ. अरविंद कुमार गोयल का सफरनामा

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के साथ देश में प्रदूषण कम करने के मुद्दे पर भी वह काम कर चुके हैं।

देश में विभिन्न मंचों से सम्मानित होने के साथ-साथ डॉक्टर गोयल को कई अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर भी सम्मानित किया जा चुका है।

बॉलीवुड इंडस्ट्री ने सामाजिक कार्यों के लिए डॉ. गोयल को आइफा अवॉर्ड में बतौर स्पेशल गेस्ट इनवाइट किया।

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने भी डॉ. अरविंद गोयल को सम्मानित किया था।

शाहरुख ने कहा था, सक्षम लोग आपकी तरह सोचने लगें, तो देश से गरीबी शब्द मिट जाए।

अपने बेटों के साथ उद्योगपति और समाजसेवी डॉ. अरविंद गोयल।

SABHAR: DAINIK BHASKAR

AASHI CHOUKSEY WORLD CHAMPION

AASHI CHOUKSEY WORLD CHAMPION

दक्षिण कोरिया में चल रहे ISSF 2022 विश्व कप में वैश्य महाजन सेठ समाज की बेटी आशी चौकसे(पहली फोटो में तीसरे नंबर पर और दूसरी फोटो में पहले नंबर पर मेडल के साथ) ने अपनी सहखिलाड़ियों अंजुम मौदगिल और सिफ्ट कौर सामरा के साथ मिलकर सोमवार को आईएसएसएफ विश्व कप की महिला 50 मीटर राइफल 3 पोजीशन प्रतियोगिता में कांस्य पदक जीता




दक्षिण कोरिया में चल रहे ISSF 2022 विश्व कप में सेठ समाज की बेटी आशी चौकसे(पहली फोटो में तीसरे नंबर पर और दूसरी फोटो में पहले नंबर पर मेडल के साथ) ने अपनी सहखिलाड़ियों अंजुम मौदगिल और सिफ्ट कौर सामरा के साथ मिलकर सोमवार को आईएसएसएफ विश्व कप की महिला 50 मीटर राइफल 3 पोजीशन प्रतियोगिता में कांस्य पदक जीता.

भारतीय तिकड़ी ने कांस्य पदक मुकाबले में आस्ट्रिया की टीम को 16-6 से मात दी।क्वालिफिकेशन स्टेज एक और दो में भारत को 1324-71 और 872-39 के स्कोर के साथ चौथा स्थान हासिल हुआ था।

आशी चौकसे को बहुत-बहुत शुभकामनाएं और उज्जवल भविष्य की कामना।भगवान श्री नृसिंह नारायण की कृपा आपके ऊपर हमेशा बनी रहे।

Sunday, July 17, 2022

ANIKA GUPTA & KANISHKA MITTAL - ICSC INDIA TOPPER - 2022

ANIKA GUPTA &  KANISHKA MITTAL - ICSC INDIA TOPPER - 2022 

कानपुर की अनिका_गुप्ता व लखनऊ की कनिष्का_मित्तल ने 500 में 499 अंक लाकर किया देश टॉप वैश्य समाज की ओर से दोनों को बधाई

ANIKA GUPTA 


आइसीएसइ बोर्ड ने दसवीं का रिजल्ट जारी कर दिया है। शहर में शीलिंग हाउस स्कूल की छात्रा अनिका गुप्ता का नाम नेशनल टॉपर की सूची में पहले पायदान पर है। वहीं स्कूलों के सफल छात्र-छात्राओं में खुशी की लहर है।

 काउंसिल फार इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन (सीआइएससीई) की ओर से आयोजित हुई इंडियन सर्टिफिकेट आफ सेकेंड्री एजूकेशन परीक्षा का परिणाम रविवार शाम जारी हो गया। इसमें खलासी लाइन स्थित शीलिंग हाउस स्कूल की 10वीं की छात्रा अनिका गुप्ता ने 500 में से 499 अंक हासिल करके देश की टापर होने का गौरव हासिल किया है।

KANISHKA MITTAL 


आइसीएसई 10वीं के नतीजे रविवार शाम को जारी कर दिये गए। जारी हुए नतीजों के अनुसार लखनऊ के सीएमएस का डंका देशभर में बजा। सीएमएस कानपुर रोड की कनिष्का मित्तल 99.80 अंक हासिल कर नेशनल टापर बनीं।

