Friday, August 11, 2017

सूरत अग्रवाल समाज

loading...

loading...


Tuesday, August 1, 2017

Thursday, July 27, 2017

SUSHEEL KUMAR MODI - सुशील कुमार मोदी


बिहार के उप मुख्यमंत्री

सुशील कुमार मोदी (जन्म 5 जनवरी 1952) भारतीय जनता पार्टी के राजनीतिज्ञ और बिहार के तीसरे उपमुख्यमंत्री रह चुके हैं। वे बिहार के वित्त मंत्री भी रह चुके हैं।

शुरुआती जीवन

मोदी का जन्म 5 जनवरी 1952 को एक वैश्य मारवाड़ी परिवार में पटना में हुआ था। इनके माता का नाम रत्ना देवी तथा पिता का नाम मोती लाल मोदी था। इनका विद्यालय जीवन पटना के सेंट माइकल स्कूल में हुई। इसके बाद इन्होने बी.एस.सी. की डिग्री बी.एन. कॉलेज, पटना से प्राप्त की। बाद में इन्होने एम.एस.सी. का कोर्स छोड़ दिया और जय प्रकाश नारायण द्वारा चलाये गए आंदोलन में कूद पड़े।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के साथ

भारत-चीन युद्ध, 1962 के दौरान मोदी खासे सक्रिय थे और आम नागरिकों को शारीरिक फिटनेस व परेड आदि का प्रशिक्षण देने के लिये सिविल डिफेंस के कमांडेंट नियुक्त किये गये थे। उसी साल नौजवान सुशील ने आरएसएस यानी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की सदस्यता ज्वाइन की। 1968 में उन्होंने आरएसएस का उच्चतम प्रशिक्षण यानी अधिकारी प्रशिक्षण कोर्स ज्वाइन किया जो तीन साल का होता है। मैट्रिक की पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने आरएसएस के विस्तारक (पूर्ण कालिक वर्कर) की भूमिका में दानापुर व खगौल में काम किया और कई स्थानों पर आरएसएश की शाखाएं शुरु करवायीं। बाद में उन्हें पटना शहर के संध्या शाखा का इंचार्ज भी बनाया गया। मोदी के परिवार का रेडीमेड वस्त्रों का पारिवारिक कारोबार था और घर वाले चाहते थे कि वे कारोबार संभालें, लेकिन उन्होंने इस इच्छा के विपरीत जाकर सेवा का रास्ता चुना।

Wednesday, July 19, 2017

ARPAN DOSHI - ब्रिटेन में सबसे कम उम्र का डॉक्टर बना भारतीय



भारतीय मूल के डॉक्टर अर्पण दोषी उत्तर-पूर्वी इंग्लैंड के यॉर्क टीचिंग हॉस्पिटल में जूनियर डॉक्टर के तौर पर प्रैक्टिस शुरू करेंगे।

लंदन, प्रेट्र : भारतीय मूल के डॉक्टर अर्पण दोषी उत्तर-पूर्वी इंग्लैंड के यॉर्क टीचिंग हॉस्पिटल में जूनियर डॉक्टर के तौर पर प्रैक्टिस शुरू करेंगे। यह प्रैक्टिस दो साल तक चलेगी। माना जा रहा है कि वे ब्रिटेन के सबसे कम उम्र के डॉक्टर हैं।शेफील्ड यूनिवर्सिटी से अर्पण ने सोमवार को 21 साल और 335 दिन की उम्र में डॉक्टरी की पढ़ाई पूरी की। इससे पहले रसेल फेहिल सबसे कम उम्र के डॉक्टर के रूप में मशहूर थे। लेकिन, अर्पण ने उनसे 17 दिन कम उम्र में डिग्री ली है।

अर्पण कहते हैं कि मैं हमेशा से डॉक्टर बनना चाहता था। मुझे पढ़ाई के दौरान उम्र को लेकर किसी तरह की कोई परेशानी नहीं आई। मानव शरीर आखिर काम कैसे करता है, इसे बारे में मैं बचपन में अक्सर सोचता था। डॉक्टर बनकर दूसरों की मदद करने की भी सोच थी।साल 2009 में अर्पण भारत से फ्रांस चले गए, जहां उनके पिता को परमाणु परियोजना में नौकरी मिली। वहां उन्होंने स्थानीय विश्वविद्यालय में एडमिशन लिया।

