Friday, June 22, 2012

चोरसिया वैश्य समुदाय का इतिहास(CHOURASIA)

चौरसिया प्राचीन भारतीय वेदों से उत्पन्न शब्द है जो मूलतः एक वैदिक शब्द 'chaturashiitah' जो sansakrita में चौरासी उल्लेख से भारत, चौरसिया शब्द संभालते में एक ब्राह्मण समुदाय संदर्भित करता है. प्राचीन भारत के बाद से, यह हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार माना जाता है वहाँ चौरासी Yonis इस ब्रह्मांड में मौजूदा देवताओं के हजारों (नस्लों, प्रकार) हैं. हर प्रजाति है जो पृथ्वी पर मौजूद किसी खास योनि के हैं. बाद में मंच पर और आसान उच्चारण यह चौरसिया '(एक हिंदी बराबर भी चौरासी संदर्भित करता है) के रूप में बदल के लिए

इस शब्द राज्यों के जन्म कि एक बार सभी देव Gans (Devtas, परमेश्वर) नामक जगह पर धरती पर इकट्ठा पीछे एक प्रसिद्ध कहानी के लिए कुछ शुभ रस्म है, और जब वे वापस करने के लिए 'Bakunthya धाम' (स्वर्ग आ रहे थे 'Naumi Sharayan' ) वे सब महसूस कारण पृथ्वी पर अत्यधिक गर्मी जब एक विशेष समुदाय आगे आए और उन्हें Beatle छोड़ देता है. उनके आतिथ्य से प्रभावित की सेवा करके अपनी प्यास quenched को प्यासा, Devtas उन्हें न केवल धन्य बल्कि उन्हें शीर्षक chaturashiitah यानी उपहार देने के द्वारा सम्मानित शुरू कर दिया ' चौरसिया '. के अनुसार Baudhâyanas'rauta-सूत्र है Kashyapa के हैं चौरसिया, कुछ का मानना है कि वे [भार m ाज] के हैं, तो वहाँ Gotras के बारे में कई मान्यताओं रहे हैं.

इस समुदाय के लोगों को हाल के दिनों में व्यवसायों की एक किस्म में काम कर रहे हैं (कुछ भी खुद के रूप में 'वैश्य' यानी व्यापारियों संदर्भित करता है) और उनकी धार्मिक परंपराओं और संस्कृति दैनिक जीवन में एक कारक के कम होते जा रहे हैं.

CHOURASIA का इतिहास

पौराणिक कथाओं के अनुसार, मोहिनी विभिन्न देवताओं के बीच Amrut (अमृत) वितरित की. Amrut के शेष के साथ कलश है इन्द्र हाथी «Nagraja» के पास रखा गया था. कलश के अंदर बढ़ते एक अजीब जीव संयंत्र था और देवताओं उन्मादपूर्ण हो गया. विष्णु Dhanvantari करने का आदेश दिया संयंत्र की जांच. वह इस प्रकार अपने उत्तेजक गुणवत्ता की खोज की. तब से, विष्णु को इसकी पत्तियों प्यार और स्नेह का एक संकेत के रूप में, की पेशकश करना शुरू किया. के बाद से, यह कहा जाता है कि पान trine पैदा हुआ था. यह करने के लिए ब्रह्मा, विष्णु, महेश, ट्रिनिटी के साथ जुड़े होने लगे. सुपारी ब्रह्मा, Tambool (पान) विष्णु और महेश पत्ती के लिए चूने के लिए जिम्मेदार ठहराया गया था. एक अन्य कथा के अनुसार, हस्तिनापुर पर 'पांडवों जीत के बाद, वे Tambool के लिए एक उत्कट इच्छा है शुरू किया. एक दूत तत्काल साँपों की रानी के भूमिगत निवास करने के लिए भेजा गया था. रानी, केवल भी खुश उपकृत करने के लिए उसकी छोटी उंगली का चरम अऋगुली की पोर में कटौती और पांडवों के लिए भेजा. अऋगुली की पोर महान समारोह के साथ लगाया गया था और जल्द ही पान संयंत्र अऋगुली की पोर से बाहर हो गया. लता है तब से «Nagveli» के रूप में साँप संयंत्र के लिए भेजा. पत्तियों का समारोह इस मूल और इस अवसर पर साँप की Barais प्रस्ताव भगवान से प्रार्थना स्मारक है.