 काउंसिल फार द इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन (सीआइएससीई) की ओर से 10वीं (आइसीएसई) के नतीजों में लखनऊ के मेधावी छात्र- छात्राओं ने ऊंची छलांग लगाई है। सिटी मांटेसरी स्कूल कानपुर रोड लखनऊ की कनिष्का मित्तल ने 99.80 प्रतिशत अंक हासिल कर नेशनल टापर बनीं हैं। उन्होंने 500 में 499 अंक हासिल किया है।

Friday, July 15, 2022

मारवाड़ के बनिये कभी नही बदले

मारवाड़ के बनिये कभी नही बदले

सभी को बदलते हुए देखा है मैंने; बस मारवाड़ के बनिये कभी नही बदले। सब जातियों में यहां कन्वर्टेड भी मिल जाएंगे। सिंध, अमरकोट, बलूचिस्तान से आए हुए लोग भी। लेकिन मारवाड़ी बनियो में नही मिलता कोई। आज भी कराची में मोहता परिवार की छूटी हुई हवेली गवाह है इस बात की।

इसलिए उनके प्रति मेरा सम्मान बहुत अधिक है। ये मेरे निजी अध्ययन है की क्यों एक व्यापार में इतने सफल होते हैं:-
1) वो बचपन से व्यापार में हाथ बढ़ाना शुरू कर देते है
2) अधिकांश लड़के लड़कियां CA, ईकोनोमिक्स, कॉमर्स लेते हैं। ये पढ़ाई में रुचि कम लेते है और व्यापार में अधिक। सभी कम उम्र के लड़के अपनी दुकानों पर जाकर ज़रूर बैठते हैं। आज के टाइम भी सबसे अधिक स्टार्ट अप इनके ही हैं।
3) लड़ाई झगड़ा बिल्कुल नही करते, अगर कहीं लड़ाई का माहौल दिखे तो भी साइड हो जाते है। मेंरे बैचमेट लड़के तक मुझे आकर शिकायत कर देते थे किसी मुद्दे पर,लेकिन खुद लड़ाई नही करते थे
4) लड़की को लक्ष्मी स्वरूप मानते है। घर में बेटी हो तो प्रसन्नता इतनी अधिक की व्यक्त नही कर सकते।
5) शुरू से ही नए व्यापार की बातें करते रहते है इनके लड़के, स्कूल कॉलेज से ही।
6) अन्य जातियों को स्नेह देते हैं किन्तु सबसे अधिक क्षत्रिय समाज को, क्षत्रिय लड़कियो को विशेष स्नेह देते हैं।
7) साधारण सी लाईट ऑन ऑफ करते वक्त भी जय श्री कृष्णा बोलते हैं।
😎
सबसे अधिक भागवत कथाएँ, मेलो जागरणों पे पैसा यही समाज खर्च करता है। ऐसा कोई तीर्थ स्थल नही होगा जहां बनिया के डोनेशन के पैसे से धर्मशाला नही बनी हुई हो।
9) बिड़ला परिवार ने सबसे सुंदर मंदिरों को निर्माण करवाया।
10) एक से बढ़कर एक जैन मंदिर बनाये गए।
11) हॉस्पिटल, स्कूल, ऐसा कोज सार्वजनिक स्थल या कार्य नही। जहां ये सामने नही आते।
12) बहुत ही सात्विक जीवन जीते हैं। भोजन शाकाहारी रहता है हमेशा। लेकिन होते चटोरे ही हैं।
13) इनकी महिलाएं बहुत ही अधिक धर्म भीरू होती है। एक एक दंतकथा, याद रहती है
14) सबसे अधिक गुप्त दान करने वाला समाज भी यही है। अपनी कमाई के एक हिस्सा ज़रूर धर्म कर्म पर लगाते हैं, नियमित तौर पर।
15) अपने जात भाईयों को कभी नीचे नही गिरने देते, व्यापार में घाटा हो तो वापस पैसा उधार देकर खड़ा कर देते हैं। ये गुण सभी समाजों को बनियो से सीखना चाहिए।
मैंने सभी जातियों में धर्म विरुद्ध बातें करते हुए लड़के लड़की देखे है मारवाड़ में। लेकिन बनिया को कभी नही। अभी चौमासे पे सबसे अधिक भागवत कथाओं का आयोजन बनिया और जैन मुनियों द्वारा उनके पंथ के बड़े कार्यक्रम होते है हमारे यहां।

