Friday, February 20, 2015

MODH GHANCHI VASHYA - मोध घांची वैश्य

मोध घांची (मोढ़ / मोदी / साहू / तेली / गनिगा / गान्दला ) गुजरात, और भारत के विभिन्न भागों में पाए जाने वाली एक वैश्य जाति है। मोढ़ घांची की तरह से साहू, तेली, गनिगा, बंगाल, बिहार, छत्तीसगढ़, दिल्ली, झारखंड, महाराष्ट्र, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, राजस्थान और उत्तर प्रदेश में पाया जाने वाला अन्य पिछड़ा वैश्य वर्ग हैं 

मोध घांची नाम भारतीय मूल का हैं, मोध घांची लोग जो की गुजरात में तेल और घी आदि का व्यापार करते हैं. मोध घांची लोग सामान्यतः अहमदाबाद, नवसारी, सूरत, वलसाड, बिलिमोरा में, मोढ़ घांची मूलतः मोढेरा गुजरात से निकले हुए हैं. सौराष्ट्र, अमरेली, बगासरा, बिलखा , भावनगर, जूनागढ़, कलोल, कादी, के कुछ हिस्सों में मोढ़ घांची पाये जाते है । कर्नाटक में गनिगा, गान्दला के नाम से जाने जाते हैं. 

नरेंद्र मोदी, भारत के 15 वें प्रधानमंत्री, मोढ़ घांची समुदाय के अंतर्गत आते है, उत्तर प्रदेश और बिहार में तेली जाति गुजरात की घांची जाति के समकक्ष हैं.

साभार: विकिपीडिआ 

HISTORY

Ancient Vaidik Era 

# Birth of Modh Samaj:

The information available from vaidik history about emergence of Modh samaj reveals that the Modhera of present era was known as Dharmar’nya in Vaidik era . To establish Dharmar’nya as a centre of the vaidik sanskruti , Brahma, Vishnu and Mahesh created three thousand Brahmins each total eighteen thousand Brahmins who were master in three Vedas. According to ancient historians Brahmins created by Brahma were of sober & honest “RAJAS” nature, Brahmins created by Vishnu were of “SATVIK” nature and Brahmins created by Mahesh were of angry “TAMAS” nature.

Brahmaji ordered Kamdhenu cow to create thirty six thousand skilful and religious natured “SEVAK” to assist Brahmins created by him in their religious activities like “TAP” and “YGNA”. Kamdhenu cow created those Vaniks by digging earth’s crust with its leg’s hoof. They were called “Gobhuja” or “Gobhva” vaniks and they settled in Gabhu village beside Modhera. Adhalja, Mandaliya, Madhukara, Modh Modi, Teli Modi, Champaneri Modi, Prema Modi all were parts of Modh Vaniks. Among the Modh Vaniks those who settled in right hand of Brahmins were known as “DASHA” and left hand of Brahmins were known as “VISHA” . Those who joined farming were known as Modh Patel.

# Modheswari Mataji.:

According to ancient sayings , in and around the area of Modhera Raxasha called Karnat was creating trouble for Brahmins and disturbing in their worship of god called “YAGNA”. All the Brahimns got together and prayed to the goddess and urged her to free them from the terror of Karnat. On hearing this Goddess got angry and in anger the flames of fire bursted from her mouth, and she transformed herself in the ferocious angry avtar with eighteen hands, each hand holding weapon like Trishul, Sankh, Chakra, Kamandal ect. This avtar of Goddess was called “Matangi” or “Modheshwari”. Angry Goddess “Modheshwari” destroyed the Karnat Raxas and ended his terror. The residents of Modhera accepted Goddess “Modheshwari” as their Kuldevi and started worshiping her.


Medival Era

The era saw the rule of various Rajput & Hindu kings in Modhera and Gujarat. This was the era in which various muslims rulers were establishing in north India. In Vikram Savant 1356 Afzal Khan a general of sultan Alaudin Khilji attacked Gujarat and defeated last Rajput king Karandev Vaghela. The Muslims started ruling Gujarat. They destroyed many temples including Somnath and attacked Modhera to conquer it. The Modh Brahmins were not only educated but also they were brave fighters and also Jayesthimal Brahmins were leading fighters of Gurjareswar army.They closed the gates of the Modhera fort and fought bravely with muslims for about six months. The muslims who conquered Gujarat were about to face defeat by Modhs. The muslims agreed to sign a treaty with them and agreed to leave on receipt of 5000 gold coins.