GOTRAS और उप डाले

* Kashyapa


* भारद्वाज


* शांडिल्य


* ऋषि


* ब्रह्मचारी


* Gaurhar


* चौरसिया


* Barai


* Tamoli


* भगत


* Chaurishi


* चौधरी

उप डाले

निम्नलिखित क्षेत्रीय वरीयताएँ द्वारा चौरसिया उपनाम के पर्यायवाची शब्द हैं:


* चौरसिया (Belarampur, पट्टी, प्रतापगढ़) (उप्र)


* चौरसिया (भारत भर में)


* Chourasia (उत्तर पूर्व भारत के कुछ भाग)


Chaurishi * (उत्तर भारत के पार्ट्स)


जायसवाल (उत्तर भारत) *


भारद्वाज * (भारत भर में)


* कश्यप (उत्तर भारत)


* नाग (उत्तर / पूर्वी भारत)


* भगत (उत्तर / पूर्व भारत)


* Barai (पश्चिम बिहार / पूर्वी उत्तर प्रदेश)


* Tamoli (पश्चिम बिहार / पूर्वी उत्तर प्रदेश)


* ऋषि (मध्य भारत)


* ब्रह्मचारी (उत्तर भारत)


* Gaurhar (उत्तर भारत)


* मोदी (उत्तर भारत)


* राउत (बिहार मधुबनी)


* चौधरी (हाजीपुर बिहार)


* मुंशी (धनबाद झारखंड)

साभार : चोरसिया संघ महा कौसल

8 comments:

  1. नागवंश का जिक्र भी हम कई प्राचीन अभिलेखों और किताबों में पढ़ चुके हैं। आईये इस पोस्ट के माध्यम से
    हिंदू धर्म के दो भाग माने जाते हैं:– पहला वेद और दूसरा पुराण। नाग पूजा का प्रचलन पुराण पर आधारित है। माना जाता है कि मूलत: शैव, शाक्त, नाथ और नाग पंथियों में ही नागों की पूजा का प्रचलन था। वैष्णव आर्य तो परमशक्ति ब्रह्म (ईश्वर) के अलावा प्रकृति के पांच तत्वों की स्तुति करते थे। पुराणों में जो कुछ भी है उनमें आर्य और द्रविड़ दोनों की ही संस्कृति, वंश परंपरा और धर्म का इतिहास है। इसी कारण पुराण विरोधाभासी लगते हैं।

    भारत में आर्य, द्रविड़, दासों के साथ ही नागवंशी समाज का प्रचलन प्राचीनकाल से ही रहा है। मूलत: दो ही जातियां थीं- आर्य और द्रविड़। इन्हीं में से दास और नाग वंशियों की उत्पत्ति मानी जाती है। उक्त चारों की संस्कृति, परम्पराएं और रीति-रिवाज अलग-अलग माने जाते थे लेकिन आज सब कुछ घालमेल हो चला है। फिर भी यह अभी शोध का विषय बना हुआ है।

    नाग से संबंधित कई बातें आज भारतीय संस्कृति, धर्म और परम्परा का हिस्सा बन गई हैं, जैसे नाग देवता, नागलोक, नागराजा-नागरानी, नाग मंदिर, नागवंश, नाग कथा, नाग पूजा, नागोत्सव, नाग नृत्य-नाटय, नाग मंत्र, नाग व्रत और अब नाग कॉमिक्स।

    नाग और नागवंश : जिस तरह सूर्यवंशी, चंद्रवंशी और अग्निवंशी माने गए हैं उसी तरह *नागवंशियों की भी प्राचीन परंपरा रही है। लेकिन भारत के धार्मिक और सामाजिक इतिहास को सर्वसम्मत बनाकर कभी भी क्रमबद्ध रूप से नहीं लिखा गया इसीलिए विरोधाभास ही अधिक नजर आता है।

    महाभारत काल में पूरे भारत वर्ष में नागवंशीयो के समूह फैले हुए थे। विशेष तौर पर कैलाश पर्वत से सटे हुए इलाकों से असम, मणिपुर, नागालैंड तक इनका प्रभुत्व था। ये लोग सर्प पूजक होने के कारण नागवंशी कहलाए। कुछ विद्वान मानते हैं कि नागवंशी हिमालय के उस पार की थी। अब तक तिब्बती भी अपनी भाषा को ‘नागभाषा’ कहते हैं।