लेख साभार: भारती पंवार जी

ICAI CA Final Toppers List May 2022 - ALL OF THREE FROM VAISHYA COMMUNITY

ICAI CA Final Toppers List May 2022 - ALL OF THREE FROM VAISHYA COMMUNITY

ICA CA Final AIR I

MEET Anil Shah

642/ 800

Mumbai


ICA CA Final AIR II

Akshat Goyal

639/ 800

Jaipur


ICA CA Final AIR III

Shrushti Keyurbhai Sanghavi

611/ 800

Surat


CA Topper 2022: Mumbai student is national CA topper, मीत शाह  देश में पहले स्थान पर 

Meet Shah, 22, who graduated from HR College, Mumbai last year, said that he was only hoping for a good rank, but getting the first rank in the country was totally unexpected. He said, "I studied hard for it, but the exams are very unpredictable."


Meet Shah, CA topper for 2022.

MUMBAI: Twenty-two-year-old Meet Shah from Mahalaxmi, Mumbai, topped the chartered accountancy (CA) final exams in the country. The Institute of Chartered Accountants of India (ICAI) announced the results on Friday morning.

अक्षत गोयल देश में दुसरे स्थान पर


श्रुति  सिंघवी देश में तीसरे स्थान पर



जयपुर में सारे  टोपर वैश्य समाज से 


Thursday, July 14, 2022

GURDAS RAM AGRAWAL - A GREAT REVOLUTIONARY

GURDAS RAM AGRAWAL - A GREAT REVOLUTIONARY

वैश्य शिरोमणि अमर क्रांतिकारी गुरदास राम अग्रवाल की जयंती 14 जुलाई को मनाई जाएगी मात्र 17 वर्ष की उम्र में आजादी के आंदोलन में अपना सर्वस्व लुटाने वाले एकमात्र अग्रवाल क्रांतिवीर है वैश्य शिरोमणि लाला लाजपत राय की हत्या का बदला लेने के लिए पूरी तैयारी के साथ गुरुदास राम अग्रवाल दौड़ पड़े जहां लाला जी की हत्या हुई थी इस क्रांतिकारी ने जब देखा है कि भगत सिंह चंद्रशेखर आजाद जैसे क्रांतिकारियों ने सांडर्स का वध कर दिया है गुरदास राम अग्रवाल देश को आजाद कराने के लिए कोई बड़ा काम बड़ी क्रांति करना चाहते थे अंग्रेज अफसरों की एक बैठक में बम फेंककर कई अंग्रेज अफसरों को मौत की नींद सुला देने वाले इस क्रांतिकारी ने अपने चार साथियों को भगाकर और स्वयं को ब्रिटिश पुलिस के हवाले कर दिया जेल में अनेक यातनाएं सहकार 15 15 दिन भूख और प्यास सहने के बाद भी साथियों के नाम नहीं बताए जल्लाद ब्रिटिश हुकूमत के अफसरों ने 17 साल के इस क्रांतिवीर को इतने कोड़े मारे के इनकी चमड़ी के रेशे हवा में लहराने लगे लेकिन यह क्रांतिवीर अंतिम समय तक अपने साथियों के नाम ना बता कर हमेशा हमेशा के लिए जेल में शहीद हो गया आइए हम सब मिलकर इस महान क्रांतिकारी की जयंती को पूरी श्रद्धा के साथ मनाएं

लाला जानकीदास का तालाब

लाला जानकीदास का तालाब, बेरी, झज्जर, हरियाणा
 
जानकीदास के तालाब की मार्मिक दास्तान. जो पिछले साल बेमौत ही प्रापर्टी डीलरों के हत्थे चढ़ गया। बेरी कस्बे के धनी महाजन लाला जानकीदास ने 50 लाख लाखौरी ईंटों से इस तालाब का निर्माण 1900 के आसपास करवाया था। जिसकी चारदीवारी के अंदर एक 32 दरवाज़ों और 64 नक्काशीदार पिलरों वाला हवादार रंगमहल, एक शेखावाटी स्टाइल का कुआं, एक 30 फीट गहरा चकोर तालाब और साथ में एक भित्ति चित्रों से सजी दो मंजिला यादगार छतरी इसकी सुंदरता में चार चांद लगाती थी। लेकिन अब ये सब हमेशा के लिए इतिहास के पन्नों में दफन हो चुका है।