On the day of Holi the treaty was signed , the doors of Modhera were opened. Muslims did not abide by the treaty and attacked the town , looted and damaged the parts of Sun temple, which can be seen still today. When they attacked the temple the Brahmins immersed the “Modheswari Mata Murty” in the Dharma Vav so that Muslims cannot damage it. The modhs migrated to different parts of Gujarat and now the members of Modh samaj are spread in in different parts of Gujarat like Visnagar, Viramgam, Amdavad,Vadodra, Siddhpur, Bharuch, Ankleshwar, Surat, Valsad and Billimora The resident of Surat are called “Surati Modh Vaniks”

Post Independence Era

The members of Modh samaj continued to visit modhera and worship the Dharma Vav, where the “Modheswari Mata Murty” was immersed. But by the efforts of Modh samaj devotees in Vikram Savant 1962 the construction work of the temple could start again and on Maha Sud 13 day of Vikram Savant 1966 the Pran Pratishtha of “Modheswari Mata Murty” was done.

साभार: suratimodhvanik.com/history.php


    Saturday, February 14, 2015

    Muljibhai Madhvani - मूलजी भाई माधवानी

    Mulji Prabhudas Madhvani (1894–1958), commonly referred to as Muljibhai Madhvani was an Indian-born Ugandan businessman, entrepreneur, industrialist and philanthropist. Born in India, he migrated to Uganda when he was only 14 years old. In 1912, he started his first business in Jinja. He expanded and added to that initial investment and out of those efforts, the conglomerate known as the Madhvani Group was born.

    .Muljibhai Madhvani was born to Prabhudasbhai Madhvani and Laduma Madhvani in Ashiyapat in Ranavav Taluka of Porbandar, India on 18 May 1894. He was born in a Gujarati Lohana vaishya  caste. He studied up to Standard VII, before joining the Lohana Boarding House in Porbander, Gujarat, India. He dropped out shortly after Class 1.

    In 1908, he migrated to Uganda, following his older brother Nanjibhai Madhvani, who had emigrated to the East African country, two years earlier. In 1911, at age of 17, he started working for his uncles, Vithaldas and Kalidas, in a retail business in Iganga. He was able to learn about trade and industry while working in Iganga. Soon, while still only 17 years old, his uncles entrusted him with opening up an affiliated store in Kaliro in modern day Kaliro District.

    The business acumen he exhibited impressed his uncles who later asked him to open up another shop in Jinja, where he started to build his first business, the Vithaldas Haridas & Company, while he was still an employee of his uncles. In 1918, the company bought 800 acres (3.2 km2) of land in Kakira, between Jinja and Iganga, for the purpose of starting a sugar factory. Muljibhai later became the managing director of Vithaldas Haridas & Company. That sugar complex, which is today known as Kakira Sugar Works, opened in 1930. By adding to the original parcel of land, through purchases, the current company land holdings at Kakira, are in excess of 9,500 hectares (37 sq mi), as of April 2009.

    According to the group company profile, the years up to the 1960s were good for Uganda and Madhvani. The commodity market was doing well and the middle class, spawned by Uganda's industrialisation, was growing steadily. By the 1950s, the sugar estate was well established.

    Muljibhai's two elder sons, Jayant Madhvani and Manubhai Madhvani, had joined him in 1946 to assist with the running of the business. It was during that decade that Muljibhai ventured into textiles and beer. Using what was probably the first International Finance Corporation loan to an African country, he set up Mulco Textiles in Jinja. He also acquired Nile Breweries in 1957. The brewery was divested to South African Breweries in 2002.

    As his business prospered, Muljibhai was keen to take care of the well-being and welfare of his employees and the community. His workers and their dependents have enjoyed free education, housing and healthcare, many decades before the term "corporate social responsibility" was even devised.