    एक सिद्धांत अनुसार ये मूलत: कश्मीर के थे। कश्मीर का ‘अनंतनाग’ इलाका इनका गढ़ माना जाता था। कांगड़ा, कुल्लू व कश्मीर सहित अन्य पहाड़ी इलाकों में नाग ब्राह्मणों की एक जाति आज भी मौजूद है।

    नाग वंशावलियों में ‘शेष नाग’ को नागों का प्रथम राजा माना जाता है। शेष नाग को ही ‘अनंत’ नाम से भी जाना जाता है। इसी तरह आगे चलकर शेष के बाद वासुकी हुए फिर तक्षक और पिंगला।

    वासुकी का कैलाश पर्वत के पास ही राज्य था और मान्यता है कि तक्षक ने ही तक्षकशिला (तक्षशिला) बसाकर अपने नाम से ‘तक्षक’ कुल चलाया था। उक्त तीनों की गाथाएं पुराणों में पाई जाती हैं।

    उनके बाद ही कर्कोटक, ऐरावत, धृतराष्ट्र, अनत, अहि, मनिभद्र, अलापत्र, कम्बल, अंशतर, धनंजय, कालिया, सौंफू, दौद्धिया, काली, तखतू, धूमल, फाहल, काना इत्यादी नाम से नागों के वंश हुआ करते थे। भारत के भिन्न-भिन्न इलाकों में इनका राज्य था।

    नाग कुल की भूमि : यह सभी नाग को पूजने वाले नागकुल थे इसीलिए उन्होंने नागों की प्रजातियों पर अपने कुल का नाम रखा। जैसे तक्षक नाग के नाम पर एक व्यक्ति जिसने अपना ‘तक्षक’ कुल चलाया। उक्त व्यक्ति का नाम भी तक्षक था जिसने राजा परीक्षित की हत्या कर दी थी। बाद में परीक्षित के पुत्र जन्मजेय ने तक्षक से बदला लिया था।

    ‘नागा आदिवासी’ का संबंध भी नागवंशीयो से ही माना गया है। छत्तीसगढ़ के बस्तर में भी नाग वंश तथा कवर्धा के फणि-नाग वंशियों का उल्लेख मिलता है। पुराणों में मध्यप्रदेश के विदिशा पर शासन करने वाले नागवंशीय राजाओं में शेष, भोगिन, सदाचंद्र, धनधर्मा, भूतनंदि, शिशुनंदि या यशनंदि आदि का उल्लेख मिलता है।

    पुराणों अनुसार एक समय ऐसा था जबकि नागवंशी समुदाय पूरे भारत (पाक-बांग्लादेश सहित) के शासक थे। उस दौरान उन्होंने भारत के बाहर भी कई स्थानों पर अपनी विजय पताकाएं फहराई थीं। तक्षक, तनक और तुश्त नागवंशी के राजवंशों की लम्बी परंपरा रही है।

    शहर और गांव : नागवंशियों ने भारत के कई हिस्सों पर राज किया था। इसी कारण भारत के कई शहर और गांव ‘नाग’ शब्द पर आधारित हैं। मान्यता है कि महाराष्ट्र का नागपुर शहर सर्वप्रथम नागवंशियों ने ही बसाया था। वहां की नदी का नाम नाग नदी भी नागवंशियों के कारण ही पड़ा। नागपुर के पास ही प्राचीन नागरधन नामक एक महत्वपूर्ण प्रागैतिहासिक नगर है। महार जाति के आधार पर ही महाराष्ट्र से महाराष्ट्र हो गया। महार जाति भी नागवंशियों की ही एक जाति थी।

    इसके अलावा हिंदीभाषी राज्यों में ‘नागदाह’ नामक कई शहर और गांव मिल जाएंगे। उक्त स्थान से भी नागों के संबंध में कई किंवदंतियां जुड़ी हुई हैं। नगा या नागालैंड को क्यों नहीं नागों या नागवंशियों की भूमि माना जा सकता है।