Beri is a town, Village, and a Municipal committee in the Jhajjar district in northern Indian state of Haryana, which previously fell under District Rohtak, Haryana, is now a part of newly created District Jhajjar from 15 July 1997 onwards. The City is located 60 kilometres (37 mi) northwest of Delhi and is a trading center. Beri is one of the largest tehsils of Haryana State including 77 villages. Beri City is situated on Road Connecting Gurgaon to Hisar and Kosli(Rewari) to Rohtak. This is the mid of These four Cities. The First Chief Minister of Haryana, Bhagwat Dayal Sharma, was from Beri village. The Town has a World's Famous temple dedicated to the goddess Mata Bhimeshwari Devi.The "Beri Pashu Mela" or "Beri Cattle Fair" is celebrated in the days of Navratra every year.




The elders of Haryana often tell an anecdote, when Chinese traveler Hiuen Tsang asked for water from a Haryanvi woman during her travels, she gave it instead of water by filling a bottle of milk. Hiuen Tsang said that he had asked for water. In response, the Haryanvi woman said, "We do not have the tradition of providing water to the guests. But the manner in which the traditional water structures have been ruined in the recent past, it seems that a serious water crisis will arise in Haryana, far away from milk.

History of Janki Das Talab

During the neglect of the ponds, the ponds here made for public use turned into encroachment, filth and sewage pits of the town. There were no such special ponds, which Seth used for himself or which were princely. Seeing the condition of Lala Jankidas's pond near the police station situated on Kalanaur road of Beri town of Jhajjar district, it seemed like this. But after a long struggle, finally this pond also got lost in the pages of history last year forever. Due to the rising property prices, this pond was in the vulture-like eyes of the dealers who wanted to earn money by selling it. The boundary wall of this very grand pond remained in ruins till last year, but its condition was not good. Bricks were starting to come out of them. The trees with very beautiful and deep shade were still there. This was the only pond among the Beri ponds, for whose maintenance the outer boundary wall was made and arrangements were made for the watchman. Till now 12-15 feet of water was standing in this pond, about 30 feet deep, but all the four Ghats started sinking inwards.

Panoramic view of Seth Janki Das's Talab.
"It was built by Seth Jankaki Das, a wealthy Mahajans of Beri Town sometimes in early 1900's. "

It is estimated that more than 50 lakh Lakhuri bricks used for the construction of these Ghats and the inner boundary wall. Its watchman's responsibility rests with the family of 55-year-old Bhateri. The family of his son, the mason Pradeep, also lives here. According to Bhateri, there was no maintenance of this pond for a long time. Although many people are of the opinion that this pond was built by the Seths for themselves. But most elders do not agree with this. Local people say that till about 60 years ago, the water in the cauldron on this pond was hot in winter. The people who used to come here to take a bath, used to bring a bucket of water from the pond and put it in the cauldron and instead take a bucket of hot water. Gau Ghat was also built on the pond. This pond was also used for swimming competition. These three things confirm that this pond was also for public use.

Aerial head over view of Janki Das's Cenotaph

Inner view of Janki Das Palace

Looking at the structure of the pond and the arrangements for its maintenance, it seemed that it is a specimen of architecture that is several hundred years old. According to experts, this pond was made of bricks of potters who were expert in making ponds of beri. The masons here built it, but seeing its artistic craft and strength, it seems as if it was built by the Mughal masons.

A little away from the pond, there was a bungalow like a palace about five feet high. It has 16 doors to enter. There are several dozen skylights and windows. More than 250 mirrors installed in these skylights show how much money Seth Jankidas must have spent to increase the beauty and usefulness of this pond. However, many of these glasses were now broken. It had 32 beautiful doors around it. 64 pillars made of stone added to the beauty and strength of the verandahs. This pond was a group of buildings which included a windy palace, a square pond, a well and a two-storey memorial chhatri. In the octagonal chhatri, the remains of the frescoes on the walls were present till the last time. The date of its construction was marked on the walls of this chhatri, which tells its construction year 1902 AD (Samvat 1959). Many local people are of the opinion that this pond was built around 1885, about 17 years before this Chhatri.

Beautiful small houses were also built on one side of the pond. Experts say that after water sports, people used to rest in the bungalow. It was also an important center of group discussion on social issues. Surrounded by dense trees from all sides, this very beautiful pond was built around 1900. The eminent Seth Jankidas here built it in the memory of his brother with the help of a trust.