    Muljibhai Madhvani died on 11 July 1958 in Kakira, where he was cremated. However a mausoleum that was constructed in his memory lies at the lakeside along that of his elder son and heir, Jayant Madhvani. After the death of their father, Jayant and his brother Manubhai, oversaw the group's diversification into oil and soap manufacturing, steel, tea and glass production. Then came the Asian expulsion in 1972 by Idi Amin. By then, the group had grown into a complex of 52 industrial, commercial and agricultural companies, operating in East Africa, Central Africa and Southern Africa.

    In 1972, the Madhvanis who had known no home other than Uganda, left the country penniless, along with thousands of other Ugandan-Asians. However, the family returned in 1982 to repossess their properties under the Expropriated Properties Bill extended by the Obote government to lure Asians back into the country. On return, they found the sugar estate in shambles. Less than 5,000 acres (20 km2) was under cane cultivation and sugar production had long ceased. All the associated industries such as oil and soap were mere shells of their former selves.

    The company was debt-ridden and Uganda was not very creditworthy at the time. But the World Bank gave the group a £50 million loan to rehabilitate the estate. More loans from the East African Development Bank and the Uganda Development Bank helped revive the conglomerate and fuel the acquisition of new assets not in citation given.

    Extended family

    The following are some of the prominent members of the Madhvani Family:

    Muljibhai Madhvani (1894–1958) – Family Patriarch, Founder of Madhvani Group
    Jayant Madhvani ( – 1971) – Muljibhai's firstborn son. Run the conglomerate after death of his father.
    Meena Madhvani – Jayant's widow.
    Nitin Madhvani – Jayant's firstborn son and grandson of Muljibhai
    Amit Madhvani – Jayant's second son and grandson of Muljibhai
    Nimisha Madhvani – Jayant's only daughter. Currently, Uganda's Ambassador to France
    Manubhai Madhvani (1930–2011) – Muljibhai's second son. Ran the conglomerate with his elder brother before elder brother died.
    Surendra Madhvani – Muljibhai's third son.
    Pratap Madhvani – Muljibhai's fourth son.
    Mayur Madhvani – Muljibhai's fifth and youngest son. Current managing director of the Madhvani Group
    Mumtaz Mayur's wife and erstwhile Bollywood actress.

    Kishore Biyani - किशोर बियानी

    .

    .
    Kishore Biyani is an Indian businessman. He is chief executive officer (CEO) of Future Group.Biyani raised $170 million by taking venture capital arm Future Ventures public in March 2011. Biyani is married to Sangita Biyani and they have 2 children and are based in Mumbai. His elder daughter Ashni is a director of Future Ideas, group's innovation and incubation cell.

    .
    Kishore is the co-author, with Dipayan Baishya, of the book It happened in India: the Story of Pantaloons, Big Bazaar, Central and the Great Indian Consumer. The book has sold some 100,000 copies, more than any other business book published in India so far.

    Friday, February 6, 2015

    लखेरा पटवा वैश्य जाति का इतिहास

    सृष्टि के रचयि‍ता परमपि‍ता परमेश्वर ने शेषशय्या पर अपनी नाभि से जल के ऊपर कमल के पुष्पो को पैदा कि‍या। पुष्प में से तीन देव सतो गुण वाले वि‍ष्णु, रजो गुण वाले ब्रह्मा तथा तमोगुण वाले शंकर प्रकट हुए। सृष्टि का रचयि‍ता ब्रह्मा को माना है। ब्रह्मा के प्रथम पुत्र मनु है। मनु के तीन पुत्रि‍यां व दो पुत्र प्रि‍यव्रत और उत्तानपाद हुए। ब्रह्मा के दूसरे पुत्र मरीचि हुए। मरीचि के पुत्र कश्यप के तेरह रानि‍यां थी। इनमें से एक रानी के 88 हजार ऋषि हुए, इनमें से गौतम ऋषि से गहलोद वंश की उत्पत्ति मानी गई तथा दधीचि ऋषि से दाहि‍मा वंश की उत्पत्ति हुई। कश्यप की दूसरी रानी के सूर्य हुए। सूर्य से सूर्य वंश की उत्पत्ति हुई। सूर्य से दस गौत्र बने। ब्रह्मा के तीसरे पुत्र अत्रेय ऋषि थे, इनके तीन पुत्र हुए 1. दत्तात्रेय 2. चन्द्रमा 3. भृगु। दत्तात्रेय से दस गौत्र बने जो ऋषि वंश कहलाते है तथा चन्द्रमा से भी दस गौत्र बने जो चन्द्रवंशी कहलाते है। ब्रह्माजी के चौथे पु्त्र वशि‍ष्ठजी ने अग्निकुण्ड बनाकर उसमें से अग्नि‍देव को प्रकट कर चार पुत्र पैदा किए, उनसे अग्नि वंश बना। इनके भी चार गौत्र बने जि‍नकी कई शाखाएं है।