    - नागवंशी नव निर्माण सेन

    ReplyDelete
  2. चौरसिया ना वैश्य है ना आर्य है, हम बैकवर्ड है और इस देश का मूलनिवासी है ।
    हम नागदेव को पूजने वाले नागवंशी है, हमारा इतिहास जाने.... पिछड़ो के पुरोधा - बैरिस्टर शिवदयाल सिंह चौरसिया (पूर्व राज्यसभा सांसद व वरिष्ठ सदस्य, काका कालेकर आयोग) को पढे ।।।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. भाई ये बैकवर्ड का जिक्र किस वेद या पुराण में है । मंडल पुराण में हाहा ।
      हम नाग वंश के है जैसे सूर्यवंशी चंद्रवंशी अग्निवंशी यदुवंशी । पर नागवंश में कोई नागवंशी ब्राह्मण है कोई राजपूत कोई वैश्य ।

      Delete
  3. चौरसिया ना वैश्य है ना आर्य है, हम बैकवर्ड है और इस देश का मूलनिवासी है ।
    हम नागदेव को पूजने वाले नागवंशी है, हमारा इतिहास जाने.... पिछड़ो के पुरोधा - बैरिस्टर शिवदयाल सिंह चौरसिया (पूर्व राज्यसभा सांसद व वरिष्ठ सदस्य, काका कालेकर आयोग) को पढे ।।।।

    ReplyDelete
  4. नागवंश का जिक्र भी हम कई प्राचीन अभिलेखों और किताबों में पढ़ चुके हैं। आईये इस पोस्ट के माध्यम से
    हिंदू धर्म के दो भाग माने जाते हैं:– पहला वेद और दूसरा पुराण। नाग पूजा का प्रचलन पुराण पर आधारित है। माना जाता है कि मूलत: शैव, शाक्त, नाथ और नाग पंथियों में ही नागों की पूजा का प्रचलन था। वैष्णव आर्य तो परमशक्ति ब्रह्म (ईश्वर) के अलावा प्रकृति के पांच तत्वों की स्तुति करते थे। पुराणों में जो कुछ भी है उनमें आर्य और द्रविड़ दोनों की ही संस्कृति, वंश परंपरा और धर्म का इतिहास है। इसी कारण पुराण विरोधाभासी लगते हैं।

    भारत में आर्य, द्रविड़, दासों के साथ ही नागवंशी समाज का प्रचलन प्राचीनकाल से ही रहा है। मूलत: दो ही जातियां थीं- आर्य और द्रविड़। इन्हीं में से दास और नाग वंशियों की उत्पत्ति मानी जाती है। उक्त चारों की संस्कृति, परम्पराएं और रीति-रिवाज अलग-अलग माने जाते थे लेकिन आज सब कुछ घालमेल हो चला है। फिर भी यह अभी शोध का विषय बना हुआ है।

    नाग से संबंधित कई बातें आज भारतीय संस्कृति, धर्म और परम्परा का हिस्सा बन गई हैं, जैसे नाग देवता, नागलोक, नागराजा-नागरानी, नाग मंदिर, नागवंश, नाग कथा, नाग पूजा, नागोत्सव, नाग नृत्य-नाटय, नाग मंत्र, नाग व्रत और अब नाग कॉमिक्स।

    नाग और नागवंश : जिस तरह सूर्यवंशी, चंद्रवंशी और अग्निवंशी माने गए हैं उसी तरह *नागवंशियों की भी प्राचीन परंपरा रही है। लेकिन भारत के धार्मिक और सामाजिक इतिहास को सर्वसम्मत बनाकर कभी भी क्रमबद्ध रूप से नहीं लिखा गया इसीलिए विरोधाभास ही अधिक नजर आता है।

    महाभारत काल में पूरे भारत वर्ष में नागवंशीयो के समूह फैले हुए थे। विशेष तौर पर कैलाश पर्वत से सटे हुए इलाकों से असम, मणिपुर, नागालैंड तक इनका प्रभुत्व था। ये लोग सर्प पूजक होने के कारण नागवंशी कहलाए। कुछ विद्वान मानते हैं कि नागवंशी हिमालय के उस पार की थी। अब तक तिब्बती भी अपनी भाषा को ‘नागभाषा’ कहते हैं।

    एक सिद्धांत अनुसार ये मूलत: कश्मीर के थे। कश्मीर का ‘अनंतनाग’ इलाका इनका गढ़ माना जाता था। कांगड़ा, कुल्लू व कश्मीर सहित अन्य पहाड़ी इलाकों में नाग ब्राह्मणों की एक जाति आज भी मौजूद है।