SABHAR : 
The Haryana Junction
theharyanajunction.com/jankidas.html

Wednesday, July 13, 2022

BHANDASAR JAIN MANDIR - BIKANER

BHANDASAR JAIN MANDIR - BIKANER

एक ऐसा मंदिर जिसके निर्माण में पानी के जगह शुद्ध देशी घी का प्रयोग हुआ...



हाँ जी, राजस्थान के बीकानेर मे भांडासर या भांडाशाह जैन मंदिर, एक ऐसा मंदिर है जिसको बनाने मे मिश्रण के लिए पानी की जगह देशी घी का उपयोग किया गया था इस मंदिर का निर्माण 15 वी शताब्दी के एक व्यापारी भांडाशाह ओसवाल द्वारा करवाया गया था...

तीन मंज़िला मंदिर को बनाने मे लाल और पीले पत्थर का इस्तेमाल किया गया है, इस की दीवारों, खिड्कियों और छत पर आपको उस समय की नायाब कारीगरी देखने को मिलेगी, पत्ती नुमा चित्रकारी, फ्रेसको चित्रकारी, शीशा पर की गयी कारीगरी देख कर आप सिर्फ और सिर्फ देखते ही रह जाएगे पांचवे तिर्थांकर को समर्पित इस जैन मंदिर की ख्याति देश ही नहीं अपितु विदेशो तक है।

भांडाशाह ओसवाल ने पानी की जगह घी से मंदिर का निर्माण क्यों करवाया इससे जुड़ी कुछ कहानियाँ वहाँ के पुजारी ने बताई जो कितनी सत्य है कोई नहीं जानता, पर रोचक बहुत है।

1. भांडाशाह ओसवाल घी के व्यापारी थे उनकी जब मंदिर के निर्माण को लेकर मिस्त्री के साथ अंतिम निर्णय की बैठक चल रही थी तब दुकान मे रखे घी के पात्र मे एक मक्खी गिर कर मर गयी तो सेठ जी ने मक्खी को उठा कर अपने जूते पर रगड़ लिया और मक्खी को दूर फेक दिया, पास ही बैठा मिस्त्री ये सब देख कर आश्चर्यचकित हो गया की सेठ कितना कंजूस है मक्खी मे लगे घी से भी अपने जूते चमका लिए, फिर मिस्त्री ने सेठ की दानवीरता की परीक्षा लेने की ठानी, मिस्त्री बोला सेठ जी मंदिर को शताब्दियों तक मजबूती देने के लिए इसमे इस्तेमाल होने वाले मिश्रण मे पानी की जगह घी का उपयोग करना उचित रहेगा, सेठ जी भोले-भाले थे, उन्होने घी का इंतजाम भी करवा दिया, जब मंदिर का निर्माण शुरू किया जा रहा था उस समय मिस्त्री ने सेठ जी से क्षमा मांगी और कहा कि मैंने एक दिन आपको घी मे पड़ी मक्खी से अपने जूते चमकाते देखा तो सोचा की आप बहुत कंजूस हो पर सेठ जी आप तो बहुत बड़े दिल के दानवीर हो मुझे माफ कर दीजिये। ये घी वापस ले जाइए मै मंदिर निर्माण मे पानी का ही इस्तेमाल करूंगा, तब सेठ जी ने कहा कि वो तुम्हारी ना समझी थी कि तुमने मेरी परीक्षा ली अब ये घी भगवान के नाम मैंने दान कर दिया है सो अब इसका इस्तेमाल तुमको मंदिर निर्माण मे करना ही होगा, मिस्त्री ने मंदिर निर्माण मे 40 हज़ार किलो घी का इस्तेमाल किया, आज भी तेज गर्मी के दिनो मे इस जैन मंदिर की दीवार और फर्श से घी रिसता है।

2. राजस्थान के कई इलाके शताब्दियों से पानी की कमी को झेल रहे है, उनमे से एक ये गाँव भी था, जहां सेठ भांडाशाह ओसवाल रहते थे, जब सेठ जी ने मंदिर निर्माण के विचार को सभी गाँव वालों से साझा किया तो सभी ने कहा की पानी की बहुत समस्या है, आप ये मंदिर निर्माण कही अन्य जगह करवा लीजिये यहाँ ग्रामीणो को पीने तक को पानी नहीं है। पानी की समस्या को देखते हुए सेठ जी ने मंदिर निर्माण मे देशी घी का प्रयोग करवाया और मंदिर का निर्माण अपने ही गाँव मे करवाया।।

Sunday, July 10, 2022