Pages

वैश्य जातियों के गोत्र, कुलदेवी, देवता

12 comments:

  1. मै एक मधेशिय वैश्य हूं । और मेरी कुल देवी फूलमती मरुका (दुर्गा जी का एक स्वरूप ) जी हैं। मुझे ज्ञात है कि मेरे कुल के आदी पुरुष गणी नाथ बाबा जी हैं ।क्या सभी मधेसी समाज के यही कुलदेवी है या अन्य भी ?

    ReplyDelete
  2. बिंदलिश गोत्र की विस्तृत जानकारी प्रदान करने की कृपा करें...आदरणीय शेख तैय्यब उर्फ मेदिनीमल जी सम्राट अकबर के प्रशासनिक विभाग में कानूनगो के पद पर थे और तीसरे नम्बर के अधिकारी थे कैथल में उनके नाम से एक मजार भी है तथा न्यू ट्रांसपोर्ट नगर कैथल में सतिदादी मन्दिर भी है ...धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. बिंदलिश गोत्र की विस्तृत जानकारी प्रदान करने की कृपा करें...आदरणीय शेख तैय्यब उर्फ मेदिनीमल जी सम्राट अकबर के प्रशासनिक विभाग में कानूनगो के पद पर थे और तीसरे नम्बर के अधिकारी थे कैथल में उनके नाम से एक मजार भी है तथा न्यू ट्रांसपोर्ट नगर कैथल में सतिदादी मन्दिर भी है ...धन्यवाद

    ReplyDelete
  4. हम भडभुज है हमारी कुलदेवी कौन है ?

    ReplyDelete
  5. Jaiswal surname walo ka गोत्र क्या हैं और उनकी कुलदेवी और देवता का नाम बताएं

    ReplyDelete
    Replies
    1. This comment has been removed by the author.

      Delete
    2. Agar Aap Kalwar jaiswal hai To
      Kul Devi And Devta
      1 Phoolmati
      2 Chausathi
      3 Hanuman Ji
      4 Saudhir Maharaj
      5 Bhairav Nath
      6 Obba ( Shitla Mata)

      Delete
    3. Amit jaiswal ji main GUPTA hu mere kul K Devi Budhiya my aur Chausathi hai aur kul Devta Saudhir Maharaj hain Likin main GUPTA hu kalwar nahi hu mujhe JAISWAL aur MAHESWARI K Kul Devi aur Devta k bare main jankari de aap

      Delete
  6. Bindlish is nothing but Bindal and one of the gotras in agrawal- they are from aggarsen maharajas vansaj.

    ReplyDelete
  7. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  8. Kesharwani sarname walo ka gotra kya hai aur wah kiske wanshaj h

    ReplyDelete
  9. MERA SIR NAME BARANWAL HAI MERA GOTRA KYA HAI

    ReplyDelete

हमारा वैश्य समाज के पाठक और टिप्पणीकार के रुप में आपका स्वागत है! आपके सुझावों से हमें प्रोत्साहन मिलता है कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का प्रयॊग न करें।