16 साल की उम्र में उन्होंने अंतरराष्ट्रीय स्तर की प्रवेश परीक्षा पास की। यह परीक्षा फ्रांस में ही ली गई थी। इसमें उन्हें भौतिकी, रसायन विज्ञान, अर्थशास्त्र, गणित, अंग्रेजी और हिंदी की परीक्षा पास करनी पड़ी। प्रवेश परीक्षा में उन्हें 45 में से 41 अंक प्राप्त हुए थे जिसके बाद शेफील्ड यूनिवर्सिटी ने 13 हजार पाउंड की स्कॉलरशिप प्रदान की। भारत लौट चुके अपने माता-पिता के बारे में वे कहते हैं कि उनको मुझ पर गर्व है। उन्होंने हमेशा मुझे प्रोत्साहित किया है।

साभार:  jagran.com/news/world-indian-made-youngest-doctor-in-britain-16401274.htmlI

9 Things You Will Relate To If You Are Getting Married To A Marwari



Big pockets and humble hearts, the Marwari culture is one of its own kind. These people love to live colourful lives. Traditional and deeply rooted, Marwaris are amongst the most vibrant people on this planet. If you are getting married to a Marwari, you will be able to relate to these situations very well.

Alcohol is not their cup of tea. Well, we know that your empty glass must be weeping, but this is the hard truth. Do not worry though, they have so many amazing non-alcoholic drinks to offer that you won’t even miss your booze.

#2. Food festival

GIF via Giphy

Marwaris are die-hard foodies and all their get togethers, especially the weddings, are a living proof of that. Dal baati churma, gatte and kadhi, their buffets are the most lavish ones; so you better work on your appetite! Despite non-vegetarian food being a strict no, their feasts are great.

#3. Sangeet or dance competition

GIF via Bollypop

Marwaris are very particular about their sangeet. They will hire the best choreographers, set up the best stage and call the best DJ for the sangeet. We are sure that you must have been mesmerised by their breathtaking performances.

#4. Culture 

Marwari culture is full of colours. Whether it is the food, the decorations, the clothes or the drinks, everything is inspired by colourful confetti. Your life will never be dull as your dresses will always include lots of sparkle.

#5. You will be pampered like crazy

Image: Instagram

Marwaris love to pamper their bahus and damads. You will be put on a pedestal and pampered like a VIP. Only the best of the best is served to you because you are special for them.

#6. You will put on weight

GIF via Tumblr

We do not want to scare you, but all the amazing food and pampering will make you put on weight. Sweets will be shoved in your mouth along with other delicious things. All this will be done with a big smile that you would not be able to deny. So, get your sweatpants ready.

#7. Wedding planning is serious

Image: Love Breakups Zindagi

Marwaris are known for their big fat Indian weddings. The weddings that they organise are nothing short than carnivals. We are sure that you must have been a part of numerous discussions related to the decor and catering.

#8. Money is honey

Image: Tribhovandas Bhimji Zaveri TVC

If you are getting married to a Marwari, you will be showered with money. A major part of the gifts given to you will be hard cash. And if not money, it will be jewellery because the motive of giving gifts is investment.

#9. Keep up with your knowledge

Image: Swaragini

Marwaris are not just about food, clothes and weddings, they are actually very smart people. Their knowledge on politics, economics and general affairs is commendable. You will have to do some homework because you are in for a lot of intelligent debates.

If you are getting married to a Marwari, you are in for a roller coaster ride. You are going to enjoy each and every moment of your life from now onwards. Just embrace all the bling and you are good to go!

SABHAR: bollywoodshaadis.com/articles/things-you-will-relate-to-if-you-are-getting-married-to-a-marwari-6507,  By Ojasvee 

7 secrets that make Marwaris so good in business



What makes Marwaris so successful in business? 

According to Thomas A Timberg’s book, The Marwaris: From Jagath Seth to the Birlas, there are seven secrets of Marwari businessmen which are still valid "and perhaps will remain so". 

1) Watch the money 

There are two key functions performed by the Marwari business firms and business groups – strategic management of investment funds by moving them to where they are most productive in the long term and close financial monitoring of the enterprises in which they have a share. 

It is perhaps the changes in Harsh Goenka and Kumar Mangalam Birla’s business styles that point to a dilution of finance-centric strategies in present times. 