    कश्यप की तेरह रानि‍यों में से ही एक के नाग वंश भी बने लेकिन राजा परीक्षित के भय से नागवंशी अपने नाम को त्यागकर अन्य नाम से बस गए। इस प्रकार मानव जाति में कुल चार वंश व छत्तीक गौत्र माने गए है। ऋषि महर्षि‍यों ने कर्म की तुलना करके जाति बनाई है। बीस कर्म करने वाले को ब्राह्मण कहा जाने लगा। छ: कर्म करने वाले को क्षत्रिय माना गया। सेवा रूपी कार्य करने वाले को शूद्र माना गया। इस प्रकार चार वर्ण बने। ब्राह्मण एक होते हुए भी इनमे छन्यात है और इनमें भी कर्म के अनुसार 84 तरह के ब्राह्मण है। क्षत्रिय वंश में कई काम करने से कर्म जाति के अनुसार क्षत्रिय से छत्तीस जाति‍यां बन गई तथा इनमें भी कई उपजाति‍यां बन गई। आपकी जाति क्षत्रिय वंश से है। लेकिन लाक्ष कार्य करने से आपको लक्षकार, लखेरा या लखारा कहा जाने लगा। पांच हजार पीढि‍यों से आपका यही नाम है। द्वापर में लाक्ष का कार्य करने वाले को लाक्षाकार कहते थे।

    लक्षकार जाति की मूल उत्पत्ति राजस्थान से ही है। राजस्थान से लक्षकार बन्धु दूसरे प्रान्तों में जाकर अपनी जाति का नाम व गौत्र भी भूल गए है। लाख के कार्य को छोडकर दूसरा काम करने से अपनी जाति का नाम ही बदल दि‍या है। राजस्थान से बाहर के प्रान्तों में गए हुए लक्षकार यजमानों के यहां हम जाते है। जो क्षत्रिय वंश से लाख का कार्य करने वाले हि‍न्दू है जि‍नका गौत्र छत्तीस गौत्र व 52 खांप में मि‍लता है, वहीं हमारे यजमान व आपके स्वजातीय बंधु है। इस समय राजस्थान में दस रावजी है जो आपके समान पीढि‍यों की लि‍खापढी करते है।

    दस सूर्य दस चन्द्रमा, द्वादस ऋषि प्रमाण।

    चार अग्नि वंश पैदा भया, गौत्र छत्ती्सो जाण।।

    श्री लक्षकार समाज की उत्पत्ति का संक्षि‍प्त इति‍हास (2)

    त्रेता युग में शैलागढ नाम का एक नगर था। वहां पर पर्वतों के राजा हि‍मांचल राज्य करते थे। उनके पार्वती नाम की एक कन्या का जन्म हुआ। कन्या बडी सुशील, रूपवान और गुणवान थी। साक्षात शक्ति ने ही आकर हि‍माचल के घर जन्म लि‍या। इनकी माता का नाम मेनका था। समय बीतने पर पि‍ता हि‍मांचल को पार्वती के वि‍वाह की चि‍न्ता हुई। वर की खोज के लिए सारे दूतों को चारों तरफ भेजा लेकिन उन्हें कोई उचित वर नही मि‍ला, योग्य वर नही मि‍लने पर राजा हि‍मांचल को और भी चिंता सताने लगी और वे उदास रहने लगे। इसी समय देवर्षि नारद भ्रमण करते शैलागढ जा पहुंचे। राजा हि‍मांचल को मालूम होते ही वे सेवकों सहित नारद के पास जा पहुंचे और महल में पधारने के लिए राजा से स्वयं नारदजी से नि‍वेदन कि‍या। नारदजी के महलों में पहुंचने पर पार्वती व माता मेनका ने देवर्षि को प्रणाम कि‍या। नारदजी ने पर्वतराज के चेहरे पर उदासी का कारण पूछा तो पर्वतराज ने पार्वती के लिए योग्य वर न मि‍लने की व्यथा प्रकट की। उसी समय पार्वती को बुलाकर नारदजी ने समाधि लगाई और पार्वती की हस्तरेखा देखी।

