Friday, June 22, 2012

यह है माहेश्वरी समाज के ७२ उप कुल या नाम-MAHESHWARI GOTRA

mahesh_nav3_310


हिन्दू धर्म ग्रंथों के अनुसार शिव कृपा से शापग्रस्त ७२ क्षत्रियों को मिले जीवनदान से माहेश्वरी समाज के साथ ही उसके ७२ उप कुल, गोत्र या नाम की उत्पत्ति भी हुई। वह उपनाम, गोत्र या कुल इस प्रकार है- 

आगीवाल, अगसूर, अजमेरा, असावा, अटल

बाहेती, बिरला, बजाज, बदली, बागरी, बलदेवा, बांदर, बंग, बांगड़, भैय्या, भंडारी, भंसाली, भट्टड़, भट्टानी, भूतरा, भूतड़ा, भूतारिया, बिदाड़ा, बिहानी, बियानी 

चाण्डक, चौखारा, चेचानी, छप्परवाल, चितलंगिया, दाल्या, दलिया, दाद, डागा, दम्मानी, डांगरा, दारक, दरगर, देवपूरा, धूपर, धूत, दूधानी, 

फलोद, गादिया, गट्टानी, गांधी, गिलदा, गोदानी, 

हेडा, हुरकत,ईनानी, 

जाजू, जखोतिया, झंवर, 

काबरा, कचौलिया, काहल्या, कालानी, कलंत्री, कंकानी, करमानी, करवा, कसत, खटोड़, कोठरी, 

लड्ढा, लाहोटी, लखोटिया, लोहिया, 

मालानी, माल, मालपानी, मालू, मंधाना, मंडोवरा, मनियान, मंत्री, मरदा, मारु, मारू, मिमानी, मोडानी, मोहता, मोहाता, मुंदड़ा, 

नागरानी, ननवाधर, नथानी, नवलखाम, नवल या नुवल, नोवल, न्याती

पचीसिया, परतानी, पलोड़, पटवा, पनपालिया, पेडि़वाल, परमाल, फूमरा, राठी, 

साबू, सनवाल, सारड़ा, शाह, सिकाची, सिंघई, सोडानी, सोमानी, सोनी, 

तपरिया, ताओरी, तेला, तेनानी, थिरानी, तोशनीवाल, तोतला, तुवानी, जवर 



साभार : दैनिक भास्कर 

19 comments:

  1. Great post. I was checking continuously this blog and I'm impressed! Extremely useful information specifically the last part :) I care for such information much. I was seeking this particular info for a very long time. Thank you and best of luck.
    My blog : the author

    ReplyDelete
  2. क्या माहेश्वरी भी तेली है

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी नहीं, माहेश्वरी तेली नहीं होते हैं. माहेश्वरी एक अलग वैश्य जाति हैं..

      Delete
    2. माहेश्वरी गुप्ता लिखते है

      Delete
  3. माहेश्वरी तेली होते हैं. माहेश्वरी एक वैश्य जाति हैं......

    ReplyDelete
  4. माहेश्वरी तेली होते हैं. मध्यप्रदेश,राजस्थान में तेली माहेश्वरी भी लिखते है !

    ReplyDelete
  5. साहू,राठौर, तेली वैश्य होते है या नही?

    ReplyDelete
  6. साहू,राठौर, तेली वैश्य होते है या नही?

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी हाँ साहू, राठौर, तेली ये सब वैश्य बनिया होते हैं.

      Delete
  7. rajstan me Jodhpur pali or sumerpur me rah ne Vale ghanchi tali ya vashya nahi he they are Kshatriya ghanchi OK Kshatriya ghanchi kabhi tali nahi he bata Dena sab ko

    ReplyDelete
  8. rajstan me Jodhpur pali or sumerpur me rah ne Vale ghanchi tali ya vashya nahi he they are Kshatriya ghanchi OK Kshatriya ghanchi kabhi tali nahi he bata Dena sab ko

    ReplyDelete
    Replies
    1. श्रीमान भाटी जी, पुरे देश में तेली, साहू, घांची वैश्य माने जाते हैं. यह सभी वैश्य जातिया हैं. मोदी उपनाम केवल वैश्य समुदाय के लिए प्रयुक्त होता हैं, नरेन्द्र मोदी मोड़ घांची वनिक समुदाय से हैं, जो की गुजरात का प्रमुख वैश्य समुदाय हैं. वर्तमान में क्षत्रिय जाति केवल राजपूत हैं. वैश्यों की वर्तमान जातिया कभी क्षत्रिय हुआ करती थी. युद्ध काल में युद्ध लडती थी और शान्ति काल में व्यापार करती थी. जब यह क्षत्रिय जैन तीर्थान्कारो और भगवान् बुद्ध के संपर्क में आये, इन्होने हिंसा व बलि प्रथा को छोड़ कर वैश्य वर्ण अपना लिया. मैं घांची तेली आदि के बारे में कुछ लिंक दे रहा हूँ..

      १. en.wikipedia.org/wiki/Teli
      २. en.wikipedia.org/wiki/Ghanchi
      ३. http://teliindia.com/

      Delete
    2. Kya ghanchi Samaj or rathor teli me shadi ho skti h Kya

      Kya proof h ki cast same h

      Delete
    3. Me Kota Rajasthan SE rathor teli Hu jbki bndi jodhpur SE ghanchi borana h

      Plzz agr h koi proof to btaiye

      Delete
  9. Lohiya koun hote hai ye obc me aate hai kya

    ReplyDelete
  10. Lohiya koun hote hai ye obc me aate hai kya

    ReplyDelete
    Replies
    1. लोहिया वैश्य होते हैं. लोहिया ओबीसी नहीं होते.

      Delete
  11. Poddar kon hote hai .?kya ye obc me aate hai..?

    ReplyDelete
  12. हमारी जाती माहेश्वरी शिंपी लिखी जाती है। मुल राजस्थान से है। लेकीन फिलहाल महाराष्ट्र में फैले है। इस सबंध में और कुछ आप से जाणना है।

    ReplyDelete

हमारा वैश्य समाज के पाठक और टिप्पणीकार के रुप में आपका स्वागत है! आपके सुझावों से हमें प्रोत्साहन मिलता है कृपया ध्यान रखें: अपनी राय देते समय किसी प्रकार के अभद्र शब्द, भाषा का प्रयॊग न करें।