2) Delegate but monitor 

Successful business have to learn how to delegate, otherwise the span of economic activity can engage in will be limited. 

They also have to know when to intervene, fully aware that a decision to intervene is costly. Usually it is easier to replace an unsatisfactory executive rather than turn him around. Ineffectual executives and family members are gently moved out to cushy and uncritical positions. 

Experience the power of storytelling through photos.

3) Plan, but have a style and a system 

This is somewhat ambiguous as we clearly see a transition from an intuitive style to a more systematic one. However, this may be, as some suggest, a product of the transition from business founders to inheritors. 

4) Lead to expand and do not let the system inhibit growth 

A key characteristic of successful businessmen is a drive to expand. Many forms have expansion in their mission statements but few implement it. 


5) The right corporate culture 

The firm or group must have a style which befits its market and the times. Changes or adjustments constitute one of the most difficult tasks. 

Corporate culture in a firm is critical in inspiring loyalty, especially of competent managers. Financial incentives can go only thus far, and are sometimes counterproductive. 

6) Don’t get blown away by fads 

The shelf life of half the management fads is six months. Professors, including those from business schools, devise striking and attractive theories which bear no responsibility for success. 

A responsible manager has to be more tentative and experimental in his approach. As any school debater knows, there are usually at least two sides to any question, even multiple sides as in the Anekantavada of Jain logic. The problem is to decide which is right in a given situation. 

7) Do not miss new developments 

Some businesses describe themselves as ‘knowledge businesses’. As a matter of fact, all are. The world’s oldest family businesses have had some very successful ventures and a lot of failed ones because of missed opportunities. 

SABHAR: ECONOMIC TIMES 

MARWADI'S ROCK


वैश्य समाचार












साभार: अग्रवाल टुडे 

अग्रवाल समाज में गोत्र


साभार: अग्रवाल टुडे 

DR. RADHIKA AGRAWAL- VAISHYA GOURAV


साभार: अग्रवाल टुडे 

BHAVISHYA AGRAWAL - VAISHYA GOURAV


साभार: अग्रवाल टुडे 

PRIYANKA AGRAWAL - VAISHYA GOURAV


साभार: अग्रवाल टुडे 

Tuesday, July 18, 2017

ANJLI SARAVAGI - अंजली सरावगी, मैराथन एथलीट

Meet 43-year-old Anjali Saraogi, first Indian woman to finish oldest marathon

Meet 43-year-old Anjali Saraogi, the first Indian woman to have run the complete 89-km stretch of the Comrades Marathon. She won the Bill Rowden Medal for her effort in the world’s oldest annual ultra-marathon that takes place between the cities of Durban and Pietermaritzburg in South Africa.

Anjali started running only two years back at an age when many athletes hang up their boots. She has proven yet again that age is just a number.

She took to the road when her 18-year-old daughter Mamta encouraged her to participate in a city marathon two years ago. When she finished first, Anjali realised how much she enjoyed running and vowed to continue as long as she could. In an interview with IANS, she said,

Women usually undermine themselves. In my opinion, our fears are our greatest limitations. And we should spend more time living with our dreams than our fears.

She further added,

I thought of starting an international career after I came second the same year at the Mumbai Half Marathon, the first international running event I participated in.


However, for Anjali, who runs a medical diagnostic centre with her husband, life on the road has not always been that smooth. Her career as an athlete received a major blow when she was injured while preparing for the Chicago Marathon earlier this year. The doctors told her that she will not be able to run ever again.

But a friend gifted her Dare to Run, a book by Amit Seth who was the first Indian to complete the Comrades Marathon in 2009. The book motivated Anjali to move forward despite her injuries. Talking about the challenges she had to overcome, she said,

My father and my husband were very concerned about my health when I took this challenge because I was very new to this. But looking at my consistency, they started supporting me in the end.

Growing up, Anjali was a plump girl, which made her feel insecure. But once she started running, along with becoming fit and healthy, she was also able to overcome her insecurities.

Now, she has set a target with her family’s support to beat her own time record and finish the downhill race in next year’s Comrades Marathon. She also plans on finishing the Comrades Marathon with her daughter sometime in the future.