    हस्तरेखा देखकर नारदजी ने महाराज हि‍मांचल को सांत्वना देकर कहा कि आपको चि‍न्ता करने की कोई आवश्य‍कता नही, पार्वती के योग्य वर कैलाश पर्वत पर रहने वाले पार्वती के जन्म जन्मांतर के पति शंकर भगवान होंगे। यह कहकर नारदजी अंतर्ध्यान हो गए। पार्वती ने शंकर भगवान की वररूप में प्राप्ति के लिए कई वर्षो तक कठोर तपस्या की। राजा हि‍मांचल ने दूतों के साथ कैलाश पर्वत पर शंकर भगवान के पास पार्वती के साथ वि‍वाह करने का सन्देश भेजा। शंकर भगवान ने सोच समझकर हि‍मांचल को प्रस्ताव मान लि‍या व कैलाश पर्वत पर वि‍वाह की तैयारि‍यां की जाने लगी। इधर शैलागढ मे भी बडे जोर शोर से वि‍वाह की तैयारि‍यां होने लगी। शंकर के वि‍वाह की बारात कैलाश पर्वत से चल पडी। बारात से सभी देवताओं सहित स्वयं ब्रह्म व विष्णु भी अपने वाहनों पर आरूढ होकर शैलागढ की ओर चल नि‍कले। शंकर की बारात में उनके गण, ताल बेताल, भूत प्रेत चल रहे थे। स्वयं शंकर भी नंदीश्वरर पर आरूढ होकर बडा ही वि‍कराल रूप बनाकर बडी मस्त चाल से चल रहे थे।

    बारात के शैलगढ में पहुंचने पर नगरवासी बारात देखने उमड पडे, लेकिन शंकर की डरावनी बारात देखकर नगरवासी भयभीत हो गए, कई तो वहीं गिर पडे एवं कई भाग भाग कर अपने घरों में घुस गए। यह चर्चा जब राजमहलों में पहुंची तो पार्वती ने शुद्ध मन से भगवान शंकर को यह रूप छोडकर मोहि‍नी रूप धारण करने की प्रार्थना की। शंकर ने पार्वती की प्रार्थना सुनकर मोहि‍नी रूप धारण कि‍या। स्वयं ब्रह्मा ने शंकर और पार्वती का वि‍वाह सम्पन्न कराया। तब पार्वती ने शंकर को जन्म जन्मांतर का पति मानकर शंकर से अमर सुहाग की याचना की। शंकर ने तत्कात बड और पीपल से लाक्ष प्रकट कर दी। ब्रह्म के पुत्र गौतमादिक रखेश्वर से गहलोत नामक क्षत्रिय वंश की उत्पत्ति हुई। इसी गहलोत वंश के क्षत्रिय राजा राहूशाह के पुत्र महादर गहलोत थे जो भगवान शंकर के बडे भक्त थे। भगवान शंकर ने महादर गहलोत को अपने पास बुलाया और अपने अस्त्र शस्त्र त्यागकर घरेलू व्यवसाय करने की आज्ञा दी। महादर गहलोत ने आज्ञा शि‍रोधार्य करके हाट लगाकर सर्वप्रथम लाख की चूडी बनाकर माता पार्वती को पहनाई। इस प्रकार लाख की चूडी बनाने का कार्य महादर गहलोत ने सर्वप्रथम कि‍या। हाट लगाने से गहलोत गौत्र को हाटडि‍या भी कहते है।