    नाग वंशावलियों में ‘शेष नाग’ को नागों का प्रथम राजा माना जाता है। शेष नाग को ही ‘अनंत’ नाम से भी जाना जाता है। इसी तरह आगे चलकर शेष के बाद वासुकी हुए फिर तक्षक और पिंगला।

    वासुकी का कैलाश पर्वत के पास ही राज्य था और मान्यता है कि तक्षक ने ही तक्षकशिला (तक्षशिला) बसाकर अपने नाम से ‘तक्षक’ कुल चलाया था। उक्त तीनों की गाथाएं पुराणों में पाई जाती हैं।

    उनके बाद ही कर्कोटक, ऐरावत, धृतराष्ट्र, अनत, अहि, मनिभद्र, अलापत्र, कम्बल, अंशतर, धनंजय, कालिया, सौंफू, दौद्धिया, काली, तखतू, धूमल, फाहल, काना इत्यादी नाम से नागों के वंश हुआ करते थे। भारत के भिन्न-भिन्न इलाकों में इनका राज्य था।

    नाग कुल की भूमि : यह सभी नाग को पूजने वाले नागकुल थे इसीलिए उन्होंने नागों की प्रजातियों पर अपने कुल का नाम रखा। जैसे तक्षक नाग के नाम पर एक व्यक्ति जिसने अपना ‘तक्षक’ कुल चलाया। उक्त व्यक्ति का नाम भी तक्षक था जिसने राजा परीक्षित की हत्या कर दी थी। बाद में परीक्षित के पुत्र जन्मजेय ने तक्षक से बदला लिया था।

    ‘नागा आदिवासी’ का संबंध भी नागवंशीयो से ही माना गया है। छत्तीसगढ़ के बस्तर में भी नाग वंश तथा कवर्धा के फणि-नाग वंशियों का उल्लेख मिलता है। पुराणों में मध्यप्रदेश के विदिशा पर शासन करने वाले नागवंशीय राजाओं में शेष, भोगिन, सदाचंद्र, धनधर्मा, भूतनंदि, शिशुनंदि या यशनंदि आदि का उल्लेख मिलता है।

    पुराणों अनुसार एक समय ऐसा था जबकि नागवंशी समुदाय पूरे भारत (पाक-बांग्लादेश सहित) के शासक थे। उस दौरान उन्होंने भारत के बाहर भी कई स्थानों पर अपनी विजय पताकाएं फहराई थीं। तक्षक, तनक और तुश्त नागवंशी के राजवंशों की लम्बी परंपरा रही है।

    शहर और गांव : नागवंशियों ने भारत के कई हिस्सों पर राज किया था। इसी कारण भारत के कई शहर और गांव ‘नाग’ शब्द पर आधारित हैं। मान्यता है कि महाराष्ट्र का नागपुर शहर सर्वप्रथम नागवंशियों ने ही बसाया था। वहां की नदी का नाम नाग नदी भी नागवंशियों के कारण ही पड़ा। नागपुर के पास ही प्राचीन नागरधन नामक एक महत्वपूर्ण प्रागैतिहासिक नगर है। महार जाति के आधार पर ही महाराष्ट्र से महाराष्ट्र हो गया। महार जाति भी नागवंशियों की ही एक जाति थी।

    इसके अलावा हिंदीभाषी राज्यों में ‘नागदाह’ नामक कई शहर और गांव मिल जाएंगे। उक्त स्थान से भी नागों के संबंध में कई किंवदंतियां जुड़ी हुई हैं। नगा या नागालैंड को क्यों नहीं नागों या नागवंशियों की भूमि माना जा सकता है।

    - नागवंशी नव निर्माण सेन

    ReplyDelete
  5. Bhai nagvansh Mahabharata k bad bhi shasan me tha janmejai ne nagvansh ka Vinash kiya prachin ahichhatra nagari me nagvansh ka hi shasan tha.aj ki aheer jati ko aheer nam bhi janmejai ne nagvanshi rajawo k Vinas me sahyogi yadavo ko diya.aheer shabdo ahi+r se bana hai jisaka earth hai nagnashak aise hi Brahmano me nager bhi hai.

    ReplyDelete

हमारा वैश्य समाज के पाठक और टिप्पणीकार के रुप में आपका स्वागत है! आपके सुझावों से हमें प्रोत्साहन मिलता है कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का प्रयॊग न करें।