SABHAR: 

yourstory.com/2017/07/anjali-sarogi-indian-woman-comrades-marathon/7/18/2017

DIPINDER GOYAL - दीपिंदर गोयल, युवा उद्योगपति

पढ़ाई में दो बार फैल होने के बावजूद देश की पहली ग्लोबल इंटरनेट कंपनी बनाने वाले एक युवा उद्यमी

यह कहानी देश के ऐसे पहली पीढ़ी के युवा उद्यमी के बारे में है जिन्होंने खुद की जिंदगी में आई एक छोटी सी परेशानी को बिज़नेस आइडिया में तब्दील कर एक सफल स्टार्टअप का निर्माण किया। आपको यकीन नहीं होगा यह कहानी जिस शख्स के बारें में है वो बचपन में न ही कोई मेधावी छात्र थे, यहाँ तक की उन्हें दो बार असफलता का भी स्वाद चखना पड़ा था। लेकिन आज ये एक ऐसे सफल कारोबार के मालिक हैं जिसका साम्राज्य 23 से भी ज्यादा देशों में फैला है। देश की पहली ग्लोबल इंटरनेट कंपनी बनाने का दम रखने वाले इस शख्स की कहानी बेहद प्रेरणादायक है।


दीपिंदर गोयल आज भारतीय इंटरनेट जगत के सबसे बड़े कारोबारी में से एक हैं। गोयल ज़ोमैटो नाम की एक फूड वेबसाइट की आधारशिला रखी जहाँ 23 देशों के 12 लाख रेस्तरां की जानकारी उपलब्ध है। गोयल बचपन से ही पढ़ने-लिखने में ज्यादा सीरियस नहीं थे लेकिन छठी कक्षा में फेल होने के बाद उन्हें समझ में आ गया कि पढ़ाई को लेकर सीरियस होने की आवश्यकता है। इसके बाद उन्होंने काफी कड़ी मेहनत की और अपने स्कूल में टॉप आये।


दसवीं में शानदार प्रदर्शन करते हुए उन्होंने चंडीगढ़ के डीएवी कॉलेज में दाखिला लिया और लेकिन पहले ही वर्ष फेल हो गए। लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और पढ़ाई को जारी रखा। उनके जीवन में सबसे बड़ा बदलाव तब आया जब उन्होंने पहली बार में आईआईटी-जेईई की परीक्षा पास कर ली।

डिग्री पूरी होते ही उन्हें ‘बेन एंड कंपनी’ में बतौर कंसल्टेंट की नौकरी कर ली। नौकरी के दौरान ही दीपिंदर और उनके दोस्तों को ऑफिस की कैफेटेरिया में लंच की मेन्यू देखने के लिए लंबी कतार में इंतजार करना पड़ता था। एक तो पहले से भूख कगी रहती थी और उपर से लाइन में खड़े रहकर इंतजार करना, यह बेहद मुश्किल था। इससे उनका काफी वक्त बर्बाद होता था। दीपिंदर के मन में मैन्यू कार्ड स्कैन करके साइट पर अपलोड करने का विचार सूझा। देखते ही देखते साइट पॉपुलर हो गई। और फिर इससे प्रेरित होकर दीपिंदर ने एक फूड पोर्टल खोलने का इरादा बनाया।


इस आइडिया को उनके सहकर्मी पंकज चड्ढा ने सराहा और उनका साथ देने का फैसला किया। फिर दोनों दोस्तों ने मिलकर 2008 में नौकरी के दौरान ही ऑनलाइन फूड पोर्टल फुडीबे डॉट कॉम की शुरुआत की। इस वेबसाइट के जरिए लोगों को उनके लोकेशन के अनुसार कीमत और लोकप्रियता के आधार पर रेस्टोरेंट्स की खोज मुहैया करता था।

करीबन एक साल तक फुडीबे को चलाने के बाद दीपिंदर को अहसास हुआ कि फ़ूड सेक्टर में अपार संभावनाएं हैं। फिर उन्होंने अपने नौकरी को अलविदा पर इस प्रोजेक्ट पर पूरा ध्यान देने शुरू कर दिए। साल 2010 के आखिर में उन्होंने फुडीबे का नाम बदलने का फैसला लिया। एक छोटा और याद रखने में आसान होने वाले नाम का चयन करते हुए उन्होंने ज़ोमैटो डॉट कॉम से कंपनी का पुनर्निर्माण किया।