    लाख के व्यवसाय करने वालों की वंश बढोतरी के लिए भगवान शंकर की आज्ञा से महादर गहलोत (हाटडि‍या) ने छत्तीस कुलधारी क्षत्रि‍यों को सामूहिक भोज में आमंत्रित कि‍या। जिन जिन क्षत्रि‍यों ने शस्त्रों को त्यागकर एक साथ बैठकर भोजन कि‍या वे सब लखपति कहलाए बाकी क्षत्रिय रहे। इस प्रकार लक्षकार समाज की उत्पत्ति हुई। लाख का कार्य करने वाले लक्षकार, लखेरा, लखारा व लखपति आदि कहलाए। इस प्रकार त्रेता युग में ही हमारे समाज की उत्पत्ति हो गई थी तथा इसकी उत्पत्ति भी भगवान शंकर के द्वारा तथा क्षत्रिय कुल से हुई है। इससे हमारा कर्तव्य हो जाता है कि हमारे समाज को हम ऊपर उठाए इसको रसातल में ले जाने का दुस्साहस ने करे। कवि ने कहा है कि-

    उत्तम जात रचि वि‍धि ने, नाथ कृपा करि कीन्हा लखेरा।

    भोजन पान करे न काहु के, मांगत दाम उधार ने केरा।।

    जो त्रि‍या पति संग न जावत, आवत हाथ कहा मन मेरा।

    सूर्य चंद्र और अग्नित‍वंश, इन तीनों वंश से भया लखेरा .

    साभार :   R.P.GUPTA ( DEOVANSHI PATWA VAISHYA )

    Tuesday, February 3, 2015

    ट्रेडिशनल पर स्मार्ट बनिए......(TRADITIONAL BUT SMART BANIYA (VAISHYA)

    देश को सबसे बड़ा बिजनेस ग्रुप देनेवाले धीरूभाई अंबानी के जीवन से प्रेरित फिल्म 'गुरु' में जब अभिषेक बच्चन कहते हैं, ' बनिया हूं साब, सब कुछ बहुत सोच-समझ कर खर्च करता हूं... आपने 5 मिनट का वक्त दिया और मैंने साढ़े चार मिनट में सब खत्म कर दिया यानी 30 सेकंड का मुनाफा...' तो कोई भी समझ सकता है कि बात वैश्य यानी बनिया समुदाय की हो रही है। सॉफ्ट नेचर  और कंजूस... यही पहचान होती थी वैश्यों की, पर अब तस्वीर बदल रही है। तकनीक का सहारा लेकर वे अपने पुश्तैनी कारोबार को सारी दुनिया में दूर-दूर तक फैला रहे हैं, तो मल्टिनैशनल कंपनियों में भी पैठ बना रहे हैं। भारत के बड़े राजवंश इसी समुदाय से थे,  चन्द्रगुप्त मौर्य, अशोक, चन्द्रगुप्त विक्रमादित्य, समुद्रगुप्त, हर्षवर्धन, हेमू विक्रमादित्य आदि. 

    अपने देश में 20 करोड़ के करीब वैश्य होंगे। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी भी इसी कम्युनिटी से थे। वैदिक काल में भी वैश्य समुदाय की बात कही गई है। उसमें ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र का जिक्र है। वैश्य का मतलब था कारोबार करनेवाला। कहा जाता है कि आज से करीब पांच हजार से ज्यादा साल पहले मौजूदा हिसार के अग्रोहा में महाराजा अग्रसेन ने बड़ा बदलाव किया। अखिल भारतीय अग्रवाल वैश्य सम्मेलन के अध्यक्ष रामदास अग्रवाल ने बताया कि वह क्षत्रिय थे लेकिन बाद में वैश्य कम्युनिटी में आए और उन्होंने ही वैश्यों में अग्रणी अग्रवाल की शुरुआत की। उनके 18 बेटों के गुरूओं के नाम पर अग्रवाल के 18 गौत्र रखे गए। इसके बाद अग्रवालों में 18 गौत्र शामिल हो गए। इन गौत्र वाले ही अपने नाम के पीछे अग्रवाल लगा सकते हैं। अग्रवाल वैश्य में सबसे बड़ी जाति हैं. करीब ४ करोड़ अग्रवाल हैं. इसके बाद वैश्यों के 366 और जातिया आयी। इनमें माहेश्वरी, खंडेलवाल और औसवाल से लेकर अभी तक का अंतिम 367वि जाति तोंडलीकर जैसे घटक शामिल हुए।