आज ज़ोमैटो एक रेस्टोरेंट डिस्कवरी वेबसाइट और मोबाइल एप के जरिए पूरी दुनिया में तहलका मचा रही। इस पर रेस्टोरेंट्स के मेन्यू की इंफॉर्मेशन, फोटो, रिव्यूज और उनकी कॉन्टैक्ट डिटेल्स होती हैं। कंपनी की वेबसाइट पर 36 शहरों के 1,80,500 रेस्टोरेंट्स की डिटेल हैं। जोमाटो अभी भारत सहित 23 से भी ज्यादा देशों में है। आज ज़ोमैटो दुनिया के सबसे सफल स्टार्टअप में से एक है जिसका मार्केट वैल्यूएशन 7000 करोड़ के आस-पास है।

दीपिंदर के लिए अच्छे पैकेज वाली नौकरी छोड़कर खुद का कारोबार में पूरा समय देने के लिए निर्णय लेना बिलकुल आसान नहीं था।चूंकि वो एक मध्यम-वर्गीय परिवार से ताल्लुक रखते थे इसलिए माता-पिता को आंत्रप्रेन्योरशिप के लिए राजी करने में बहुत मुश्किल हुई। उनके माता-पिता शुरू में बिलकुल खुश नहीं थे। लेकिन उनकी पत्नी हमेशा साथ खड़ी रहीं।


दीपिंदर ने अपने दिल की सुनी। पूरी मेहनत से फल की चिंता किये अपने प्रोजेक्ट पर काम करते चले गये। और अज पूरी दुनिया उनकी सफलता देख रही है।
साभार:
hindi.kenfolios.com/zomato-founder-deepinder-goyal/

by Abhishek Suman1/27/2017

NAVYA AGRAWAL - नव्या अग्रवाल

25 साल की यह लड़की अपनी शिल्पकला से सालाना करोड़ों रूपये की कर रही आमदनी

प्रत्येक व्यक्ति में कुछ न कुछ हुनर छुपा होता बस फर्क है तो केवल इतना कि कुछ लोग अपने हुनर को समय पर पहचान कर उसे तराशने लगते है औरकुछ लोगों को उनके हुनर और क्षमताओं का ज्ञान कराना पड़ता है। आज की हमारी कहानी भी एक इसी तरह दूसरों के हुनर को तलाश कर एक नयीपहचान दिलाने वाली लड़की की है।

एक IAS की पत्नी और एक सफल व्यवसायी की पुत्री नव्या अग्रवाल ने सीतापुर में बंद हो रहे कुटीर उद्योगों को नया जीवन देकर एक मिसाल कायमकी है साथ ही एक नए व्यवसाय को जन्म देकर जरूरत मंदो लोगों को रोजगार भी मुहैया कराया।उत्तर प्रदेश जैसे बड़े राज्य के छोटे से शहर सीतापुर सेबहुत दूर बंगलौर में डिजाइनिंग की पढ़ाई करने गयी नव्या अग्रवाल हमेशा से ही एक सपना देखा था उन लोगों की मदद करने का जिनमें प्रतिभा तो है परन्तु उनकी प्रतिभा को उचित मार्गदर्शन प्राप्त नही होता, संसाधनों और अवसरों के आभाव में उनका हुनर कही खो सा जाता है। नव्या चाहती तोबंगलौर से डिजाइनिंग का कोर्स करने के बाद अपने पिता का व्यवसाय अपना सकती थी या किसी बड़ी मल्टीनेशनल कम्पनी में अच्छी ख़ासी नौकरी करसकती थी लेकिन उन्होंने ऐसा नही किया। नव्या ने डिजाइनिंग का कोर्स करके रुख किया सीतापुर का और निकल पड़ी प्रतिभाओं की तलाश में ,उन्हेंउनके ही शहर में ऎसे कई हुनरमंद लोग मिलने लगे और उनका इरादा मजबूत होता गया। नव्या के पापा ने हमेशा उनसे यही कहा कि अगर आप में कुछकरने की इच्छा है तो बिना डरे हुए उसे पूरा करें।

नव्या ने देखा की सीतापुर में लकड़ी के उपयोग से विभिन्न प्रकार की कलात्मक सामग्री बनाना लोगो को बखूबी आता है बस आवश्यकता है तो प्रोत्साहनऔर संसाधनों की इसी विचार के साथ जब नव्या ने अपने पिता के व्यवसाय से हटकर लकड़ी के उत्पादों पर काम करने का मन बनाया। अपनी माँ अंशुअग्रवाल को नव्या अपनी प्रेरणा मानती है उनकी माँ एक इंग्लिश टीचर है जिन्होंने नव्या द्वारा तलाशे गए कारीगरों को समझाया उन्हें प्रशिक्षण दियाऔर आज वे नव्या की वर्कशॅाप का अहम हिस्सा हैं। साथ ही नव्या ने अपने कोर्स के दौरान लकड़ी के साथ बेसिक मशीनरी की मदद से काम किया थाजिससे उन्हें कई आवश्यक जानकारी इस क्षेत्र में हो चुकी थी। एक निश्चय के साथ उन्होंने मात्र साढ़े तीन लाख रूपये की पूंजी के साथ कारोबार शुरूकिया। एक ओर भारत में जहाँ कुटीर उद्योगों का अस्तित्व खत्म होता नज़र आ रहा है वही नव्या की पहल सीतापुर के कुटीर उद्योगों को एक नयाजीवन दे रही है । इस तरह से सीतापुर से शुरू हुआ नए प्रकार का उद्योग नई नई प्रतिभाओं को जन्म दे रहा है। फ़िलहाल लकड़ी के उत्पादों के निर्माण में15 प्रशिक्षित लोगों को रोजगार मिल चुका है।


नव्या अपने शुरूआती सफ़र के बारे में कहती है की ” मैंने साल 2013 में 23 साल की उम्र में “आई वैल्यू एवरी आइडिया” (IVEI) की नींव रखी थी।जिसका मतलब होता है आपके हर विचार का हम सम्मान करते हैं।“ सीतापुर में नव्या द्वारा इस उद्योग का श्री गणेश किया गया। “आई वैल्यू एव्रीआइडिया” नाम के NGO के अंतर्गत सीतापुर के विजय लक्ष्मी नगर के गजानन भवन में पॉपुलर की लकड़ी से बने कलात्मक उत्पादों का निर्माणवर्तमान में पुरे भारत में अपनी एक अलग पहचान बना चूका है। आई.वी.ई.आई ने इन कारीगरों के कौशल को निखारा और उसको नया रुप दिया। नव्याबताती है “मैंने देखा कि इन लकड़ी के कारीगरों के पास स्किल है पर फिर भी इनके परिवार अनेक परेशानियों का सामना कर रहे हैं और आर्थिक रूप सेसक्षम नही है और बिना टेक्नोलॉजी की मदद के यह कारीगर लकड़ी की खूबसूरत वस्तुऐं बना रहे थे। बस इनके पास एक्सपोजर की कमी थी।“

नव्या ने करीब 15 लोगों को पॉपुलर की लकड़ी से तरह तरह के ख़ूबसूरत सामानों को बनाने के लिए प्रशिक्षित किया जिसमें करीब पांच लड़कियां भीशामिल हैं। और मौजूदा वक्त में उनके कारखाने में निर्मित ज्वेलरी बॉक्स, ट्रेडिशनल हुक्स, कॉस्टर्स, अगरबत्ती स्टैंड, वुडेन ट्रे, गिफ्टकार्डस, पेन ड्राइवर्ससहित करीब 10 दर्जन से अधिक कलात्मक वस्तुओं का निर्माण किया जा रहा है। साथ ही उनका सामान ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट फ्लिपकार्ट, अमेजॉन, फैबफर्निश, स्नैपडील, शॉपक्लूज के जरिये देश के दूर दराज शहरों में तक पहुंचाया जा रहा है और महज कुछ ही समय में लगभग सालाना 15 लाख का टर्न ओवर भी आई.वी.ई.आई द्वारा किया जा रहा है।

नव्या के कारखाने में निर्मित उत्पाद वैसे तो दिल्ली, मुम्बई, बंगलौर जैसे शहरों में खूब पसंद किये जा रहे हैं, लेकिन उनके सामान की सर्वाधिक मांगदक्षिण भारत में है क्योंकि लकड़ी के बने उत्पादों को दक्षिण भारतीय लोग अधिक पसंद करते हैं। नव्या के सीतापुर आई.वी.ई.आई में बने उत्पादों कीलोकप्रियता का आलम यह है कि यहां के उत्पादों को बेचने के लिए दिल्ली, बंगलौर और चेन्नई के व्यापारियों ने तो रिटेल आउटलेट भी खोल दिए है।नव्या अपने उद्योग के बारे में बात करते हुए कहती है की ” हमारे यह बने लकड़ी के चाबी के गुच्छे और दीवार घड़ी को लोगों द्वारा खासा पसंद कियाजाता है। और साथ ही साथ आई.वी.ई.आई के प्रयासों ने लोगों को अन्य उत्पादों से भी रूबरू कराया जिसका असर इन बड़े शहरों में खासकर देखा जा रहाहै।“