    कॉमन अजेंडा

    माना जाता है कि वैश्य लोग थोड़े सॉफ्ट, और सहनशील होते हैं। काफी हद तक यह सच भी है क्योंकि ये लोग किसी से फालतू उलझने में विश्वास नहीं रखते और चुपचाप शांति से अपने काम में लगे रहते हैं। कारोबार पर फोकस करना और हिसाब-किताब में महारथ रखने के लिए मैथ्स पर ये खास तवज्जो देते हैं। हिसाब-किताब तो इतना मजबूत होता है कि मुंहजुबानी हिसाब रखा जा सके। जहां तक पैसे को खर्च करने की बात तो माना जाता है कि ये लोग एक कौड़ी भी बेकार खर्च नहीं करते और पाई-पाई वसूलते हैं। शायद यही वजह है कि करोड़ों की कोठियों में रहनेवाले कई वैश्य परिवारों की महिलाएं आज भी सब्जी खरीदते वक्त जबरदस्त मोलभाव करते नजर आ जाएंगी। यह उस परंपरा का नतीजा है, जिसमें वैश्य परिवार में बच्चे को बचपन से ही सिखाया जाता है कि पैसा कितनी मुश्किल से कमाया जाता है और एक-एक रुपये को कैसे संजोकर रखा जाता है। उन्हें बताया जाता है कि बनिए का एक मतलब यह भी होता है कि बनिए, बिगड़िए मत। यानी वही काम करो, जिसकी बुरी लत न लगे और पैसा बर्बाद न हो। लेकिन समाज हितों के कामों में ये खूब खर्च करते नजर आते हैं। बड़े-बड़े अस्पताल, कॉलेज, स्कूल, धर्मशाला, मंदिर  आदि बनवाने में वैश्य समाज सबसे आगे रहता हैं और  रहा है। आप भारत के किसी भी नगर, कसबे, व तीर्थस्थान पर जाओगे वंहा पर ८० प्रतिशत से ज्यादा धार्मिक, व सामाजिक कार्य वैश्य समाज के द्वारा ही किया मिलेगा. अपने अलावा दूसरे धर्म, जाति और समुदाय के लोगों की भी मदद करने में ये पीछे नहीं रहते। फिर चाहे गरीब कन्याओं की शादियां हों या रामलीला जैसे बड़े धार्मिक आयोजन कराना।

    पुश्तैनी धंधे ने बांधे हाथ

    पहले वैश्य समाज बच्चों की पढ़ाई पर जोर नहीं देता था क्योंकि उनका मानना था कि कौन-सी नौकरी करनी है? घर का कारोबार ही संभालना है। इसका नुकसान यह रहा है कि आगे बढ़ने का रास्ता तंग हो गया। अब इससे बाहर निकलकर वैश्य कम्युनिटी के लोग आईटी, मेडिकल, फाइनैंस से लेकर एमएनसी तक में अपनी पहचान बना रहे हैं। जो लोग खानदानी कारोबार से जुड़े रहना चाहते हैं, वे भी पहले पूरी तालीम हासिल कर रहे हैं ताकि पढ़-लिखकर अपने कारोबार को नई ऊंचाइयों तक पहुंचा सकें।

    दुल्हा बिकता था!

    एक वक्त था, जब वैश्य कम्युनिटी में लड़के की शादी की जाती थी तो अपने स्टेटस के हिसाब से लड़की वालों को ढूंढा जाता था। दहेज के रूप में मोटा पैसा लेकर ही रिश्ता होता था। कुंडली मिलाना भी बहुत अहम होता था। साथ ही, ये लोग अपनी ही कम्युनिटी में शादी करने पर जोर देते रहे हैं। लेकिन अब यह क्राइटेरिया बदल रहा है और दहेज के लालच में न पड़कर वैश्य कम्युनिटी के बहुत-से लोग लड़का-लड़की की खुशी को ज्यादा तवज्जो देने लगे हैं। अब अपने समाज से बाहर निकलकर ही नहीं, बल्कि दूसरे धर्मों तक में भी शादियां की जा रही हैं। हालांकि ऐसे लोगों की संख्या अभी बेहद कम है और पुराने ढर्रे पर चलने वालों की ज्यादा।

    जियो शान से

    नई पीढ़ी फैमिली बिजनेस में ज्यादा दिलचस्पी नहीं रखती। वह या तो मोटी तनख्वाह वाली नौकरी चाहती है या फिर नए तरह का कारोबार।  अब वैश्य कम्युनिटी दिल खोलकर खर्च करने, बल्कि शो-ऑफ करने में पीछे नहीं है। खासतौर से शादी, पार्टी करने और घर बनाने में। खर्चीली शादियों में वैश्य कम्युनिटी अव्वल रहता है। अखिल भारतीय अग्रवाल संगठन के अध्यक्ष सुशील गुप्ता बताते हैं कि पैदल और साइकिल पर चलने वाले वैश्य लोग आज बीएमडब्ल्यू, मर्सडीज और ऑडी जैसी सुपर लग्जरी कारों में चलने लगे हैं। घर बनाने में शानो-शौकत दिखाते है और ब्रैंडेड कपड़े पहनने का चलन बढ़ रहा है। महंगे रेस्तरां और होटल में जाना ये अपना स्टेटस सिंबल मानने लगे हैं। जिम जाकर अपने आपको फिट रखते हैं। अब इस समाज के लिए शो-ऑफ की लत बड़ी समस्या बन गई है।

    समस्या भी

    आमतौर पर वैश्य कम्युनिटी को पैसेवाला (हालांकि सब पैसे वाले नहीं हैं) माना जाता है। इस वजह से देश की जीडीपी में अहम योगदान देने वाला यह वर्ग तरह-तरह से परेशान होता है। यह कम्युनिटी फिरौती और रंगदारी की समस्या को सबसे ज्यादा झेलती है। एक जमाना था, जब वैश्य समुदाय के लोग अपने बच्चों के नाम के पीछे गौत्र (अग्रवाल, गुप्ता आदि) लिखने से बचते थे ताकि बदमाशों की निगाह से बच सकें। अब कुछ लोग जरूर अपने गौत्र हाईलाइट करने लगे हैं, मगर वैश्य कम्युनिटी पर हो रहे क्राइम की यह समस्या आज भी बरकरार है, बल्कि बढ़ गई है।

    ग्लोबल सिटिजन

    देश का शायद ही कोई कोना होगा, जहां वैश्य कम्युनिटी के लोग न रहते हों। इस कम्युनिटी के बारे में एक पुरानी कहावत है कि जिस गांव में दो-चार बनियों के घर होते हैं, उसे संभ्रात और अच्छा माना जाता है। यानी उस गांव में बदतमीजी और अपराध का बहुत ज्यादा बोलबाला नहीं होगा। अब गांव-देहात से निकल ये लोग देश के बड़े-बड़े शहरों, अमेरिका, इंग्लैंड, हॉन्गकॉन्ग, थाइलैंड, जापान, न्यूजीलैंड, ऑस्ट्रेलिया सहित दुनिया के ऐसे तमाम मुल्कों में सेटल होने लगे हैं, जहां अच्छी जॉब्स और बिजनेस के मौके हों।हर तरफ इनका बोलबाला हैं.  बिजनेस में आज भी ये लोग छाये हुए हैं. किसी भी तरह का थोक व्यापार हो, मंडिया हो, शेयर बाज़ार, कोमोडिटी, उद्योग धंधे, करीब ८० से ९० प्रतिशत तक इनका कब्जा  है, फिर चाहे आयरन किंग के नाम से फेमस लक्ष्मी मित्तल हों, मुकेश अम्बानी, अनिल अम्बानी, या देश के टॉप मीडिया हाउस या दूसरी इंडस्ट्रीज़ के मालिक। अब ओ देश का प्रधानमन्त्री भी वैश्य हैं, जी हाँ माननीय श्री नरेन्द्र मोदी जी साहू तैल्लिक वैश्य समुदाय से सम्बंधित हैं. श्री अमित शाह भी जैन वैश्य हैं. श्री अरविन्द केजरीवाल जी भी वैश्य हैं. 
    साभार: नवभारत टाइम्स