नव्या के इस उद्योग ने सीतापुर की प्रतिभा को देशव्यापी पहचान दिलवाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया साथ ही हुनरमंद लोगो के हुनर को अवसर औरसंसाधन भी मुहैया करवाए है जिससे उनकी जीविका सुचारू रूप से चल रही है। आई.वी.ई.आई के जरिये नव्या कुटीर उद्योगों को बढ़ावा दे रही है तोदूसरी ऒर उनकी कोशिश लोगों के घरों तक अपना सामान पहुचाने की है। इसलिए उन्होंने बच्चों के खिलौनों और घरेलू उत्पादों को भी प्रमुखता दी है।इसलिए नव्या ने अपने कारखाने में स्नैक बाउल्स, मिनी फर्नीचर सेट, बच्चों की गुल्लक, पजल राइटिंग बोर्ड, हॉबी बोर्ड्स, पिन बोर्ड्स, फोल्डिंग टेबल, खिलौनों में ट्रक आर्गेनाइजर, यूटिलिटी कैलेंडर आदि के निर्माण और डिजाइन पर आवश्यकरूप से कार्य किया है।

नव्या को ये सफलता इतनी आसानी से नही मिली है नव्या को भी अपने स्टार्टअप को शुरु करने में अनेक चुनौतियों का सामना करना पड़ा। नव्या केआगे सबसे मुश्किल थी उन कलाकारों का विश्वास जितना जिनके साथ वो काम करना चाहती थी साथ ही साथ उनके आत्मविश्वास को बढ़ाना औरउनके आत्मसम्मान की रक्षा करना । काफी मेहनत के बाद नव्या के प्रयास रंग लाये और कुछ कारीगर उनके साथ काम करने के लिए राजी हुए। औरधीरे धीरे सफ़लता की सीढ़ी चढ़ते हुए अन्य कारीगर भी नव्या पर विश्वास करने लगे और साथ काम करने का मन बनाने लगे। आज नव्या के साथआस–पास के जिलों जैसे लखीमपुर खीरी, हरदोई आदि के भी कारीगर भी साथ काम कर रहे है।जिनमें बड़ी संख्या में महिलायें हैं। अब नव्या का लक्ष्य पुरेराज्य में कारीगरों को प्रोत्साहित करना है और उनके हुनर को नयी पहचान दिलानी है।आज उत्तरप्रदेश के इन कारीगरों की हस्तशिल्प कला को देखकरहर कोई दांतो तले उंगलियां दबाने पर मजबूर हो जाता है।आई.वी.ई.आई की भविष्य की योजना बताते हुए नव्या केवल इतना कहती है की “मोरआर्टिज़न, मोर डिजाइन, मोर हैप्पीनेस “

नव्या इस बात को पूरी तरह से नकारती है की शादी के बाद आपके सपने कही खो जाते है उनका मानना है की अगर आपके अंदर अपने सपनो को पूराकरने का जूनून है तो मंजिल तक जाने के लिए रस्ते अपने आप बनते चले जाते है। नव्या कहती है “मेरी शादी ने मुझे रुकने नहीं दिया। आज मैं एकबच्चे की मां भी हूं। मैं एक प्रोडेक्ट ग्राफिक डिजायनर हूं और आई.वी.ई.आई मेरा स्वाभिमान मेरी पहचान है। सफलता की सिर्फ एक परिभाषा है की आपखुद सफल बनो।” नव्या सही मायनों में कुटीर उद्योग को बढ़ावा दे रहीं हैं और इन उद्योगों के लिए संजीवनी बनकर उभरी हैं।

साभार:
hindi.kenfolios.com/success-story-a-small-town-with-the-help-of-wooden-craftsmen-business/

by Himadri Sharma7/18/2017

CA फाइनल परीक्षा में वैश्य समाज का जलवा


साभार : दैनिक भास्कर 

बहादुर बाइकर अग्रवाल लडकिया

loading...
साभार दैनिक भास्कर